Articles Hub

a short hindi story with moral value- जंगल का राजा

a short hindi story with moral value, short moral stories for kids , panchatantra short stories, panchatantra tales, बच्चों के लिए प्रेरणादायक कहानियां
हम हर दिन एक से बढ़कर एक प्रेरणादायक कहानिया प्रकाशित करते हैं। इसी कड़ी में आज हम जंगल का राजा a short hindi story with moral value प्रकाशित कर रहे हैं।आशा है ये आपको अच्छी लगेगी।
लेखक- संजीव

a short hindi story with moral value

एक बार जंगल में छोटे जीवो के बीच राजा चुनने की कवायद हुई। अपने उम्मीदवारी पेश करने में सांप, चूहा, खरगोश और कॉक्रोच आगे थे। सबसे पहले खरगोश ने कहा की मैं इस पद के लिए उपयुक्त उम्मीवार है क्यूंकि वो सब जीवो में सबसे तेज़ दौड़ सकता है और किसी भी खतरा होने की स्थिति में तुरंत ही सबको चौकन्ना कर सकता है। इसके बाद चूहे ने कहा की वो पद के लिए सबसे उपयुक्त दावेदार है क्यूंकि वो बिल बनाने में माहिर है और किसी भी खतरे की होने की स्थिति में सभी को बिल बना कर सुरक्छित बचा लेगा। अब कॉक्रोच की बारी थी, उसने बोला की वो किसी भी परिस्थिति में रह सकता है और सबसे मजबूत है, इसीलिए उसी को राजा बनना चाहिए। जब सब बोल चुके तो सांप ने बोला की सब किसी ना किसी में माहिर हैं पर किसी में भी मेरे जितने ताकत नहीं है। मेरे अंदर भयंकर विष है और मैं किसी भी आने वाले शत्रु को मार सकता हूँ। इसीलिए राजा मुझे ही बनना चाहिए। साँप की दावेदारी सबको मजबूत लगी और सबने उसको राजा बनाने की तैयारी शुरू कर दी।
और भी प्रेरणादायक कहानियां पढ़ना ना भूलें==>
मजदूर और होटल वाले की प्रेरक कहानी
विश्व के सर्वश्रेष्ठ विचारों का संग्रह
मदद करने का फल
कुत्ते और भेड़िये की प्रेरणादायक कहानी






a short hindi story with moral value, short moral stories for kids , panchatantra short stories, panchatantra tales, बच्चों के लिए प्रेरणादायक कहानियां
वहां पर एक नेवला ये बैठ कर सब देख रहा था और उसने कहा की सांप राजा पद के लिए सही नहीं है क्यूंकि वो डरावना है और वो हमारी तरह दीखता भी नहीं है क्यूंकि इसको चार पैर भी नहीं हैं। और इसके पास कोई भी अपनी समस्या लेकर जाने से डरेगा। ये बात सुनकर सभी चुप हो गए और सभी ने माना की सांप को राजा नहीं बनाया जा सकता है। चुकी शाम हो चुकी थी इसीलिए सब अगले दिन फिर से राजा चुनने के लिए एकत्रित होने की बात कहकर चले गए। ये सब देखकर सांप नेवले से बहुत क्रोधित हुआ और उससे कहा की तुम्हारी वजह से मैं राजा नहीं बन पाया इसीलिए अब से तुम और मैं शत्रु हुए और तभी से सांप और नेवले में भयंकर शत्रुता चली आ रही है।

कहानी से सीख- हर जगह बिना वजह अपनी राय व्यक्त नहीं करनी चाहिए और हमेशा सोच समझकर बोलना चाहिए।
मैं आशा करता हूँ की आपको ये “a short hindi story with moral value” आपको अच्छी लगी होगी। कृपया इसे अपने दोस्तों और रिश्तेदारों के साथ फेसबुक और व्हाट्स ऍप पर शेयर करें। धन्यवाद्। ऐसी ही और कहानियों के लिए देसिकहानियाँ वेबसाइट सब्सक्राइब करें।

a short hindi story with moral value




loading...
You might also like