Articles Hub

a short hindi story with moral values -सांप और चालक चूहे की कहानी

a short hindi story with moral values, short moral stories for kids , panchatantra short stories, panchatantra tales, बच्चों के लिए प्रेरणादायक कहानियां
हम हर दिन एक से बढ़कर एक प्रेरणादायक कहानिया प्रकाशित करते हैं। इसी कड़ी में आज हम सांप और चालक चूहे की कहानी a short hindi story with moral values प्रकाशित कर रहे हैं।आशा है ये आपको अच्छी लगेगी।
लेखक- संजीव

a short hindi story with moral values

एक घने जंगल में जमीन के नीचे बने बिल में एक चूहा परिवार के साथ था.उनका जीवन अच्छे से कट रहा था। दोनों चूहा और चुहिया हर दिन खाने की तलाश में बाहर जाते और शाम तक वापस आते थे। एक दिन वो इसी तरह वो सुबह गए और शाम को आने पर देखा की उनके चार बच्चों में से एक गायब है।बांकी बच्चे भी बहुत डरे सहमे हुए थे। बहुत पूछने पर उन्होंने बताया की कुछ देर पहले एक सांप आया था और उसने उनके भाई को मरकर खा लिया। चूहा ये सब सुनकर सोच में पड़ गया और वो समझ गया की साँप वापस बचे हुए तीन बच्चों को खाने अवश्य आएगा। और पूरे परिवार को कही और ले जाने से फायदा नहीं क्यूंकि सांप उनकी गंध सूंघकर पीछे पीछे आए जायेगा। इसीलिए तेज दिमाग चूहे ने एक उपाय सोचा और अगले दिन साँप के आने का इंतजार करने लगा। जब सांप आया तो चूहे ने उसका स्वागत करते हुए कहा की हे सर्प महाराज आपका मेरे घर में स्वागत है। सांप ये सब देखकर आश्चर्यचकित हो गया उसने चूहे से कहा की क्या तुम्हे पता है की मैं यहाँ क्यूँ आया हूँ? इसपर चूहे ने कहा की हाँ महाराज मुझे पता है और मैं तो खुद से अपने बच्चों को आपके खाने के लिए दे देता पर इससे हमारे पालनहर्ता हमारे रक्छा करने वाले नागराज नाराज हो जायेंगे।
और भी प्रेरणादायक कहानियां पढ़ना ना भूलें==>
मजदूर और होटल वाले की प्रेरक कहानी
विश्व के सर्वश्रेष्ठ विचारों का संग्रह
मदद करने का फल
कुत्ते और भेड़िये की प्रेरणादायक कहानी





a short hindi story with moral values, short moral stories for kids , panchatantra short stories, panchatantra tales, बच्चों के लिए प्रेरणादायक कहानियां
कल मेरा एक बच्चा गायब हो गया था,इसपर नागराज बहुत गुस्सा हुए। इसपर सांप ने पुछा की कौन है ये नागराज ? चूहे ने कहा की चलिए मैं उनसे मिलवा देता हूँ पर ये उनके सोने का समय है। आप उनको चुपचाप देखकर बिना शोर किये लौट सकते हैं अथवा भयंकर लड़ाई की संभावना है। सांप ने कौतुहूलवश हाँ कर दी और चूहे के साथ नागराज से मिलने चला। चूहा उसको एक तालाब के पास ले गया और तालाब में उसको खुद की परछाई दिखा दी। सांप ने खुद को कभी परछाई नहीं देखि थी तो खुद का ही अक्स देखकर दर गया और वहां से भाग खड़ा हुआ और फिर कभी वापस नहीं आया। इस तरह चालक चूहे ने बुद्धि के बल पर अपने परिवार की रक्छा की।
कहानी से सीख- अपने से ताकतवर शत्रु को ताकत नहीं बुद्धि के बल पर हराना चाहिए।
मैं आशा करता हूँ की आपको ये a short hindi story with moral valuesआपको अच्छी लगी होगी। कृपया इसे अपने दोस्तों और रिश्तेदारों के साथ फेसबुक और व्हाट्स ऍप पर शेयर करें। धन्यवाद्। ऐसी ही और कहानियों के लिए देसिकहानियाँ वेबसाइट सब्सक्राइब करें।

a short hindi story with moral values




loading...
You might also like