Articles Hub

best love stories in Hindi language- जब प्यार पाने के लिये दोस्त का सहारा लिया

best love stories in Hindi language

जय यूँ तो पढ़ने में बहुत तेज था, लेकिन लड़कियों के सामने उसकी आवाज ही नहीं निकलती थी। वो लड़कियों से थोड़ा दुरी ही बना कर रखता था,लेकिन जब से उसके क्लास में स्वेता नाम की लड़की पढ़ने आयी थी,वो अपने आपको रोक ही नहीं पाता था, ना चाहते हुए भी जय स्वेता की तरफ खींचता चला जा रहा था।आखिर उसकी समझ में नहीं आ रहा था की उसे स्वेता से इतना प्यार कैसे हो गया, लेकिन अपने स्वभाव की वजह से वो स्वेता से कभी बात नहीं कर पाता था।अब उसका मन किसी काम में नहीं लगता था,वो सही से पढ़ भी पा रहा था क्योंकि उसके दिलो -दिमाग में स्वेता बसी हुई थी । उसकी ये हालत उसका दोस्त विजय समझ गया था, विजय जय के साथ ही उसके क्लास में पढता था साथ ही साथ उसका दोस्त भी था,उसने अपने दोस्त की मदद करने की सोची,इसमें उसी का फैयदा नजर आ रहा था क्योंकि विजय जिस लड़की को पसंद करता था, वो लड़की जय को पसंद करती थी,मतलब अगर जय स्वेता से जुड़ जायेगा तो विजय का रास्ता साफ़ हो जायेगा, और जय भी उसकी मदद कर देगा,ऐसा सोच कर ही विजय ने जय की मदद करने लगा।विजय स्वेता के पास जा कर अपने प्यार का इजहार कर दिया, अब तो स्वेता गुस्सा हो गयी और बोली उसे प्यार में कोई इंट्रेस्ट नहीं है वो पढ़ने आयी है और सिर्फ पढ़ना चाहती है, इस पर विजय ने कहा की लेकिन उसे पढ़ने में मन नहीं लगता है क्योंकि उसके ख्यालो में सिर्फ और सिर्फ वो नजर आती है, अब तो स्वेता और गुस्सा हो गयी और बोली अगर ये हरकत उसन दोबारा किया तो उसका कम्प्लेन कर दी।धीरे धीरे ये बात फ़ैल गयी की विजय ने स्वेता को परपोज़ किया है,ये बात जब जय को पता चली तो वो मन मसोस कर रह गया, क्योंकि विजय ने जय को ये नहीं बताया था की वो उसकी मदद कर रहा है,उसे लगा विजय भी स्वेता से प्यार करता है इसलिए उसने परपोज़ किया है, इधर विजय जिस लड़की से प्यार करता था, वो लड़की…
ये देसि कहानी अगली पेज में जारी है, आगे पढ़ने के लिए निचे क्लिक करें।




loading...
You might also like
moviexw | munir khan | Sarosh khan | where can i get stamp | Nashir shafi mir