College love story in hindi-प्यार में सब कुछ जायज है

College love story in hindi

मेरे क्लास में पढ़ने वाला शुभम,क्लास की ही लड़की जिसका नाम सुरभि था,उससे बेइंतहा प्यार करता था।वो सुरभि का प्यार पाने के लिए कुछ भी कर सकता था, जबकि सुरभि,शुभम को सिर्फ अपना एक अच्छा दोस्त मानती थी। मतलब साफ़ था की शुभम का एक तरफा प्यार था,और ये बार पूरी क्लास को मालूम थी,की शुभम सुरभि से प्यार करता है। एक दिन शुभम मेरे पास आया, उसकी आँखे नम थी,मतलब वो रोया था,मैंने शुभम से रोने की वजह पूछी तो पहले वो बात टालना चाहा,लेकिन मेरे बार बार पूछने पर उसने बताया की वो सुरभि से दिलो जान स प्यार करता है,लेकिन वो मुझसे प्यार नहीं करती है, मालूम नहीं वो मुझे क्यों इग्नोर करती है? मैंने कहा हो सकता है,सुरभि किसी और से प्यार करती हो,पहले सुरभि के बारे में पता करना होगा की तुमसे ना प्यार करने की वजह क्या है? उसी दिन 2 -3 दोस्त और आ गए और हमलोगो ने एक ग्रुप बनाया जिसका नाम था प्यार को हासिल करवाना। अब हम सारे दोस्त का एक ही मकसद था की किसी भी तरह शुभम को सुरभि से मिलाना,इसके लिए मैंने सुरभि के बेस्ट फ्रेंड जिसका नाम स्वेता था,उससे दोस्ती की,पहले स्वेता से सिर्फ बात-चीत शुरू की फिर उसके करीब जाने लगा, स्वेता भी मेरे करीब आ गयी थी,जब मैंने देखा की अब स्वेता पूरी तरह से मेरे से जुड़ गयी है तब मैंने सुरभि से स्वेता के बारे पूछा तो स्वेता ने सुरभि के बारे में सब कुछ बता दिया,उसने ये भी बता दिया की सुरभि दूसरे कॉलेज के एक लड़के से प्यार करती है,जिसका नाम अभिषेक है। फिर मैंने स्वेता के जरिये अभिषेक तक पहुँचने की कोशिश की और स्वेता ने अभिषेक का फेसबुक अकाउंट मुझे बता दिया,तब क्या था,ग्रुप के बचे हुए दोस्त ने एक फेक लड़की का अकाउंट बनाया और अभिषेक से बात करने लगा, अभिषेक भी पहले तो लड़की से सिर्फ हाई-हेलो किया फिर वो भी फेक लड़की से बात करने लगा, इसी बिच शुभम ने मुझसे पूछा क्या ये सही हैं,तो मैंने उसे बताया प्यार में सब कुछ जायज हैं, तुम्हे सिर्फ सुरभि चाहिए वो तुम्हे मिल जाएगी,कैसे मिलेगी ये सोचना मेरा काम हैं।
और प्रेम कहानियां पढ़ें यहाँ==>मेरी अधूरी प्रेम कहानी,क्लास रूम का प्यार,डिस्टेंस रिलेशनशिप का प्यार
इधर स्वेता मेरी तरफ आकर्षित हो गयी थी,मुझे ये समझ में नहीं आ रहा था की मैं स्वेता को क्या बोलू? वैसे मेरी गर्ल फ्रेंड नहीं थी,लेकिन मैं शुभम को सुरभि से मिलवाने में लगा हुआ था,इसलिए स्वेता के बारे में मैं सोच नहीं पा रहा था। इधर मेरे दोस्तों ने नकली फेसबुक आई डी से अभिषेक को अपने जाल में फसा लिया था । और अभिषेक के साथ हुई बात-चीत सुरभि को पढ़ा दिया गया,साथ ही साथ अभिषेक को मिलने के लिए एक पार्क बुलाया गया,जहाँ सुरभि पहले से ही मौजूद थी, पार्क में ही सुरभि और अभिषेक का झगड़ा हुआ,जिसकी वजह से शुभम काये देसि कहानी अगली पेज में जारी है, आगे पढ़ने के लिए निचे क्लिक करें।




loading...

One Response

Add Comment