Articles Hub

horror stories in hindi to read- खौफनाक इश्क़ की दास्तान

horror stories in hindi to read, horror stories in hindi in indian, indian ghost stories in hindi, real horror story in hindi, real ghost stories in hindi
हम एक से बढ़कर एक डरावनी और खौफनाक कहानियां प्रकाशित करते हैं। पेश है इसी कड़ी में खौफनाक इश्क़ की दास्तान horror stories in hindi to read. आशा है,ये आपको पसंद आएगी।

horror stories in hindi to read

प्रोफेसर हरीश बैंगलोर के पास एक गांव में रहते थे, उस गांव में उनका बहुत इज्जत था। सभी गाँव वाले हरीश जी का आदर करते थे,हरीश जी भी सभी गांव वालो का मदद किया करते थे, उनके इसी स्वभाव से सभी गांव वाले उनसे प्यार और उनका महत्व देते थे। हरीश जी की पत्नी भी उन्ही की तरह मिलनसार और मदद करने वाली थी,कुल मिलाकर ये कहना उचित होगा की उस गांव में सभी उन्दोनो का बहुत ही आदर और सम्मान करते थे । काफी सालो से वो दोनों उस गांव में रह रहे थे,तो गांव के आस -पास के लोग भी उन्हें जानने लगे थे।खली समय में प्रोफेसर हरीश बच्चो को पढ़ाते भी थे,वो भी मुफ्त में,जिसकी वजह से गांव में शिक्षित लोगो की संख्या बढ़ने लगी थी,हरीश जी हमेशा सभी को पढ़ने के लिए बोलते थे,और पढ़ाई पर बहुत ध्यान देते थे,उनकी वजह से गांव का विकास तेजी से होने लगा था। लेकिन वक्त के साथ साथ उन दोनों को एक ही बात की टेंशन थी,वो थी उनका एकलौता बेटा,मनीष जो पढ़ने से ज्यादा इधर-उधर में ध्यान देता था,ज्यों-ज्यों उसका उम्र बढ़ता था उसकी सोच भी अजीब होने लगी थी,पापा की वजह से मनीष की भी इज्जत गांव में होती थी,लेकिन मनीष को लगता था की उसे उसकी वजह से इज्जत मिलती है,जिसकी वजह से उसके अंदर घमंड भी आ गया था,इस बात का पता हरीश जी को भी था,लेकिन वो कुछ नहीं कहते थे, क्योंकि उन्होंने कई बार अपने बेटे मनीष को समझाया,लेकिन मनीष को हमेशा लगता था की उसे उसकी वजह से ही उसे ये आदर और सम्मान मिल रहा है,इसलिए उसमे बहुत ज्यादा अहंकार आ गया और वो अब गांव वालो को इज्जत भी नहीं देता था,ना ही उनसे सीधी मुँह बात करता था,लेकिन हरीश की इज्जत की वजह से सभी उसे कुछ नहीं कहते थे।लेकिन आखिर कब तक हरीश बर्दास्त करते,एक दिन उन्हें गुस्सा आया और उन्होंने मनीष को बुला कर उसे शादी करने की बात कही, मनीष ने कहा,उसे अपनी पसंद की लड़की से शादी करनी है,लेकिन हरीश जी ने उन्होंने उसके लिए शुशील और समझदार लड़की का चयन किया है,जिससे उसे शादी करनी है,वर्ण उसे ये घर और गांव छोड़ कर जाना होगा। वैसे तो हरीश जी अपने बेटे का शादी नहीं करना चाहते थे,लेकिन उनके दोस्त ने ही उन्हें बताया की शायद शादी के बाद जिम्मेदारी आये तो मनीष सही हो जाये,और ये बात उन्हें जंच गयी इसलिए वो मनीष के लिए सुन्दर और सुशील लड़की ढूंढना शुरू कर दिया । और काफी मश्कत के बाद हरीश जी वो उनके मन के लायक लड़की मिल ही गयी,लड़की का नाम स्वेता था,जो उनकी ही स्टूडेंट थी,जो काफी समझदार थी,हरीश जी ने जब स्वेता के पापा से अपने बेटे की शादी की बात कही तो स्वेता के पापा मान गए,हरीश जी ने जब मनीष से स्वेता से शादी करने को कहा तो मना कर गया,वो अपने लायक स्वेता को नहीं मानता था, उसे अपने मन लायक लड़की चाहिए था,लेकिन हरीश जी ने कहा, अगर स्वेता से शादी नहीं की तो उसे घर और गांव दोनों से जाना होगा,और मजबूरन मनीष को स्वेता से शादी करनी पड़ी ।
और भी भूतों की कहानी पढ़ें==>
एक आत्मा से मुलाकात की कहानी
एक आत्मा से मुलाकात की कहानी भाग 2
एक खौफनाक आत्मा से मुलाकात
एक ऐसी आत्मा जो हैरान कर गयी
एक ऐसी आत्मा जो हैरान कर गयी पार्ट 2
वो कौन थी
कोई है
जब भूतनी ने बदला लिया

horror stories in hindi to read





horror stories in hindi to read, horror stories in hindi in indian, indian ghost stories in hindi, real horror story in hindi, real ghost stories in hindi
स्वेता ने काफी प्रयास किया की वो मनीष को खुश रख सके लेकिन मनीष था की उसे कभी दिल से अपना पत्नी मान ही नहीं पाया,इसलिए वो स्वेता से दूर ही रहता था,और उससे सही तरीके से पेश भी नहीं आता था,हरीश जी सब कुछ समझ रहे थे और देख भी रहे थे,उन्होंने अफ़सोस हो रहा था की उन्होंने स्वेता की जिंदगी बर्बाद कर दी,इसलिए उनोहोने स्वेता को आगे पढ़ने के लिए बैंगलोर भेज दिया,और साथ ही वहां रहने के लिए एक घर भी खरीद दिया जो स्वेता के नाम से ही था,अब तो मनीष और गुस्सा हो गया क्योंकि पहले सिर्फ स्वेता से नफरत करता था अब तो उसे घर मिलने पर जले पर नमक छिड़कने वाला काम उसके पापा ने कर दिया था।मनीष काफी परेशान था, उसे समझ में नहीं आ रहा था की वो क्या करे? तभी उसके दोस्तों ने मनीष को चुनाव लड़ने को बोला,और मनीष को ये आईडिया पसंद आ गया, उसने अपने गांव से चुनाव लड़ा और अपने पापा की इज्जत की वजह से जित भी गया,पहले तो वो अहंकारी और लापरवाह था लेकिन अब वो आय्यास भी हो गया था,अब तो वो शराब पी कर   घर आने लगा, स्वेता ने काफी समझाया लेकिन वही ढाक के तीन पात वाला बात हो गया, धीरे-धीरे ताकत के नशे में चुड़ मनीष किसी को पास नहीं आने देता था। स्वेता से तो पहले से ही नफरत करता था, शादी के दो साल के बाद मनीष की माँ ने एक पोता की मांग स्वेता से कर दी,स्वेता ने शायद बेटा या बेटी होने के बाद मनीष सुधर जाये इसलिए एक बार फिर वो मनीष के साथ हो गयी, और शारीरिक रिश्ता भी कायम किया लेकिन काफी कोशिशों के बाद भी स्वेता माँ नहीं बन पायी इसलिए वो डॉक्टर के पास गयी और पूरा जांच करवाया,डॉक्टर ने बताया की वो बिलकुल ठीक है उसे कोई समस्या नहीं है,मतलब समस्या मनीष में थी,ये बात जब उसने मनीष को बताई तो मनीष गुस्सा हो गया और उसने स्वेता को मार बैठा,अब तो मनीष से जब भी स्वेता डॉक्टर को दिखने बोलती तो मनीष स्वेता को बुरा-भला कहता और मारता । एक दिन शराब के नशे में मनीष ने स्वेता को मारा, जिससे स्वेता की मौत हो गयी। अब तो मनीष को डर लग गया, इसलिए स्वेता की मौत को उसने आत्महत्या बता दिया,धीरे-धीरे सभी इस बात को भूल गए,लेकिन स्वेता नहीं भूल पायी। और उसने मनीष से अपने हत्या का बदला लेना चाहा,मनीष भले ही वापस अपने गांव लौट गया,स्वेता ने चारा डाल कर मनीष को वापस बैंगलोर बुलाया,उसने एक लड़की के शरीर में घुस गयी और मनीष को वापस उसके घर ले आया,और उसके बाद उसने मनीष की हत्या कर दी और उस हत्या को भी आत्महत्या में तब्दील कर दी,ठीक उसी तरह जिस तरह से मनीष ने स्वेता की हत्या करके आत्महत्या बता दिया था।
आशा है की ये डरावनी कहानी “horror stories in hindi to read” आपकी पसंद आयी। कृपया इसे अपने दोस्तों और रिश्तेदारों के साथ फेसबुक और व्हाट्स ऍप पर शेयर करें .



horror stories in hindi to read

loading...
You might also like