Articles Hub

short motivational stories in hindi-कोयल और बतख की प्रेरणादायक कहानी

short motivational stories in hindi, short moral stories for kids, panchatantra short stories, panchatantra tales, बच्चों के लिए प्रेरणादायक कहानियां



हम हर दिन एक से बढ़कर एक प्रेरणादायक कहानिया प्रकाशित करते हैं। इसी कड़ी में आज कोयल और बतख की प्रेरणादायक कहानी short motivational stories in hindi प्रकाशित कर रहे हैं।आशा है ये आपको अच्छी लगेगी।
लेखक- संजीव

short motivational stories in hindi

एक चिड़ियाखाने में बहुत सारे पशु-पंछी थे और दूर दूर से लोग उन्हें देखने आते और अपना मनोरंजन कर वापस लौट जाते। सबसे ज्यादा भीड़ इकठा करने वाले पशुओं में शेर और चीता थे और पंछियों में मोर और कोयल। मोर के पास लोग उसकी सुंदरता देखने के लिए रुक जाते थे और कोयल के पास उसका गाना सुनने के लिए। कोयल के पिंजरे के पास ही बतख का बाड़ा था। वो उसमे बने छोटे से तालाब में तैरा करती थी।कभी कभार लोग उसको भी देखने के लिए आए जाते थे। बतख को कोयल को देखकर बहुत ईर्ष्या होती थी और वो सोचती थी की क्यूँ लोग इस काली कलूटी के पिंजरे के पास भीड़ लगाए रहते हैं। मैं तो इतनी सुन्दर हूँ पर मुझे देखने के बहुत कम लोग आते हैं। बतख ने इसका पता लगाने का निश्चय किया और पाया की लोग कोयल के गाने को सुनने के लिए आते हैं। बतख ने सोचा की क्यूँ ना मैं भी गाना गाऊँ, फिर लोग मेरे भी बाड़े के पास आने लगेंगे। ऐसा निश्चय कर अगली सुबह बतख ने ज्योही लोगो को आते देखा,जोर जोर से अपनी आवाज में गाना गाने लगी। उसको ऐसा करते देख कुछ लोग उसके बाड़े के पास आये और उसकी आवाज सुनकर जोर जोर से हंसने लगे।बतख ने इसपर हार नहीं मानी और अपना गाना जारी रखा।ये सब कोयल अपने पिंजरे से हैरान होकर देख रही थी।
और भी प्रेरणादायक कहानियां पढ़ना ना भूलें==>
रानी मछली की प्रेरणादायक कहानी
पारष पत्थर की प्रेरक कहानी
शेर और गुलाम की प्रेरणादायक कहानी
बन्दर और कील की कहानी

short motivational stories in hindi, short moral stories for kids, panchatantra short stories, panchatantra tales, बच्चों के लिए प्रेरणादायक कहानियां
धीरे धीरे बतख के पिंजरे के आगे और भी भीड़ इकठी हो गयी और सब बोलने लगे की देखो एक बेसुरा गाने वाली बतख।ये सुनकर बतख बहुत दुखी हुई और चुप होकर अपने दबड़े में चली गयी। शाम हुई और चिड़ियाघर जब लोगो के लिए बंद हो गया तो कोयल ने बतख को आवाज लगायी। बतख सहमते हुए दुखी मन से बाहर आयी तो उसे देख कोयल सारा माजरा समझ गयी और उससे बोली हे बतख बहन,हम सभी को ईश्वर ने कुछ ना कुछ खूबी दी है। जैसे की तुम आराम से पानी में तैर सकती हो पर अगर मैं ऐसा करना चाहूँ तो डूब जाउंगी। वैसे ही मेरे काले बदसूरत शरीर के बावजूद भगवान् ने मुझे गाने की काबिलियत दी है। इसीलिए हमारे अंदर जो काबिलियत है हमें उसी को और निखारना चाहिए। कोयल के ऐसा समझाने से बतख समझ गयी और अगले दिन से अलग तरह से पानी में तैरने और डुबकी लगाने लगी। धीरे-धीरे उसके पिंजरे के पास भी भीड़ आने लगी और ये देख कर बतख बहुत खुश हुई और उसने कोयल का आभार ेयक्त किया।

मैं आशा करता हूँ की आपको ये “short motivational stories in hindi” आपको अच्छी लगी होगी। कृपया इसे अपने दोस्तों और रिश्तेदारों के साथ फेसबुक और व्हाट्स ऍप पर ज्यादा से ज्यादा शेयर करें। धन्यवाद्। ऐसी ही और कहानियों के लिए देसिकहानियाँ वेबसाइट पर घंटी का चिन्ह दबा कर सब्सक्राइब करें।
इस कहानी का सर्वाधिकार मेरे पास सुरक्छित है। इसे किसी भी प्रकार से कॉपी करना दंडनीय होगा।



short motivational stories in hindi

loading...
You might also like