Articles Hub

Latest

इमोशनल अत्याचार-An awesome article on emotional atyachar in hindi

समाज बदल रहा है, सामाजिक विचारधारा करवट ले रही है, यह तो हम सभी जानते हैं, पर क्या हम यह जानते हैं कि हमारे इस समाज के समानांतर एक और नया समाज भी बन गया है, जिसके अपने नियम और क़ायदे-क़ानून हैं. यह समाज अपनी मर्ज़ी के मुताबिक चलता है, यह समाज है युवाओं का, किशोरों का… इस सो-कॉल्ड मॉडर्न, टेक्नोक्रेट, अवेयर्ड सोसायटी के पास एक्सपोज़र तो बहुत ज़्यादा है,…
आगे पढ़ें...

चाय-A new great love story of 2K19 in hindi language

रविकांत को गायत्री की दिनचर्या से लेनादेना नहीं था. उस की इच्छाओं का खयाल रखने की जरूरत उन्होंने कभी महसूस नहीं की, लेकिन आज वे गायत्री की एक इच्छा पूरी करने को…
आगे पढ़ें...

कुढ़न-A new motivational story in hindi language of a lady

कल सुबह तक तो सब ठीक ही चला, पर शाम को जब सासू मां रोज की तरह पड़ोस में चली गईं, उस के ससुर काम पर से जल्दी घर लौट आए और आते ही उस से पानी मांगा. जब वह पानी…
आगे पढ़ें...

सीमा का व्यवहार-A Story on behavior of daughter in law

पति और मौसेरी सास ही नहीं, सभी ससुराल वालों के प्रति सीमा का व्यवहार अत्यंत सद्भावपूर्ण था, वह तनमनधन से उन्हें समर्पित थी फिर भी वह उन की प्रशंसा का पात्र नहीं…
आगे पढ़ें...

ईश्वर और आतंकवाद-An emotional article on god and Terrorist

ईश्वर सर्वत्र है. आतंकवादी भी सर्वत्र हैं. लेकिन कमाल की बात है, न तो सरकार को आतंकवादी दिख रहे हैं और न ही हमारे राम भरोसे जी को ईश्वर. राम भरोसे ईश्वर की…
आगे पढ़ें...

चिराग नहीं बुझा-An inspirational story of the day

एक अंधेरी रात में गोंडू और उस के साथी लुटेरे जब एक के बाद एक दुकानों को लूटे जा रहे थे तो उन्हें बाजार खाली ही मिला था. गोंडू लुटेरा उस कसबे के लोगों के लिए…
आगे पढ़ें...

दोनों का साथ दो कदम का ही रहा-A long hindi Story with a…

वकील साहिबा के जज्बातों को शायद मैं ने ही जगा दिया था. और कहीं मैं खुद भी उन का सानिध्य पाने को आतुर हो गया था. तभी एकदूसरे का संबल बनते हुए चार कदम ही चले थे…
आगे पढ़ें...

एक्सपायरी डेट-A new Story of a family woman Asmita

अमिता घर के रोज़मर्रा के काम निपटाकर बैठी ही थी कि सामने रखे चेस्ट ऑफ ड्रॉवर्स पर नज़र पड़ गई. पति ऑफिस और दोनों बच्चे स्कूल जा चुके थे. बहुत दिनों से ध्यान नहीं…
आगे पढ़ें...

राह वही, सोच नई-an inspirational story on new thinking

बीच राह में पड़े पत्थर को ठोकर मारते हुए पराग ने एक गहरी सांस ली… क्या अंतर है इसमें और मेरी स्थिति में? मैं भी इसकी तरह हर किसी की ठोकर खाने पर मजबूर हूं. उसकी…
आगे पढ़ें...