Articles Hub

Latest

असली हीरा-A New motivational story from novel

एक राजा का दरबार लगा हुआ था। सर्दियों के दिन थे, इसीलिये राजा का दरबार खुले में बैठा था। पूरी आम सभा सुबह की धूप मे बैठी थीl महाराज ने सिंहासन के सामने एक मेज रखवा रखी थी। पंडित लोग दीवान आदि सभी दरबार में बैठे थे । राजा के परिवार के सदस्य भी बैठे थे। उसी समय एक व्यक्ति आया और राजा से दरबार में मिलने की आज्ञां मांगी। प्रवेश मिल गया तो उसने…
आगे पढ़ें...

प्यार की चोट-Love Story In Hindi language with a message

बात कुछ साल पहले की है। लखनऊ में एक लड़की अपनी मैडिकल नर्सिंग की पढ़ाई खत्म करके किसी अच्छी नौकरी की तलाश में थी। यूँ तो सुधा ने अपनी पढ़ाई बहुत ही अच्छे काॅलेज से…
आगे पढ़ें...

तीन श्वान-Motivational story in hindi for youth with a moral

एक बार एक गांव में पंचायत लगी थी। वहीं थोड़ी दूरी पर एक संत ने अपना बसेरा किया था। जब पंचायत किसी निर्णय पर नहीं पहुच सकी, तो किसी ने कहा कि क्यों न हम महात्मा…
आगे पढ़ें...

गुस्सा-A new inspirational story on controlling anger

एक महिला के लिए भी अपने गुस्से को काबू करना काफी मुश्किल था। गुस्से में वह अपने सामने पड़ने वाले हर किसी को उल्टा-सीधा बोल देती थी। उसकी इस आदत की वजह से…
आगे पढ़ें...

एक अधूरी प्रेम कहानी-A Cute love story of incomplete love

एक बार एक लड़का होता है. वह अपनी पढ़ाई के लिए दूसरे शहर जाता है. लड़का जहां रहता है उसके घर के सामने एक बेहद खूबसूरत लड़की रहती है. सुबह-सुबह लड़की छत पर आती है…
आगे पढ़ें...

सच्चा प्यार-A story of true love in hindi language

एक लड़का था जिसका नाम था अमर। वह किसी लड़की से प्यार करता था। उस लड़की का नाम था मीन। वह लड़की भी अमर को बहुत प्रेम करती थी। इनका प्रेम 11 कक्षा से शुरू हुआ था। अमर…
आगे पढ़ें...

नाकामयाबी एक पड़ाव हैं…आख़िरी पड़ाव नहीं-Best new…

आज दसवीं का रिज़ल्ट था . कविता मैम …सुबह से टेंस थी. पता नहीं ….इस बार उसके स्कूल का कौन सा बच्चा …फेल होने के कारण …कोई ग़लत कदम उठा ले. पिछले साल ही ..स्कूल…
आगे पढ़ें...

कैसे खोज सकते हैं आप अपने सभी समस्याओं का समाधान-An…

भगवान बुद्ध अक्सर अपने शिष्यों को शिक्षा प्रदान किया करते थे। एक दिन प्रातः काल बहुत से भिक्षुक उनका प्रवचन सुनने के लिए बैठे थे। बुद्ध समय पर सभा में पहुंचे,…
आगे पढ़ें...

उद्देश्य के प्रति समर्पण ही सफलता सुनिश्चित करता है-A story…

एक किशोर ने 14 साल की उम्र में ही अपने माता-पिता को पत्र लिखा और बताया कि वह भविष्य में इंजिनियर बनना चाहता है। जर्मनी में पढ़ाई पूरी करने के बाद उसका अधिकांश…
आगे पढ़ें...