Articles Hub

कवि का चुनाव-a brilliant hindi story story about selection of poet

a brilliant hindi story story about selection of poet,inspirational story in hindi,inspirational story in hindi for students, motivational stories in hindi for employees, best inspirational story in hindi, motivational stories in hindi language
महाराज ने अपने मंत्री से कहा,‘‘हमें अपने दरबार के लिए एक कवि की ज़रूरत है, जो सचमुच कवि हो.’’
दूसरे दिन नौजवान मंत्री ने नगर में मुनादी करा दी. तीसरे दिन एक हज़ार एक आदमी मंत्री के महल के नीचे खड़े थे, और कहते थे, हम सब कवि हैं. मंत्री ने इक्कीस दिनों में उन सबकी कविताएं सुनीं और देखा, मगर उनमें सर्वश्रेष्ठ कौन है, इसका फ़ैसला न कर सका. उसने एक दिन सोचा, दो दिन सोचा, तीन दिन सोचा, चौथे दिन उसने फूल की पंखुड़ियों के काग़ज़ पर सुनहरे रंग से एक हज़ार एक कवियों के नाम लिखे, और यह सुनाम-सूची महाराज की सेवा में उपस्थित कर दी.
महाराज को हैरानी हुई. बोले,‘‘क्या यह सब कवि हैं?’’
मंत्री ने विनय से सिर झुकाया, और धीरे से जवाब दिया,‘‘मैंने उनकी कृतियां सुनी हैं, और इसके बाद यह नामावली तैयार की है. हमें एक कवि की ज़रूरत है, और यह एक हज़ार एक हैं. मैं चुनाव नहीं कर सका.’’
महाराजा ने एक घंटा विचार किया, दो घंटे विचार किया, तीन घंटे विचार किया, चौथे घंटे आज्ञा दी,‘‘इन सबको क़ैद कर दो, इनसे कोल्हू चलवाओ, और हुक़्म दे दो, कि अब से जो आदमी कविता करेगा, उसे हमारे शहर का सबसे बलवान आदमी कोड़े मार-मारकर जान से मार डालेगा.’’
मंत्री ने आज्ञा का पालन किया. अब वहां एक भी कवि न था, न कोई काव्य की चर्चा करता था. लोग उन अभागों के संकट की कहानियां, सुनते थे, और उनके हाल पर अफ़सोस करते थे.
छह महीने बाद महाराज एक हज़ार एक कवियों के क़ैदख़ाने में गए, और उन सबकी तलाशी की आज्ञा दी. एक हज़ार एक कवियों में से एक सौ एक ऐसे निकले, जिन्होंने बंदी गृह की कड़ी यातनाओं के बीच में रहते हुए भी-रात के समय, जाग-जागकर, पहरेदारों से छुपा-छुपाकर कविता की थी, और यह न सोचा था, कि अगर महाराज को उनके इस अपराध का पता लग गया, तो उनका क्रोध जाग उठेगा, और इस राज्य का सबसे बलवान आदमी उन्हें कोड़े मार-मारकर जान से मार डालेगा.
महाराज ने अपने मंत्री से कहा,‘‘तुमने देखा! यह नौ सौ आदमी, कवि न थे, नाम के भूखे थे. इनको छह-छह महीने की तनख़्वाह देकर विदा कर दो. और यह एक सौ एक आदमी किसी हद तक कवि हैं. इनको रहने के लिए हमारा मोर-महल दे दो. और देखो, इन्हें किसी तरह की तक़लीफ़ न हो.’’
मंत्री ने ऐसा ही किया. अब यह कवि अच्छे कपड़े पहनते थे, अच्छा भोजन खाते थे, और रात दिन रासरंग में लीन रहते थे. लोग उनके ऐशो-आराम की कहानियां सुनते थे, और अपने दुर्भाग्य पर ठंडी आहें भरते थे. छह महीने बाद महाराज अपने मंत्री को साथ लेकर एक बार फिर एक सौ एक कवियों के मोर-महल में गए, और उन सबको अपने सामने बुलाकर बोले,‘‘तुमने बेपरवाही के छह महीनों में क्या कुछ लिखा है? हम सुनना चाहते हैं.’’
और भी प्रेरक कहना पढ़ना ना भूलें==>
बदलाव की एक प्रेरक कहानी
चालक भेड़िये और खरगोश की प्रेरक कहानी
कोयल और मोर की प्रेरणादायक कहानी
a brilliant hindi story story about selection of poet,inspirational story in hindi,inspirational story in hindi for students, motivational stories in hindi for employees, best inspirational story in hindi, motivational stories in hindi language
एक सौ एक आरामदासों में से सिर्फ़ एक ऐसा था, जिसने मोर-महल की इन्द्र सभाओं में कोई भाग न लिया था और अपने मन के उद्गारों को शब्दों में बांधता रहा था. दूसरे शराब पीते थे, और झूमते थे. वह एकान्त में बैठकर आप ही अपनी कविताएं पढ़ता था, आप ही ख़ुश होता था. जैसे जंगल में मोर आप ही नाचता है, आप ही देखकर ख़ुश होता है.
चांद और सूरज के प्यारे महाराज ने अपने नौजवान मंत्री से कहा,‘‘यह एक सौ आदमी भी कवि न थे, आराम के भूखे थे. जब यह क़ैद थे, इनकी आंखें अपनी दुर्दशा पर रोती थीं, और चूंकि उस वक़्त इनका जीवन, जीवन की बहारों से ख़ाली था इसलिए उन दिनों इन्हें अपना जीवन प्यारा न था. उस समय इन्होंने कविता की, और उसमें अपने भाग्य के अंधेरे और अंधेरे के भाग्य का रोना रोया. मगर जब वे दिन बीत गए, और जब वे काली घड़ियां गुज़र गईं, तो इन्हें काव्य और कल्पना की कला भी भूल गई. यह दुःख के दिनों के कवि हैं, सुख के समय के कलाकार नहीं. इनको धक्के देकर महल से निकाल दो.’’
इसके बाद महाराज ने उस साधु स्वभाव, बेपरवाह आदमी की तरफ़ इशारा करके कहा,‘‘यह सच्चा कवि है, जिसके लिए दुख और सुख दोनों एक बराबर हैं. यह दुख की रात में भी कविता करता है, यह सुख के प्रभात में भी कविता करता है. यह मौत के काले रास्ते पर भी कविता करता है, यह जीवन की सुंदर घाटियों में भी कविता करता है. यह इसका स्वभाव है. यह इसका जीवन है. यह इसके बिना रह नहीं सकता. यह सच्चा कवि है. यह एक हज़ार एक कंकड़ों में हीरा है. हमने इसे आज से अपना दरबारी कवि नियत किया. हम इसे मुंह मांगी तनख़्वाह देंगे. इसका काम केवल इतना है, कि हमें हर रोज़ दरबार में आकर एक दोहा सुना जाया करे.’’
कवि ने दरबार में जाकर महाराज को एक दिन दोहा सुनाया, दूसरे दिन दोहा सुनाया, तीसरे दिन दोहा सुनाया, चौथे दिन लिख भेजा, मुझसे इस तरह की कविता नहीं हो सकती. मैं उद्गारों का कवि हूं, किसी की मर्ज़ी का ग़ुलाम नहीं. मंत्री ने कहा,‘‘यह आदमी कितना अभागा है.’’
मगर महाराज ने कहा,‘‘नहीं यह अभागा नहीं, यह कवि है अगर आज तेरा पिता, मेरा पहला मंत्री जीवित होता, तो साहित्य मंदिर के इस पुजारी के पांव पकड़ लेता. यह आज़ाद है, यह आज़ादी की कविता करता है. जो ग़ुलाम होगा, वह ग़ुलामी की कविता करेगा. यह आदमी दरबार में आए, या न आए इसकी तनख़्वाह हमेशा इसके घर पहुंचती रहे. ऐसे उच्च कोटि के कलाकार का भूखा रहना मेरे राज्य का सबसे बड़ा अपमान है.’’
नौजवान मंत्री की आंखें खुल गईं.

मैं आशा करता हूँ की आपको ये story आपको अच्छी लगी होगी। कृपया इसे अपने दोस्तों और रिश्तेदारों के साथ फेसबुक और व्हाट्स ऍप पर ज्यादा से ज्यादा शेयर करें। धन्यवाद्। ऐसी ही और कहानियों के लिए देसिकहानियाँ वेबसाइट पर घंटी का चिन्ह दबा कर सब्सक्राइब करें।

Tags-a brilliant hindi story story about selection of poet,inspirational story in hindi,inspirational story in hindi for students, motivational stories in hindi for employees, best inspirational story in hindi, motivational stories in hindi language

80%
Awesome
  • Design
loading...
You might also like