Articles Hub

बचपन का प्यार-A cute love story of childhood love

A cute love story of childhood love, true love story in hindi in short, true sad love story in hindi language, hindi love story in short love, love story novel in hindi language, romantic love stories in hindi language
हाँ वही पल जब सब कुछ अच्छा चल रहा था, अचानक कुछ हुआ और एक झोके की तरह सब टूट गया।बात उन दिनो की है जब नलिनी पढ़ाई के लिए बाहर गई, नलिनी ने जो सोचा था वही हुआ।नई नई सुबह उसका इन्तजार कर रही थी, सब कुछ वैसा ही हो रहा था जैसा उसने सोचा था।बचपन से ही किसी को चाहती थी, और जब वो बाहर गई, तो मानो सपने सच होने लगे हों।एक दिन सब कुछ भूल कर उसने अंकुश को फ़ोन कर ही दिया, और उसको खुशी तब हुई जब अंकुश भी उसकी आवाज पहचान गया।अब आगे की कहानी उसकी, नलिनी की ही जुबानी।“ मैं और अंकुश रोज घंटो बात किया करते थे, उन दिनो हम दोनो अपनी-अपनी 12th के बाद की पढ़ाई के लिए घर से बाहर थे, वो तो इतना दूर नही था , जितना मैं थी।पर हम दोनो का प्यार असमान छू रहा था, जब भी मैं घर जाती कही ना कही दिख ही जाता।ऐसा लगता था मानो दिन बन गया हो, कभी मिले नही थे बचपन से साथ में पढ़ते थे, पर कभी कहा नही कुछ भी। उधर मेरे प्यार पर ग्रहण लगने ही वाला था मानो, वो अपनी मम्मी से कुछ नही छुपाता था।और हम दोनों बात करते है ये भी बता दिया उसने, अब वो दिन आ ही गया जिसमे दिल टूटना था।उसका और मेरा रिजल्ट आया मैंने तो टॉप किया था, तो मैं बहुत खुश थी और वो एक विषय में रह गया। उसका सारा कसूर उसकी माँ ने मेरे ऊपर डाल दिया, ये बोलकर की मैं फ़ोन करती थी इसलिए वो पढ़ नही पाया।और अगले ही दिन हमारी प्रेम कहानी में, विलन की तरह उन्होने मेरे घर जाकर सब कुछ बोल दिया। फिर हम दोनो अगल हो गए, और टूटा हुआ दिल सम्भाल नही पाई।
A cute love story of childhood love, true love story in hindi in short, true sad love story in hindi language, hindi love story in short love, love story novel in hindi language, romantic love stories in hindi language
और भी रोमांटिक प्रेम कहानियां “the love story in hindi” पढ़ना ना भूलें=>
क्या ये प्यार है
एक सच्चे प्यार की कहानी
कुछ इस कदर दिल की कशिश
प्यार में सब कुछ जायज है.
6 महीने बाद हम दोनो ने फिर से बात शुरु कर दी, क्योकी मैं बहुत प्यार करती थी उससे। सब कुछ सही था , फिर से उसकी माँ मेरे घर पहुच कर कुछ भी बोली। हद हो गई यार , कोई दूसरो की बेटी की इज्जत समझता ही नही ।पर कुछ और ही हुआ उसकी शादी कर दी, और मैं सम्भाल ना सकी क्या करती टूट गई थी।खुद को संभालते हुए बहुत दूर आ गई, बुरा तब लगा जब उसकी शादी 1 दिन भी ना टिकी।लड़की किसी और से प्यार करती थी तो अंकुश ने उसे जाने दिया, उसको प्यार की कीमत समझ आ चुकी थी। आज हम दोनो अकेले है, जब कभी उसकी याद आती है , बस आँख बन्द करके सब कुछ याद कर लेती हूँ।आज वो मेरे से बात जरूर करता है पर, वो टूट गया है, उसकी माँ के लिए भले ही वो कितना मजबूत क्यो ना हो।पर जब भी उससे बात करती हूँ , तो उसकी हँसी बहुत मिस करती हूँ, उसकी बाते रूला देती है मुझे।कमी ना उसकी थी ना मेरी बस कुछ हालात ही थे , जो हम अगल हो गए, आज अच्छे दोस्त है पर प्यार नही।“अब इसमे गल्ती नलिनी की थी की उसको प्यार हुआ, या फिर अंकुश की।आज भी मैने दोनो की आँखो में वो प्यार देखा है, ऐसा लगता है की अगर दोनो के घर बाले मान जाए।तो दोनो अभी शादी कर लें, और खुश भी रहेंगे ,आखिर बचपन का प्यार जो है।
मैं आशा करता हूँ की आपको ये story आपको अच्छी लगी होगी। कृपया इसे अपने दोस्तों और रिश्तेदारों के साथ फेसबुक और व्हाट्स ऍप पर ज्यादा से ज्यादा शेयर करें। धन्यवाद्। ऐसी ही और कहानियों के लिए देसिकहानियाँ वेबसाइट पर घंटी का चिन्ह दबा कर सब्सक्राइब करें।

Tags-A cute love story of childhood love, true love story in hindi in short, true sad love story in hindi language, hindi love story in short love, love story novel in hindi language, romantic love stories in hindi language

80%
Awesome
  • Design
loading...
You might also like