Articles Hub

पावन रात्रि-a good new short story about the holy night

a good new short story about the holy night,inspirational story in hindi,inspirational story in hindi for students, motivational stories in hindi for employees, best inspirational story in hindi, motivational stories in hindi language
एक ज़माना था जब दादी माँ कहानियां सुनाया करती थी। उनके गुजर जाने के बाद घनघोर अकेलापन रह गया था। पर उनके द्वारा सुनाई गई कहानियों में से कुछ स्मृतियों में आज भी कैद है। एक आदमी था,घनघोर अँधेरी रात में आग जलाने वास्ते घर से बाहर निकला। हर एक घर के पास गया,दरवाजा खटखटाया,पर किसी ने नहीं खोला। वह चलता गया,चलता गया। बहुत दूर उसे आग की लपटे दिखाई दी। वह जब करीब पहुंचा तो देखा की आग के चरों ओर बहुत सी भेंडे सो रही थी और एक बूढ़ा व्यक्ति रखवारी कर रहा था।
और भी प्रेरक कहना पढ़ना ना भूलें==>
उड़ान-a new hindi inspirational story of the march month
बुद्धि एक अमूल्य धरोहर-three new motivational stories in hindi language
लवंगी-जगन्नाथ-A new hindi story from the the period of shahjhan
a good new short story about the holy night,inspirational story in hindi,inspirational story in hindi for students, motivational stories in hindi for employees, best inspirational story in hindi, motivational stories in hindi language
तीन खूंखार कुत्ते उस चरवाहे के पास सोये थे। तीनो कुत्ते ने अपनी अपनी विशाल जबड़े खोल दिए पर उस आदमी को कोई नुक्सान नहीं पहुंचाया। उस बुड्ढे ने जब उस आदमी को पास आते देखा तो उसने अपनी लम्बी नुकीली लाठी उस पर फेंकी। संयोगवस उसे लगा नहीं। वह चरवाहे के पास आया और बोला-मेरी मदद करो मुझे थोड़ी आग दे दो,मेरी बीबी ने अभी-अभी एक बच्चे को जन्म दिया है बच्चे को गर्मी दिलाने वास्ते आग जलाना जरूरी है ,उस बुड्ढे ने कहा-जितनी आग चाहिए ले जाओ वह आदमी झुका और नंगे हाथों राख से अंगारे चुने और अपने लबादे में रख लिया। बुड्ढा हैरत में था। यह अजनबी कैसा इंसान है,इसे कुत्ते काट नहीं रहे ,भेंडे डर नहीं रही लाठी मार नहीं रही और अंगारे जला नहीं रहे। ‘उसने पूछा-तुम्हरे ऊपर रात इतनी मेहरबान क्यों है?’उस अजनबी ने कहा -जब तक तुम खुद नहीं देखो ,मैं तुम्हे बता नहीं सकता। वह व्यक्ति अपने घर की ओर जल्दी जल्दी चलना शुरू किया। बुड्ढा उसके पीछे हो लिया। वहाँ चरवाहे ने देखा की उसकी पत्नी और शिशु एक गुफा में सोये हैं चरवाहे का दिल पसीज गया। उसने भेड की मुलायम खाल झोले से निकाली और उस अजनबी को बच्चे को ढँक देने को कहा। उसने देखा की चारों ओर देवदूतों का घेरा है। चारों तरफ हर्ष और उल्लास के गीत सुनाई पड़ने लगे। दादी मा ने कहा -चरवाहे ने जो देखा वो हम भी देख सकते हैं। बस हमारे अंतःकरण में शक्ति होनी चाहिए। यही सच है। जरूरत है उन आखों की जो ईश्वर की महिमा को देख सके।

मैं आशा करता हूँ की आपको ये story आपको अच्छी लगी होगी। कृपया इसे अपने दोस्तों और रिश्तेदारों के साथ फेसबुक और व्हाट्स ऍप पर ज्यादा से ज्यादा शेयर करें। धन्यवाद्। ऐसी ही और कहानियों के लिए देसिकहानियाँ वेबसाइट पर घंटी का चिन्ह दबा कर सब्सक्राइब करें।

Tags-a good new short story about the holy night,inspirational story in hindi,inspirational story in hindi for students, motivational stories in hindi for employees, best inspirational story in hindi, motivational stories in hindi language

80%
Awesome
  • Design
loading...
You might also like