ga('send', 'pageview');
Articles Hub

भयानक बक्से का डरा देने वाला रहस्य पार्ट 1- a haunted house story

a haunted house story

a haunted house story, latest horror story in hindi, short spirit story in hindi,best horror story in hindi language, scary story in hindi language, ghost in hindi, भूत की कहानी
हम एक से बढ़कर एक डरावनी कहानियां प्रकाशित करते हैं। पेश है इसी कड़ी में आज हम “भयानक बक्से का डरा देने वाला रहस्य पार्ट 1”a haunted house story sites प्रकाशित कर रहे हैं . आशा है आपको ये कहानी पसंद आएगी

टक-टक ….! रोज रात को दादा जी का एक बक्सा आवाज किया करता था, इसकी टक- टक से तो हम लोग परेशान हो चुके थे, धीरे- धीरे टक- टक की आवाज घर की और भी सामानों से आने लगी. फिर एक दिन हमारे परिवार वालों के साथ एक ऐसा हादसा हुआ, जिसकी वजह से हमारा पूरा का पूरा परिवार तबहा हो गया. इसके बाद हमारा पुराना घर बर्बाद हो गया, न तो उस घर में कोई रुक पाया और न ही कुछ काम हो पाया. पापा ने बड़े-बड़े विद्वानों की मदद से उस बक्से को तन्त्र-मन्त्र के जरिया बंद कर व दिया. फिर इसका प्रकोप हमारे परिवार से दूर हो गया.
दरअसल, दादा जी पहले एक वैध थे, लेकिन कुछ लोग बोलते थे कि वो जादू टोना भी किया करते थे. दूर-दूर से लोग उनके पास इलाज करवाने आया करते थे. फिर एक दिन आचानक से दादा जी ने लोगों का इलाज करना बंद कर दिया और अपने कमरे में कुछ हफ़्तों के लिए बंद हो गए, उनको दरवाजे की नीचे से खाना दिया जाने लगा, फिर एक दिन दादा जी काले कपड़ों के साथ बाहर आये और फिर से लोगों का इलाज करने लगे, लेकिन अब दादा जी पूरी तरह से बदल चुके थे, उनके कमरे में किसी का भी जाना मना था. कई महीनों के बाद दादा जी का निधन हो गया. दादा जी ने मरने से पहले एक पत्र में लिख्र कर उनके कमरे में किसी को भी जाने से मना कर दिया था. इसके बाद से फिर उनके कमरे में कोई भी नहीं गया, लेकिन ऐसा कब तक चलता, एक दिन पापा जी उनके कमरे में चले गये, और वहां साफ सफाई करवाई. सफाई के दौरान पता चला की दादा जी जादू टोना किया करते थे. उनके बक्से में मानव कंकाल भी मिले थे.

जब से उनके कमरे की सफाई हुई थी, तब से घर में कुछ आजीब- आजीब सी घटनाएँ होने लगी थी. कभी कहीं से रोने की आवाज आती, तो कभी किसी के चिल्लाने की आवाज आती, ये सब आवाजे उस बक्से से ज्यादा आती थीं, फिर बाद में पुरे घर से डरावनी आवाजें आने लगी, ऐसा कई दिनों तक चलता रहा, हम लोग घर में पूजा पाठ भी करवाए, लेकिन कोई भी फायदा नहीं हुआ. उल्टा भयानक घटनाएँ और ज्यादा बढ़ने लगीं. अब तो दीवालों से खून भी टपकने लगा, कभी-कभी नलों से भी खून आने लगता. घर का सामान कभी कहीं मिलता, तो कभी कहीं,
एक दिन तो हद ही हो गई, मेरी मां रसोईघर में खाना पका रही थी, दोपहर का समय था. हम सब हॉल में बैठे हुए थे, एक तांत्रिक आया हुआ था, जो पूजा पाठ कर रहा था, तभी मेरी मां के जोर से चिल्लाने के आवाज आई, हम सब रसोईघर की तरफ दौड़े, देखा तो मां बेहोश पड़ी हुई थी. जब उनको होश आया तो वो बोलने की हालत में नहीं थीं. उनकी आवाज जा चुकी थी, और उनका दिमाग भी कुछ ठीक नहीं था, उसी दौरान हम लोगों ने वो पुराना घर छोड़ दिया, और उस घर से एक भी सामान नहीं लाये. सब वहीँ छोड़ दिया. पापा ने उस घर को और उस बक्से को तन्त्र-मन्त्र से बंद करवा दिया. नए घर में सब कुछ ठीक था, लेकिन मेरी मां न तो बोल सकती थीं, और न ही उनका दिमाग ठीक था वो पागल हो चुकी थीं.

और भी भूत की कहानियां horror stories पढ़ना ना भूलें==>
एक प्रेतात्मा का कहर
खुनी चुड़ैल और गर्ल्स हॉस्टल का आतंक
खुनी गुड़िया का कहर
खुनी हवेली का रहस्य

मैं आशा करता हूँ की आपको ये खबर आपको अच्छी लगी होगी। कृपया इसे अपने दोस्तों और रिश्तेदारों के साथ फेसबुक और व्हाट्स ऍप पर ज्यादा से ज्यादा शेयर करें। धन्यवाद्। ऐसी ही और कहानियों के लिए देसिकहानियाँ वेबसाइट पर घंटी का चिन्ह दबा कर सब्सक्राइब करें।
Tags-a haunted house story, latest horror story in hindi, short spirit story in hindi,best horror story in hindi language, scary story in hindi language, ghost in hindi, भूत की कहानी

a haunted house story

80%
Awesome
  • Design
loading...
You might also like