ga('send', 'pageview');
Articles Hub

एक लम्बा निर्वासन-a long exile new Hindi motivational story by Leo Tolstoy

a long exile new Hindi motivational story by Leo Tolstoy,inspirational story in hindi,inspirational story in hindi for students, motivational stories in hindi for employees, best inspirational story in hindi, motivational stories in hindi language

एक युवा व्यापारी था जिसका नाम ऑक्सीनोव था। संगीत का उसे शौक था पर उसे पीने की लत पड़ गई थी। शादी के बाद कभी -कभार ही पीटा था। एक दिन वह मेला जा रहा था पत्नी ने बताया कि वह अपनी यात्रा स्थगित कर दे क्योंकि उसने उसके बारे में एक अशुभ सपना देखा है। उसने बताया कि सपने में तुम्हे लौटते हुई देखा और जब तुमने अपनी टोपी उतारी तो मैंने देखा कि तुम्हारे सारे बाल सफ़ेद हो चुके हैं। वह हंसा और बोला -यह तो शुभ संकेत है ,मेले से तुम्हारे लिए बढियाँ तोहफे लाऊंगा। और वह चल पड़ा। रास्ते में उसे एक व्यापारी मिला। दोनों एक ही सराय में ठहरे। दोनों अगल -बगल कमरे में सोने चले गए। वह सुबह तड़के उठा और किराया अदा कर यात्रा पर निकल पड़ा। अचानक पच्चीस मील चलने के बाद एक गाडी से एक पुलिस अधिकारी और दो सिपाही निकले और पूछताछ करने लगे। कल रात कहाँ ठहरे थे ? उस वयारी को सुबह में देखा ? उसे समझ में नहीं आया कि उससे ये सारे प्रश्न क्यों पूछा जा रहा है। पुलिस अफसर ने कहा – कल रात तुमने जिस वयारी के साथ रात गुजारी उसकी गला काटकर ह्त्या कर दी गई है। हमें तुम्हारी तलाशी लेनी होगी। अचानक पुलिस अफसर ने उसके बक्से से खून साणे चाकू निकाला और पूछा यह चाकू किसका है ? वह इतना घबरा गया कि हकलाकर सिर्फ इतना बोला कि मैं नहीं जानता ,यह मेरा नहीं है। बताओ तुमने कैसे मारा और कितने पैसे चुराए ? उसने लाख दुहाई दी कि उसने किसी को नहीं मारा पर पुलिस अफसर ने उसके दोनों पैर बाँध दिए और गाडी में धकेल दिया। भय के मारे उसका चेहरा पीला पड़ चुका था। उसे कैदखाने में रख दिया गया। मुकदमा चला। उसकी बीबी बेहद परेशान थी। उसके बच्चे काफी छोटे थे और पति कैदखाने में। वह भी ह्त्या के जुर्म में। उसकी बीबी ने बताया कि उसने ज़ार के पास अर्ज़ी भेजी थी पर वह मंजूर नहीं हुई। उसने सारी उम्मीद छोड़ दी केवल ईश्वर की प्रार्थना करता रहा। उसे साई बेरिआ में छबीस बर्षों तक रखा गया। उसके बाल बर्फ की तरह सफ़ेद हो चुके थे।
और भी प्रेरक कहना पढ़ना ना भूलें==>
बुद्धि का उपयोग-Use of brain a new short motivational story of a mahatma
व्यक्ति के आवश्यक गुण-important tips of a man a new short inspirational Story
जीवन में सभी का महत्व-Importance of everyone in the life a new short inspirational Story

a long exile new Hindi motivational story by Leo Tolstoy,inspirational story in hindi,inspirational story in hindi for students, motivational stories in hindi for employees, best inspirational story in hindi, motivational stories in hindi language

उसकी सारी खुशियां लुप्त हो चुकी थी। कैदी लोग उसे दादाजी या संत कह कर पुकारते थे। उसे यह भी पता नहीं था कि उसके बीबी -बच्चे ज़िंदा हैं या नहीं। मेकर नाम का एक कैदी था उसे मेकर के बातों से यकीं हो गया कि इसी व्यक्ति ने व्यापारी का खून किया होगा। हालांकि वह अपने किसी जुर्म से इंकार कर रहा था और कहता कि उसे बेवजह फंसाया गया है। अचानक रात में मेकर आया और कहा कि उसने दीवार खोदकर एक सुराख बनाया है अगर उसने कुछ भी उगला तो वे मुझे कोड़े मार -मार कर ख़त्म कर देंगे उससे पहले मैं तुम्हे मार दूंगा -मेकर ने कहा। लेकिन यह प्लान धरा का धरा रह गया। सुरंग का पता चल चुका था। तलाशी ली गई। गवर्नर ने उससे पूछा कि सुराख किसने किया ? उसने सोचा मैं ऐसे शख्स को क्यों बक्शूं जिसने मेरे जीवन को तबाह किया है। मैंने जो भुगता है उसका मूल्य चुकाने दो। यदि मैं कहता हूँ कि तो ये लोग इसका प्राण ले ही लेंगे। हो सकता है कि इसपर नाहक शक कर रहा हूँ। और फिर इस सबसे मेरा क्या फायदा होगा ?

और चलते -चलते -चुभ जाती है बातें कभी तो कभी लहजे मार जातें — ,यह जिंदगी है जनाब ,यहां हम गैरों से ज्यादा ,अपनों से हार जातें हैं। समय गूंगा नहीं बस मौन है ,वक़्त पर बताता है किसका कौन है।

मैं आशा करता हूँ की आपको ये story आपको अच्छी लगी होगी। कृपया इसे अपने दोस्तों और रिश्तेदारों के साथ फेसबुक और व्हाट्स ऍप पर ज्यादा से ज्यादा शेयर करें। धन्यवाद्। ऐसी ही और कहानियों के लिए देसिकहानियाँ वेबसाइट पर घंटी का चिन्ह दबा कर सब्सक्राइब करें।

Tags-a long exile new Hindi motivational story by Leo Tolstoy,inspirational story in hindi,inspirational story in hindi for students, motivational stories in hindi for employees, best inspirational story in hindi, motivational stories in hindi language

80%
Awesome
  • Design
loading...
You might also like