Articles Hub

कभी नाराज मत होना-A motivational story for families

A motivational story for families,inspirational story in hindi,inspirational story in hindi for students, motivational stories in hindi for employees, best inspirational story in hindi, motivational stories in hindi language
आज रितिका का बर्थडे है और उसे पूरी उम्मीद है की राहुल उसे शादी के लिए प्रोपोज करेगा. राहुल ने रितिका को वादा किया था कि उसके बर्थडे के दिन वो उसे एक हीरे की अंगूठी देकर प्रोपोज करेगा.
रितिका बेसब्री से राहुल का इंतज़ार कर रही है. तभी दरवाजे की घंटी बजती है और राहुल सामने खड़ा होता है. राहुल बहुत खुश लग रहा है.
राहुल: मुझे माफ़ कर देना रितिका, आने में थोडा लेट हो गया
रितिका: कोई बात नहीं, अच्छा ये बताओ मेरा गिफ्ट कहाँ है?
राहुल: ( एक Teddy Bear रितिका को देते हुए ) हैप्पी बर्थडे रितिका, ये लो तुम्हारा तोहफा !
अरे ये क्या…रितिका ने तो सोचा था कि राहुल हीरे की अंगूठी लेकर आएगा और उसे प्रोपोज करेगा लेकिन वो तो एक छोटा सा Teddy Bear ले आया. रितिका को मन ही मन बहुत गुस्सा आया और उसने बिना कुछ कहे और सोचे समझे Teddy Bear को उठा कर घर की खिड़की से बाहर फेंक दिया. रितिका गुस्से में लाल खड़ी है.
तभी राहुल दौड़ कर नीचे जाता है, 200 सीडियां नीचे उतर कर वो Teddy Bear लाने जो सड़क के बीचो बीच पड़ा है. जैसे ही वो Teddy Bear उठाने के लिए झुका, कहीं से एक Truck आकर राहुल को कुचल देता है. राहुल को फ़ौरन हॉस्पिटल ले जाया गया लेकिन उसकी रास्ते में ही मौत हो गयी.
रितिका हॉस्पिटल पहुँचती है और बहुत रोटी है. राहुल के शव के पास ही वो Teddy Bear भी पड़ा है. रितिका उसे अपने सीने से लगाकर बहुत रोटी है बिलखती है.
तभी रितिका को Teddy Bear पर एक बटन सा दीखता है. जैसे ही वो उस बटन को दबाती है, उस Teddy Bear में से राहुल की आवाज़ आती है…….” रितिका, क्या तुम मुझसे शादी करोगी?” तभी Teddy Bear के ऊपर का हिस्सा खुलता है और उसमे हीरे की अंगूठी निकलती है ! !
A motivational story for families,inspirational story in hindi,inspirational story in hindi for students, motivational stories in hindi for employees, best inspirational story in hindi, motivational stories in hindi language
और भी प्रेरक कहना पढ़ना ना भूलें==>
बदलाव की एक प्रेरक कहानी
चालक भेड़िये और खरगोश की प्रेरक कहानी
कोयल और मोर की प्रेरणादायक कहानी
Moral
रितिका अपने आप को शायद ही कभी माफ़ कर पाए पर राहुल और रितिका की ये कहानी हमें एक सीख देती है. दुनिया में चाहे कुछ भी हो जाए, अपने प्रियजनों से कभी नाराज़ मत होईये. माफ़ करने में कभी देर मत कीजिये क्यूंकि अपनों से माफ़ी मांगने से आप छोटे या बड़े नहीं हो जाते. अपने प्रियजनों को फ़ौरन माफ़ कर दें क्यूंकि इस ज़िन्दगी का कोई भरोसा नहीं. गुस्से जैसी विषैली चीज़ की वजह से कहीं ऐसा ना ही कि आपको भी रितिका की तरह पूरी ज़िन्दगी पछताना पड़े.
मैं आशा करता हूँ की आपको ये story आपको अच्छी लगी होगी। कृपया इसे अपने दोस्तों और रिश्तेदारों के साथ फेसबुक और व्हाट्स ऍप पर ज्यादा से ज्यादा शेयर करें। धन्यवाद्। ऐसी ही और कहानियों के लिए देसिकहानियाँ वेबसाइट पर घंटी का चिन्ह दबा कर सब्सक्राइब करें।

Tags-A motivational story for families,inspirational story in hindi,inspirational story in hindi for students, motivational stories in hindi for employees, best inspirational story in hindi, motivational stories in hindi language

80%
Awesome
  • Design
loading...
You might also like