Articles Hub

शारदा देवी का भूत-a new hindi horror story of sharda devi

a new hindi horror story of sharda devi,ghost story in hindi language,ghost story in hindi pdf,ghost story in hindi with moral,ghost story in hindi online,ghost story novel in hindi,true love ghost story in hindi,ghost story in hindi new
शारदा देवी का जन्म गुजरात के भनगौर गाव में हुआ था। और उनका विवाह पोरबंदर शहर के व्यापारी जीवनलाल के साथ हुआ था। जीवनलाल एक सयुंक्त परिवार में रहते थे। कुल पाँच भाई और चार बहन तथा माता पिता का भरा पूरा परिवार था।
शारदा देवी ने एक पत्नी और बहू होने के सारे फर्ज निभाए। तन मन से अपने ससुराल वासियों की सेवा की। पर शारदा देवी को बदले में सुख नसीब ना हुआ। शारदा देवी की सांस और ननद शारदा देवी से जानवरो जैसा बर्ताव करते थे। उनके गहने कपड़े भी छीन लेते थे। बीमार होने पर, और गर्भवती होने पर भी शारदा देवी से घर का काम कराते थे। शारदा देवी ससुराल के अमानवीय अत्याचारो को सह सह कर जीती गयीं।
जीवनलाल कमाते तो खूब थे। पर उन्हे जुआ खेलने की गलत आदत भी थी। अपनी बुरी आदतों में मस्त जीवनलाल अपनी पत्नी के साथ हो रहे अत्याचार को रोकने की बजाये अपनी माँ और बहन की बात सुन सुन कर पत्नी को ही भला-बुरा कहते रहते। और कभी कभी तो गुस्से में शारदा देवी के साथ मार पीट भी कर लेते थे।
घर का काम करने और परिवार की सेवा करने के बावजूद शारदा देवी को दुख और तकलीफ़ें मिलने की वजह से उनका जिंदगी से जी भर गया। और तकलीफ में खुद के पति को अपने साथ ना पा कर, शारदा देवी ने जिंदगी का दामन छोड़ दिया।
ऐसा कहा जाता है के शारदा देवी ने जान बूझ कर गर्भावस्था के दौरान देसी घी के लड्डू भर पेट खाये थे। ताकि गर्भावस्था में उन्हें जहर चढ़ जाये और खुद की जान निकल जाए।
पत्नी की मृत्यु से जीवन लाल और उनके दोनों बच्चे दुखी हुए। और शारदा देवी की सांस और ननद को कई बार शारदा देवी की आत्मा ने अपने होने का अहसास दिलाया था।
a new hindi horror story of sharda devi,ghost story in hindi language,ghost story in hindi pdf,ghost story in hindi with moral,ghost story in hindi online,ghost story novel in hindi,true love ghost story in hindi,ghost story in hindi new

और भी डरावनी कहानियां पढ़ना ना भूलें=>
एक खौफनाक आकृति का डरावना रहस्य
लड़की की लाश का भयानक कहर
पुराने हवेली के भूत का आतंक
एक बार की बात है जब शारदा देवी की ननद ने उनका सोने का हार पहना था तब शारदा देवी की आत्मा ने उन्हे धक्का दे कर गिरा दिया था और उनकी छाती पर शारदा देवी की आत्मा बैठ गयी थीं। और जब तक उनकी ननद ने शारदा देवी का वह हार गले से नहीं निकाला तब तक उनको जमीन से उठने नहीं दिया था।
शारदा देवी के स्वर्गवास के उपरांत, जीवनलाल परिवार के किसी प्रसंग में जाते थे, तो अपनी मृत पत्नी को याद कर के रो देते थे। और कहते थे कि काश मैंने अपनी पत्नी की तकलीफों को समझा होता तो जिंदगी कुछ और होती।
शारदा देवी की सांस दिवाली बहन का स्वर्गवास भी 103 वर्ष की आयु में हुआ। अपने कर्मो के कारण अपने अंतिम दिनो में दिवालिबहन पाँच पाँच पुत्रो की माता होते हुए भी सब पर बोख बन कर जीं। शारदा देवी की ननद आज भी अपनी आखिरी साँसे गिन रहीं हैं उनकी आयु 80 साल है, और वह पोरबंदर के खारवा-वाड विस्तार में पुराने खंढर जेसे मकान में लावारिस की तरह पड़ी हुई है।
शारदा देवी के गहने और कपड़े आज भी उनकी वृद्ध ननद के कब्जे में है, पर वह उठ कर उसे ना तो देख सकती हैं, ना ही उन्हे छु सकती है। ऐसा लगता है के शारदा देवी की आत्मा ना तो अपनी ननद को मरने दे रहीं है ना तो उसे माफ कर रही है।

मैं आशा करता हूँ की आपको ये story आपको अच्छी लगी होगी। कृपया इसे अपने दोस्तों और रिश्तेदारों के साथ फेसबुक और व्हाट्स ऍप पर ज्यादा से ज्यादा शेयर करें। धन्यवाद्। ऐसी ही और कहानियों के लिए देसिकहानियाँ वेबसाइट पर घंटी का चिन्ह दबा कर सब्सक्राइब करें।

Tags-a new hindi horror story of sharda devi,ghost story in hindi language,ghost story in hindi pdf,ghost story in hindi with moral,ghost story in hindi online,ghost story novel in hindi,true love ghost story in hindi,ghost story in hindi new

80%
Awesome
  • Design
loading...
You might also like