Articles Hub

प्रतिष्ठा की पराजय-a new hindi motivational story of a lady

a new hindi motivational story of a lady,inspirational story in hindi,inspirational story in hindi for students, motivational stories in hindi for employees, best inspirational story in hindi, motivational stories in hindi language
पूरा घर ही रमादेवी को अस्तव्यस्त महसूस हो रहा है. सोफे के कुशन बिखरे हुए, दीवान की चादर एक कोने से काफी नीची खिंची हुई मुड़ीतुड़ी और फर्श पर खुशबू व पिंकू के खिलौने बिखरे हुए थे. काम वाली महरी नहीं आई, इसीलिए घर की ऐसी हालत बनी हुई थी. वैसे, उन का दिल तो चाह रहा था कि उठ कर सब कुछ व्यवस्थित कर दें, लेकिन यह घुटने का दर्द…उफ, किसी दुश्मन को भी यह बीमारी न लगे. हड़बड़ाती सी सुलभा औफिस जाने के लिए तैयार हो कर आई. सामान सहेजते हुए वह निर्देश भी देती जा रही थी, ‘‘मांजी, खुशबू को दूधभात खिला दिया है और पिंकू को दूध पिला कर सुला दिया है. उसे याद से 3-3 घंटे बाद दूध दे देना. आया आज छुट्टी पर है. सब्जी मैं ने बना दी है, फुलके बना लेना. अब मुझे समय नहीं है.’’
हवा की गति से सुलभा कमरे से बाहर चली गई और पति आलोक के साथ अपने दफ्तर की ओर रवाना हो गई. रमादेवी सबकुछ देखतीसुनती ही रह गईं. बोलने का अधिकार तो वह स्वयं ही अपनी जिद के कारण खो चुकी थीं. सच, वे कितनी बड़ी भूल कर बैठीं. अपनी झूठी शान के लिए लोगों पर प्रभाव डालने के प्रयास में उन्होंने कितना गलत निर्णय ले लिया. विचारों के भंवर में डूबतीउतराती वे पिंकू के रोने की आवाज सुन कर चौंकीं. पलंग से उतरने की प्रक्रिया में ही उन्हें 2-3 मिनट लग गए. घुटने को पकड़ कर शेष टांग को दूसरे हाथ से धीरेधीरे मलते हुए वे पैर को जमीन पर रखतीं. बहुत दर्द होता था, कभीकभी तो हलकी सी चीख भी निकल जाती. पैर घसीटते हुए वे पिंकू के पास पहुंचीं. कहना चाहती थीं, ‘अरे, राजा बेटा, इतनी जल्दी उठ गया?’ लेकिन दर्द से परेशान खीजती हुई बोल पड़ीं, ‘‘मरदूद कहीं का, जरा आराम नहीं लेने देता, सारा दिन इस की ही सेवा टहल में लगे रहो.’’
पिंकू, दादी की गोद में बैठ कर हंसनेकिलकने लगा तो रमादेवी को अपने कहे शब्दोें पर ग्लानि हो आई, ‘इस बेचारी नन्ही जान का क्या कुसूर. दोष तो मेरा ही है. मेरे ही कारण बहू अपने नन्हे बच्चों को रोता छोड़ नौकरी पर जाती है. मेरी ही तो जिद थी.’ अपनी इकलौती संतान आलोक की रमादेवी ने बहुत अच्छी परवरिश की थी. मांबाप के प्रोत्साहन से सफलता की सीढि़यां चढ़ते हुए इंजीनियरिंग की डिगरी प्राप्त की थी. जल्दी ही उसे एक प्रतिष्ठित कंपनी में अच्छे पद पर नौकरी मिल गई थी. आलोक की शादी के लिए रमादेवी ने जो सपने बुने थे उन में से एक यह भी था कि वह नौकरी करने वाली बहू लाएंगी. जब पति ने तर्क रखा कि उन्हें आर्थिक समस्या तो है नहीं, फिर बहू से नौकरी क्यों करवाई जाए, तो वे उत्साह से बोली थीं, ‘आप को मालूम नहीं, नौकरी करने वालों का बड़ा रोब रहता है. अपने महल्ले की सुमित्रा की बहू नौकरी करती है. सभी उसे तथा उस की सास को इतना सम्मान देते हैं मानो उन की बराबरी का हमारे महल्ले में कोई हो ही न.’
‘लेकिन उन की तो आर्थिक स्थिति कमजोर है. सुमित्रा के पति भी नहीं हैं तथा उन के बेटे की कमाई भी इतनी नहीं कि परिवार का खर्च आसानी से चलाया जा सके. मजबूरन आर्थिक सहायता के लिए उन की बहू नौकरी करती है. दोहरे कर्तव्यों के बोझ से वह बेचारी कितना थक जाती होगी. उस की कर्तव्यपरायणता के कारण ही सब उस की तारीफ करते हैं,’ पति ने समझाया था. ‘यह आप का खयाल है. मैं कुछ और ही सोचती हूं. हमारे खानदान में किसी की भी बहू नौकरीपेशा नहीं है. सोचो जरा, सभी पर हमारी धाक जमेगी कि हम कितने खुले विचारों वाले हैं, आधुनिक हैं, बहू पर कोई बंधन नहीं लगाते. इस का रोब लोगों पर पड़ेगा.’
‘तुम्हारी मति मारी गई है. लोगों पर रोब जमाने की धुन में अपने घर को कलह, तनाव का मैदान बना लें? सोचो, अगर बहू सारा दिन बाहर रहेगी तो तुम्हें उसे लाने का क्या फायदा होगा? न वह तुम्हारे साथ बैठ कर ठीक से हंसबोल सकेगी और न घर के कामों में मदद कर सकेगी,’ पति ने फिर से समझाने की कोशिश की. ‘घर के काम के लिए नौकरानी रख लेंगे. रही बात हंसनेबोलने की, तो शाम 6 बजे से रात तक क्या कम समय होता है?’
‘तुम से तो बहस करना ही व्यर्थ है’, कह कर पति चुप हो गए. आलोक के लिए लड़कियां देखने की प्रक्रिया जारी थी. रमादेवी ने कई अच्छी, शिक्षित लड़कियों को अस्वीकार कर दिया क्योंकि वे नौकरी नहीं करती थीं. आरंभ से ही घर में रमादेवी का दबदबा था, इसलिए पति व पुत्र उन के हर प्रस्ताव को मानने में ही अपनी खैर समझते थे. संयोग से जीवन बीमा कंपनी में कार्यरत सुलभा सभी को पसंद आ गई. रमादेवी को तो मानो मुंहमांगी मुराद मिल गई. खूबसूरत, कुलीन घर की बेटी और फिर अच्छी नौकरी पर लगी हुई. आननफानन बात पक्की कर दी गई. खूब धूमधाम से शादी हुई. सुलभा ने महीनेभर की छुट्टियां ली थीं. नवदंपती शादी के बाद 15 दिनों के लिए मधुमास मनाने पहाड़ों पर चले गए.
a new hindi motivational story of a lady,inspirational story in hindi,inspirational story in hindi for students, motivational stories in hindi for employees, best inspirational story in hindi, motivational stories in hindi language

और भी प्रेरक कहना पढ़ना ना भूलें==>
बदलाव की एक प्रेरक कहानी
चालक भेड़िये और खरगोश की प्रेरक कहानी
कोयल और मोर की प्रेरणादायक कहानी
घर लौटने पर एक दिन रमादेवी ने कहा, ‘सुलभा, पहली तारीख से तुम अपनी ड्यूटी शुरू कर लो,’ उन के आदेश से सभी चौंक गए. सभी का विचार था, वे अपनी जिद भूल चुकी होंगी, लेकिन उन का सोचना गलत निकला. ‘मांजी, आप को तकलीफ होगी. मैं सवेरे 10 बजे से शाम 6 बजे तक बाहर रहूंगी. घर का सारा काम…आप के अब आराम के दिन हैं. मैं आप की सेवा करना चाहती हूं,’ पति के सुझाए विचार सुलभा ने व्यक्त कर दिए. आलोक व पिता ने सोचा, अब रमादेवी अपनी जिद छोड़ निर्णय बदल लेंगी लेकिन जब उन्होंने उन का उत्तर सुना तो मन मार कर रह गए. वे बोलीं, ‘बहू, तुम मेरी तकलीफ की चिंता मत करो. मैं घर के सारे कार्यों के लिए नौकरानी का प्रबंध कर लूंगी. तुम बेफिक्र हो कर नौकरी करो. आजकल तो अच्छी नौकरी प्रतिष्ठा का प्रतीक है. हमारा भी तो मान बढ़ेगा.’
सभी को हथियार डालने पड़े थे. सुलभा पूर्ववत नौकरी पर जाने लगी थी. ‘सुलभा, कमाल है. इतने संपन्न घराने में ब्याह होने के बाद भी तुझे नौकरी की जरूरत है, समझ नहीं आता,’ औफिस में एक दिन वीणा ने कहा. ‘हां भई, अब तो नौकरी का चक्कर छोड़ो और अपने मियां तथा सासससुर की सेवा करो. इकलौती बहू हो,’ कल्पना ने भी मजाक किया. जब सुलभा ने उन्हें असलियत बताई तो वे हैरानी से एकदूसरे का मुंह ताकने लगीं कि अजीब सनकी सास है. लेकिन प्रत्यक्ष में वीणा बोली, ‘हाय सुलभा, तेरी सास तो बड़ी दिलेर है, जो सारी जिम्मेदारियां स्वयं उठा कर तुझे 8 घंटे के लिए आजाद कर देती है.’
‘हां, इस के तो मजे हैं…न खाना बनाना, न घर के कामों की चखचख. शान से औफिस आओ और घरवालों पर रोब जमाओ.’ लेकिन सुलभा को उन की बातों से कोई प्रसन्नता नहीं हुई. न चाहते हुए भी उसे मजबूरी में यह नौकरी करनी पड़ रही थी. शाम को थकहार कर जब वह लौटती तो दिल करता कि कुछ देर पलंग पर लेट कर आराम करे लेकिन संकोच के मारे ऐसा न कर पाती कि सास, पति क्या सोचेंगे? शादी से पहले वक्त काटने के लिए वह नौकरी करती थी. घर लौटते ही मां चाय की प्याली व कुछ नाश्ते से उस की दिनभर की थकान दूर कर देती थीं. कुछ देर आराम करने के पश्चात वह किसी भी सहेली के घर गपशप के लिए चली जाती थी. मां ही सारी रसोई संभालती थी. लेकिन मायके तथा ससुराल के रीतिरिवाजों, कार्यप्रणाली वगैरा में काफी फर्क होता है, यहां तो 8 बजे ही रात का खाना भी खा लिया जाता था, सो रसोई में मदद करना जरूरी था.
शादी से पहले सुलभा का विचार था कि संपन्न घराने में तो उस से नौकरी करवाने का प्रश्न ही नहीं उठेगा. फिर वह अपने सारे शौक पूरे करेगी, घर को अपनी पसंद के अनुसार सजाएगी, बगीचे को संवारेगी, अपने चित्रकारी के शौक को उभारेगी. पति व सासससुर की सेवा करेगी. एक आदर्श पत्नी और बहू बन कर रहेगी. लेकिन यहां तो उसे किसी भी शौक को पूरा करने का समय ही नहीं मिलता था, फिर धीरेधीरे नौकरी की मजबूरी एक आदत सी बनती चली गई. खुशबू के जन्म के समय कंपनी की
ओर से 3 महीने की छुट्टियां मिली थीं, सुलभा का जी चाहता रहा कि मांजी कहें, ‘अब नौकरी को छोड़ो अपनी गृहस्थी को संभालो.’ लेकिन उस की आस दिल में ही रह गई, जब रमादेवी ने घोषणा की, ‘खुशबू के लिए आया का प्रबंध कर दिया है, वैसे मैं भी सारा दिन उस के पास ही रहूंगी.’ दिन सरकते गए. बेशक खुशबू के लिए आया रखी गई थी, लेकिन उसे संभालती तो रमादेवी स्वयं ही थीं. आया तो उसे नहलाधुला, दूध पिला, घर का ऊपरी काम कर देती थी.
पोती को हर समय उठाए रमादेवी इधरउधर डोलती रहतीं. महल्ले में घूमघूम कर सब पर रोब डालतीं, ‘मेरी बहू तो हर पहली को 2 हजार रुपए मेरे हाथों में सौंप देती है. हम ने तो उसे बेटी की तरह पूरी सुखसुविधाएं और आजादी दे रखी है. आखिर बहू भी किसी की बेटी होती है. हम भी उसे क्यों न बेटी मानें?’ खुशबू के नामकरण के अवसर पर एक बड़ी पार्टी का आयोजन किया गया था, जिस में शहर के प्रतिष्ठित लोगों के साथसाथ समाज, बिरादरी, महल्ले के तथा सुलभा के सहकर्मियों को भी आमंत्रित किया गया. रमादेवी समारोह में पूरी तरह से इस प्रयास में लगी रहीं कि उन की बहू की अच्छी नौकरी से अधिकाधिक लोग भावित हों और उन का रोब बढ़े. सुलभा अब नौकरीपेशा जीवन की अभ्यस्त हो गई थी, बल्कि अब उसे नौकरी करना अच्छा लगने लगा था, क्योंकि सुबहशाम खाने का पूरा काम मांजी व आया मिल कर कर लेती थीं. घर लौटने पर चाय पी कर वह खुशबू के साथ मन बहलाव करती. उसे दुलारती, तोतली भाषा में उस से बतियाती, अपनी ममता उस पर लुटाती. घर में खुशबू एक खिलौना थी, जिस से सारे सदस्य अपना मन बहलाते.
2 वर्ष पश्चात पिंकू का जन्म हुआ तो जैसे घर दोगुनी खुशियों से आलोकित हो उठा. रमादेवी तो जैसे निहाल हो उठीं. पहले पोती और अब पोता, उन की मनोकामनाएं पूर्ण हो गई थीं. जैसे संसारभर की खुशियां सिमट कर उन के दामन में आ गई हों. सुलभा के औफिस जाने पर अब वे पोते को गोद में ले कर, खुशबू की उंगली पकड़ घूमतीं. उन्हें खिलातीपिलातीं, बतियातीं. कुछ उम्र का तकाजा और कुछ शारीरिक थकान, अधिक काम की वजह से अब रमादेवी जल्दी थकने लगीं. एक दिन दोनों बच्चों को लिए सीढि़यां उतर रही थीं कि पैर फिसल गया. यह तो गनीमत रही कि बच्चों को ज्यादा चोट नहीं आई, लेकिन उस दिन से उन के घुटने का दर्द ठीक नहीं हुआ. हर तरह की दवा ली, मालिश की, सेंक किया, लेकिन दर्द बना ही रहा. अब तो बच्चों को संभालना भी मुश्किल सा हो गया. आया आती तो थी लेकिन अपनी मनमरजी से ही कार्य करती थी. कभी पिंकू भूख से बिलबिलाता तो दूध ही नदारद होता. कभी खुशबू की खिचड़ी की मांग होती और आया आगे दलिया रख छुट्टी कर जाती. बच्चे चीखतेचिल्लाते तो रमादेवी स्वयं उठ कर उन्हें खिलाना चाहतीं लेकिन घुटने के दर्द से कराह कर फिर बैठ जातीं.
जिस दिन घर के काम के लिए महरी भी न आती उस दिन तो पूरा घर ही अस्तव्यस्त हो जाता. आया तो मुश्किल से बच्चों का ही काम निबटाती थी. उस की मिन्नतें कर के थोड़ाबहुत काम वे करवा लेतीं. शेष तो सुलभा को ही करना पड़ता. रमादेवी अब अकसर सोचतीं, ‘बहू बेचारी भी क्याक्या करे. दफ्तर संभाले, बच्चों की देखरेख या नौकरी करे?’ रमादेवी ने सोचा, अगर पति या बेटा कहे अथवा बहू खुद ही नौकरी छोड़ने की बात करे तो वे फौरन तैयार हो जाएंगी. लेकिन कोई इस प्रश्न को उठाता ही नहीं. शायद उन की परीक्षा ले रहे हैं या उन की जिद, झूठी प्रतिष्ठा का परिणाम उन्हें दिखाना चाहते थे. अब उन्हें स्वयं की भूल महसूस हो रही थीं. सुलभा के बच्चों की परवरिश ठीक ढंग से नहीं हो रही है, यह भी वे समझ रही थीं. मां के होते भी बच्चे उस का पूरा स्नेह, दुलार नहीं पा रहे थे. उस के औफिस से लौटने पर पिंकू अकसर सोया हुआ मिलता. खुशबू भी आया के साथ कहीं घुमने या बगीचे में गई होती. यह तो एक तरह से अन्याय था. बच्चों के प्रति मां को अपने कर्तव्यों से विमुख कराना अपराध ही तो था.
नहीं, अब और अन्याय वे नहीं होने देंगी. उन की तानाशाही के कारण ही सभी सदस्य चुपचाप अपने मानसिक तनावों में ही जबरन घुटघुट कर जी रहे हैं. उन के सामने कोई कुछ नहीं प्रकट करता, लेकिन वे इतने समय तक कैसे नहीं समझ पाईं? अचानक औफिस से लौटती सुलभा का कुम्हलाया चेहरा आंखों के सामने घूम गया. बेचारी को व्यर्थ ही नौकरी के जंजाल में फंसा दिया. यही तो उस के हंसनेखेलने के दिन हैं, लेकिन उन्होंने उसे बेकार के मानसिक तनावों में उलझा दिया. रमादेवी ने निर्णय ले लिया कि अब वे अपनी झूठी प्रतिष्ठा, रोबदाब को तिलांजलि देंगी. शाम सुलभा के औफिस से लौटने पर कह देंगी, ‘अब अपना घर, बच्चे संभालो. नौकरी की कोई आवश्यकता नहीं है.’ उन के निर्णय से सभी को आश्चर्य तो होगा ही, साथ ही शायद सभी सोचेंगे, वे हार गई हैं, उन का निर्णय गलत था. लेकिन इस हार से उन्हें कोई अफसोस या ग्लानि नहीं होगी, क्योंकि इस हार से सभी को लाभ होगा, उन्हें खुद भी.
मैं आशा करता हूँ की आपको ये story आपको अच्छी लगी होगी। कृपया इसे अपने दोस्तों और रिश्तेदारों के साथ फेसबुक और व्हाट्स ऍप पर ज्यादा से ज्यादा शेयर करें। धन्यवाद्। ऐसी ही और कहानियों के लिए देसिकहानियाँ वेबसाइट पर घंटी का चिन्ह दबा कर सब्सक्राइब करें।

Tags-a new hindi motivational story of a lady,inspirational story in hindi,inspirational story in hindi for students, motivational stories in hindi for employees, best inspirational story in hindi, motivational stories in hindi language

80%
Awesome
  • Design
loading...
You might also like