Articles Hub

पत्नी का भूत-A new hindi short horror story of a wife ghost

A new hindi short horror story of a wife ghost,ghost story in hindi language,ghost story in hindi pdf,ghost story in hindi with moral,ghost story in hindi online,ghost story novel in hindi,true love ghost story in hindi,ghost story in hindi new
एक आदमी की पत्नी बहुत बीमार पद गई। उसे तेज बुखार था। उसने अपने पति से कहा-मैं तुम्हे दिलोजान से प्यार करता हूँ। तुम्हे छोड़कर जाना नहीं छाती पर नियति किसी के वश में नहीं होता। वह चल बसी। मरने से पूर्व हिदायत दी की उसने हिदायत दी की वह उसे कभी नहीं भुलेगाऔर किसी दूसरी औरत से शादी नहीं करेगा। अगर उसने ऐसा नहीं किया तो उसकी आत्मा उसे चैन से जीने नहीं देगी। कुछ दिन बिट गए पति को तन्हाई काटने लगा वह किसी लड़की के मोहपाश में बंध गया। उसने उस लड़की से शादी कर ली। पहली पत्नी की आत्मा पहुँच गई। आत्मा ने कहा ‘तुमने अपना वादा तोड़ा है। अब मैं हर रोज तुम्हरे पास आउंगी और खूब परेशान करुँगी’इतना कहकर वह अदृश्य हो गई। पति बेचारे को रात भर नींद नहीं आयी अगले दिन वह फिर आयी और उसे एक आवाज़ सुनाई दी। ‘मैं तुम्हे चैन से जीने नहीं दूंगी। उसने एक -एक बात बता दी जो उसने कल से अपनी पत्नी से की थी। अब तो आदमी इतना दर गया की थार-थार कापने लगा। अगले ही दिन वह एक जैन मास्टर के पास गया और अपनी दुखड़ा सूना डाली। वह अत्यंत ही घबराया हुआने जानना था। मास्टर ने कहा ,;यह प्रेत बहुत चालाक है। उसे एक- एक बात का पता है। अब मैं जैसा कहता हूँ तुम वैसा ही करना। दूसरी रात को वह यानी उसकी पहली पत्नी की भूत प्रगट हुई तुम चाहती हो की मैं मैं अपनी पत्नी को छोड़ दूँ तो ठीक है इसके लिए तुम्हे एक प्रश्न का जवाब देना होगा।
और भी डरावनी कहानियां पढ़ना ना भूलें=>
एक खौफनाक आकृति का डरावना रहस्य
लड़की की लाश का भयानक कहर
पुराने हवेली के भूत का आतंक
A new hindi short horror story of a wife ghost,ghost story in hindi language,ghost story in hindi pdf,ghost story in hindi with moral,ghost story in hindi online,ghost story novel in hindi,true love ghost story in hindi,ghost story in hindi new
और अगर मेरे प्रश्न का जवाब देने में तुम असमर्थ रही तो तो तम्हे हमेशा के लिए मेरा पिंड छोड़ना पडेगा। भूत ने हामी भरी और बोली मंजूर है’उस आदमी ने एक पोटली में बहुत सारे छोटे -छोटे कंकड़ लिए और बोला ,’बताओ मेरी मुट्ठी में कितने कंकड़ है। ‘ भूत उत्तर नहीं दे सका और हमेशा के लिए गायब हो गया। वह मास्टर के पास पहुंचा और धन्यवाद दिया उसने जानना चाहा की आखिर इस प्रश्ना में क्या था की भूत भाग गया। मास्टर बोलै। -असल में कोई भूत था ही नहीं। वह उसी का बनाया भूत था। अवचेतन में रचा बसाया भूत। कितने कंकड़ है यह तुम्हे पता नहीं होगा तो भूत क्या बताएगा। कई बार हमें गिल्ट फीलिंग होती है हमें पुरानी घटनाओं पर अफ़सोस और खीज होता है। अपराध बोध होता है। गलतियां किस्से नहीं होती पर उसे जीवन भर सालते रहने से क्या फायदा क्या सचमुच में भूत होते हैं। भूत के अस्त्वित्व अस्त्वित पर अनेको प्रश्न चिन्ह हैं। यह मात्र वहम हो सकता है।

मैं आशा करता हूँ की आपको ये story आपको अच्छी लगी होगी। कृपया इसे अपने दोस्तों और रिश्तेदारों के साथ फेसबुक और व्हाट्स ऍप पर ज्यादा से ज्यादा शेयर करें। धन्यवाद्। ऐसी ही और कहानियों के लिए देसिकहानियाँ वेबसाइट पर घंटी का चिन्ह दबा कर सब्सक्राइब करें।

Tags-A new hindi short horror story of a wife ghost,ghost story in hindi language,ghost story in hindi pdf,ghost story in hindi with moral,ghost story in hindi online,ghost story novel in hindi,true love ghost story in hindi,ghost story in hindi new

80%
Awesome
  • Design
loading...
You might also like