Articles Hub

सीख-a new short emotional Hindi story of the friendship of a lion and a woodcutter

a new short emotional Hindi story of the friendship of a lion and a woodcutter

a new short emotional Hindi story of the friendship of a lion and a woodcutter,inspirational story in hindi,inspirational story in hindi for students, motivational stories in hindi for employees, best inspirational story in hindi, motivational stories in hindi language
कहानी सिर्फ कहानी नहीं होती। इसमें अंतर्निहित सन्देश हमारे जीवन में पथ-प्रदर्शक का काम करते है। हमें प्रेरणा मिलती है। एक लकड़हारा था। वह रोज जंगल में जाता और लकड़ियां काटकर लाता और उसे बाजार में बेचकर अपना गुजर बसर करता। एक दिन उसकी दोस्ती शेर से हो गई। उसे किसी दैवीय शक्ति के तहत इंसानी भाषा की समझ थी। धीरे-धीरे दोनों के बीच दोस्ती प्रगाढ़ हो गया। लकड़हारा लकड़ियां काटता और शेर उससे बाते करता। एक दिन लकड़हारे ने शेर को अपने घर पर खाने के लिये दावत दी.नियत समय पर शेर उसके घर पहुँच गया। लकड़हारे की पत्नी पहले तो आग-बबूला हो गयी। यह कैसी दोस्ती ?फिर काफी समझाने बुझाने पर वह खाना बनाने लगी। दोनों मित्र ने प्रेमपूर्वक खाया। खूब बाते की। बच्चे खुश थे। फिर रात में सोने की बात चली। लकड़हारे की पत्नी साथ सोने पर सख्त नाराजगी ब्यक्त की। एक हिंसक पशु के साथ सोना-विवश होकर लकड़हारे ने शेर को एक मोटी रस्सी में पेड से बाँध दिया। फिर सब गहरी नींद में सो गए। रात में जोरों की बारिश हुई। शेर रात भर भींगता,ठिठुरता रहा। सुबह होने पर उसकी रस्सी खोल दी गई। शेर जंगल की ओर चला गया।
और भी प्रेरक कहना पढ़ना ना भूलें==>
उड़ान-a new hindi inspirational story of the march month
बुद्धि एक अमूल्य धरोहर-three new motivational stories in hindi language
लवंगी-जगन्नाथ-A new hindi story from the the period of shahjhan

a new short emotional Hindi story of the friendship of a lion and a woodcutter,inspirational story in hindi,inspirational story in hindi for students, motivational stories in hindi for employees, best inspirational story in hindi, motivational stories in hindi language
लकड़हारा जंगल पहुंचा। वहाँ उसकी मुलाक़ात शेर से हुई शेर ने उससे कहा की वह अपनी कुलाहड़ी से उसके पीठ पर वार करे। लकड़हारा सकपकाया। शेर ने गर्जना की और कहा की जल्दी वार करो अन्थया वह उसे खा जाएगा।लकड़हारा भयभीत हो गया। उसने वार किये और शेर के पीठ पर एक गहरा जख्म हो गया। शेर चुपचाप अपनी गुफा में रिस्ते खून के साथ चला गया। फिर काफी दिनों तक दोनों की मुलाक़ात नहीं हुई। एक दिन शेर सामने प्रगट हुआ ,उसके जख्म ठीक हो चुके थे। लकड़हारे ने उसके इस तरह के बेरुखी पूर्ण व्यवहार के कारण पूछे। शेर ने जवाब दिया। -तुम मेरे अच्छे दोस्त थे। पर उस रात तुमने अपनी पत्नी के कहने पर मुझे रस्सी में बांधकर अकेला छोड़ दिया और तुम मस्ती में रात भर आराम से सोते रहे। इधर मैं बारिश में भींगता रहा। अब चले जाओ यहां से। नहीं तो मैं तम्हारा भक्षण कर लूंगा। आज से हमारी तुम्हारी दोस्ती ख़तम। ऐसे विश्वासघाती से दोस्ती ना रहे यही अच्छा है। भरोसा जब टूटता है तो इसकी टीस बहुत दिनों तक रहती है। शेर के पीठ पर जख्म के निशान दोस्ती में आघात को ही दर्शाते हैं।

मैं आशा करता हूँ की आपको ये story आपको अच्छी लगी होगी। कृपया इसे अपने दोस्तों और रिश्तेदारों के साथ फेसबुक और व्हाट्स ऍप पर ज्यादा से ज्यादा शेयर करें। धन्यवाद्। ऐसी ही और कहानियों के लिए देसिकहानियाँ वेबसाइट पर घंटी का चिन्ह दबा कर सब्सक्राइब करें।

Tags-a new short emotional Hindi story of the friendship of a lion and a woodcutter,inspirational story in hindi,inspirational story in hindi for students, motivational stories in hindi for employees, best inspirational story in hindi, motivational stories in hindi language

80%
Awesome
  • Design
loading...
You might also like