Articles Hub

संवेदना-a new short emotional Story of mahatma bhudh

a new short emotional Story of mahatma bhudh,inspirational story in hindi,inspirational story in hindi for students, motivational stories in hindi for employees, best inspirational story in hindi, motivational stories in hindi language
कहते हैं इस जगत में सभी कुछ नियति से बंधा है। भाग्य है तभी तो जो होने को है वही हो रहा है। हमें कर्ता का भाव ना ले। आज के लोग बहुत जटिल हो गए हैं। एक संवेदनशील ब्यक्ति कभी निष्ठुर नहीं हो सकता। तथागत कभी जंगल में हाथी थे। उन्होंने आपबीती सुनाई। जंगल में आग लग गई। सारे पशु- पक्षी बेतहाशा भागे जा रहे थे। दुःख और भय से कौन नहीं बचना चाहता ?यह भाव चेतना में उठता है। बुद्ध ने कहा कि जब सभी भाग रहे थे तब मैं [हाथी अवतार में]भी भागा। कुछ देर बाद मैं थक गया। एक पेड़ के नीचे सुस्ताने लगा।छण भर के विश्राम के लिए। पर जैसे ही एक पैर ऊपर उठाया वहाँ से हटने के लिए तभी एक खरगोश भागता हुआ आया और मेरे उठे हुए पैर के निचे खाली जगह में बैठ गया। मैंने सोचा कि आग के भय से जैसे मैं अपना प्राण बचा रहा हूँ वैसे ही यह खरगोश भी भाग रहा है। कोई भेद नहीं है। चाहे बलवान हो या कमजोर ,शिकार हो या शिकारी। पर अगर मैं अपना पावं रखूं तो यह छोटी काया वाला प्राणी मर जाएगा। खरगोश वहीँ था वह शायद थक गया था इसलिए भाग भी नहीं रहा था। शायद उसे आसन्न खतरे का एहसास नहीं था। उसे कोई दर नहीं था। शायद हाथी को देखकर। बड़ों के पीछे ही तो छोटे चलते हैं।
a new short emotional Story of mahatma bhudh,inspirational story in hindi,inspirational story in hindi for students, motivational stories in hindi for employees, best inspirational story in hindi, motivational stories in hindi language
और भी प्रेरक कहना पढ़ना ना भूलें==>
उड़ान-a new hindi inspirational story of the march month
बुद्धि एक अमूल्य धरोहर-three new motivational stories in hindi language
लवंगी-जगन्नाथ-A new hindi story from the the period of shahjhan
आग की लपटें भयंकर होती गई और अंततः हाथी जलकर मर गया। इसी करुणा के कारण वे मनुष्य होने की शक्ति प्राप्त कर लिया। । यह उनके लिए वरदान स्वरुप था। महात्मा बुद्ध ने कहा है कि संसार के सरे प्राणी सुख दुःख के भाव को समझते हैं। परिंदे कुछ नहीं बिगाड़ते फिर भी उन्हें मार डाला जाता है। वे तो केवल सत्य की यात्रा पर होते हैं अहिंसा के पाठ को हम भूल जाते हैं हैं। एक प्रयोजन की यात्रा को सिर्फ हानि पहुंचाते हैं। एक सुन्दर सी यात्रा आकांछाओं से भरी यात्रा को खंडित कर डालते हैं। इस दुनिया में कोई अकारण नहीं आया है। क्योंकि अकारण का कोई अस्तित्व नहीं होता। बस प्रेम और करुणा की भाषा को समझना होगा।

मैं आशा करता हूँ की आपको ये story आपको अच्छी लगी होगी। कृपया इसे अपने दोस्तों और रिश्तेदारों के साथ फेसबुक और व्हाट्स ऍप पर ज्यादा से ज्यादा शेयर करें। धन्यवाद्। ऐसी ही और कहानियों के लिए देसिकहानियाँ वेबसाइट पर घंटी का चिन्ह दबा कर सब्सक्राइब करें।

Tags-a new short emotional Story of mahatma bhudh,inspirational story in hindi,inspirational story in hindi for students, motivational stories in hindi for employees, best inspirational story in hindi, motivational stories in hindi language

80%
Awesome
  • Design
loading...
You might also like