ga('send', 'pageview');
Articles Hub

अविस्वरणीय-a new short hindi inspiration story of three brothers

a new short hindi inspiration story of three brothers,inspirational story in hindi,inspirational story in hindi for students, motivational stories in hindi for employees, best inspirational story in hindi, motivational stories in hindi language
किसी गाँव में तीन भाई एक साथ रहते थे। उनके घर के आँगन में एक फलदार बृक्ष था। एक भाई हमेशा उस बृक्ष की रखवाली करता था। एक बार एक देवदूत भिक्षुक का वेश धारण कर उसकी परीक्षा ले पहुंचे। उन्होंने कहा ,-‘मुझे एक फल दो। ‘बड़े वाले भाई ने अपने हिस्से का फल दे दिया। देवदूत चला गया। दूसरे दिन वह देवदूतफिर आया और फल मांगने लगा। दूसरे भाई ने अपने हिस्से का फल दे दिया। देवदूत तीसरे दिन भी आया। सभी भाई उस दिन उपस्थित थे। साधू ने तीनो भाईओं को साथ चलने को कहा। जब वे एक नदी के पास पहुंचे तब साधू ने कहा -‘मांगो ,क्या चाहते हो ?’बड़े भाई ने कहा ,-कितना अच्छा होता कि इस नदी का पानी शराब में बदल जाता वैसा ही हुआ। नदी का जल शराब के रूप में परिवर्तित हो गया। अब दूसरे भाई की बारी थी। उसने कहा -.’ये सारे कबूतर अगर भेड़ों में बदल जाते तो कितना अच्छा होता। तेरी इच्छा पूर्ण हो गयी पर गरीबों को मत भूलना। उसी समय उस विशाल मैदान भेड़ों से भर गया। अब उस साधू ने सबसे छोटे भाई से वरदान मांगने को कहा। उसने कहा ,’-मैं एक धर्मपरायण स्त्री चाहता हूँ। साधू ने कहा ,’इस जगत में केवल तीन धर्मपरायण स्त्रियां हैं। इसमें से दो का विवाह हो चुका है। तीसरी राजपुत्री हैं और उससे दो राजकुमार विवाह करना चाहते है। छोटे भाई की इच्छा पूरा करने के लिए साधू राजा के पास गया और और राजा को सारी बात बतायी .
और भी प्रेरक कहना पढ़ना ना भूलें==>
चाणक्य नीति-Two new motivational stories about Chanakya niti and solutions
लाइफ इस ब्यूटीफुल-An inspirational story of a movie life is beautiful
एक क्रांतिकारी खोज-a new short motivational story in hindi language about a revolutionary invention
a new short hindi inspiration story of three brothers,inspirational story in hindi,inspirational story in hindi for students, motivational stories in hindi for employees, best inspirational story in hindi, motivational stories in hindi language

राजा को सोच में पड़ते देख साधू ने कहा,-‘अंगूर की तीन डालियाँ मंगवायें और तीनो पर अलग -अलग नाम लिखकर बगीचे में गाड़। दें प्रातःकाल जिस डाली में अंगूर लगेंगे उसी नाम के साथ राजकुमारी का विवाह होगा। सुबह जब देखा गया तो भाई की डाली में अंगूर लगे थे। विवाह उस छोटे भाई के साथ हो गया। बाद वही देवदूत जब पृथ्वी पर साधू के रूप में आये तो बड़े भाई के पास जाकर एक प्याला शराब की मांग की। बड़े भाई ने क्रोध में आकरकहा ,भाग यहां से ,मैं बिना मूल्य के शराब किसी को नहीं देता ,’फिर क्या था शराब की नदी का जल पहले की तरह स्वच्छ हो गया। तु गरीबों को भूल गया है। अब जाकर पहले की तरह पेड़ों की रखवाली कर। दूसरे भाई के पास गया और पीने के लिए दूध माँगा.उसने कहा ,-‘मैं आलसी ब्यक्तिओं को दूध नहीं देता। ‘साधू ने कहा -‘तूँ भी गरीबों को भूल गया है। पहले के ही तरह जाकर पेड़ों की देखभाल कर। साड़ी भेड़ें गायब हो गयी। अब तीसरे भाई की परीक्षा लेनी थी। साधू ने -,मुझे भोजन दो ‘ .हम निर्धन हैं फिर भी आप यहाँ सुखपूर्वक रहिये ,’तूँ गरीबों को नहीं भूला है ,तेरा कल्याण होगा। झोपड़ी की जगह विशाल राजमहल बन गया। साधू ने कहा -जबतक तुम निर्धनों की सेवा करेगा तबतक यह सम्पति तेरे पास रहेगी। और तीसरा भाई सुखपूर्वक जीवन व्यतीत करने लगा। और अंत में –‘क्रोध ,गुस्सा ,नफरत यह सब धीमा जहर है ,इन्हे पीते खुद हम हैं और सोचते हैं मरेगा कोई दूसरा।

मैं आशा करता हूँ की आपको ये story आपको अच्छी लगी होगी। कृपया इसे अपने दोस्तों और रिश्तेदारों के साथ फेसबुक और व्हाट्स ऍप पर ज्यादा से ज्यादा शेयर करें। धन्यवाद्। ऐसी ही और कहानियों के लिए देसिकहानियाँ वेबसाइट पर घंटी का चिन्ह दबा कर सब्सक्राइब करें।

Tags-a new short hindi inspiration story of three brothers,inspirational story in hindi,inspirational story in hindi for students, motivational stories in hindi for employees, best inspirational story in hindi, motivational stories in hindi language

80%
Awesome
  • Design
loading...
You might also like