Articles Hub

जादुई पेड़-a new short hindi story of magical tree in hindi language

a new short hindi story of magical tree in hindi language

a new short hindi story of magical tree in hindi language,inspirational story in hindi,inspirational story in hindi for students, motivational stories in hindi for employees, best inspirational story in hindi, motivational stories in hindi language

एक गांव में एक लकड़हारा रहता था। वह प्रतिदिन जंगल जाता और लकड़ियां काटकर और बाजार में बेचकर गुजर- बसर -करता था। एक दिन की बात है वह एक पेड़ काट रहा था । वह थक गया और पेड़ की डाल पर ही सुस्ताने था। गर्मी का मौसम था। तभी उसे घोड़ों की टाप। सुनाई दी। कई घुड़सवार थे उनके हाथों में चमचमाती तलवारें थी। तभी एक ने पेड़ के पास आकर एक मंत्र पढ़ा। पेड़ में से दरवाजा खुला। सभी पेड़ के अंदर चले गए। फिर कुछ घंटों बाद सभी बाहर आये और फिर मंत्र पढ़े दरवाजा बंद हो गया। लकड़हारा अचंभित था। वह दूसरे दिन उस पेड़ के ऊपर चढ़ गया और इन्तजार करने लगा। कुछ देर बाद फिर वही घुड़सवार आये कुछ पंक्तियाँ पढ़ी और दरवाजा खुला। वे अंदर गए फिर कुछ देर बाद वे अनजान दिशाओं में चले गए। लकड़हारा उनके जाने के बाद पेड़ से उतरा और वही पंक्तियाँ दुहरायी। दरवाजा खुला और लकड़हारा अंदर गया। वहां ढेर सारे सोने हीरे के रत्न थे। इतना सोना,हीरा कि उसकी आँखे चुंधियाँ गई। पर जैसे ही सोने हीरे की ढेर में से वह कुछ लेना चाहा की अजीब सी आवाज आई और दरवाजा स्वतः बंद हो गया। लकड़हारा बुरी तरह घबराया। उसे एहसास हो गया कि जब वे लोग उसे यहां देखेंगे तो निश्चित रूपेण उसे मार डालेंगे। उसने एक छोटे से कातार्जो उसकी कमर से लटका था ,से बी जब वे लौटे तो पेड़ कटा देखर पेड़ में एक छेद किया और हाथ निकालकर जोर -जोर से चिल्लाने लगा। थोड़ी देर में लोग जमाहो गए।

a new short hindi story of magical tree in hindi language,inspirational story in hindi,inspirational story in hindi for students, motivational stories in hindi for employees, best inspirational story in hindi, motivational stories in hindi language
ग्राम -प्रधान को खबर लगी वे भी वहाँ पहुँचे। तांत्रिक को बुलावा भेजा। कहीं भूत-प्रेत का तो चक्कर नहीं है। कुछ देर बाद छेद से एक पैर बाहर आया। चिल्लागांव ने की भी आवाज आई। लोग समझ नहीं पा रहे थे कि आखिर माजरा क्या है। अंततः ग्राम प्रधान ने पेड़ काटने का निर्णय लिया। पेड़ के कटते ही लोगों की आँखे फटी रह गई। इतने जवाहारात। जिसको जितना हाथ लगा ,लेकर गांव लौट गए। कुछ घंटों बाद जब घुड़सवार लोग लौटते पेड़ को कटा पाया। जवाहारात भी गायब थे। दरअसल वे देवदूत थे। उन्होंने अपनी दिव्य दृष्टि से देख लिया की पास वाले गांव के लोगो का हाथ है। वे वहां पहुंचे। गांव के लोग समझ गए की ये साधारण इंसान नहीं बल्कि देवदूत हैं। उन्हें श्राप का दर सताने लगा। उन्होंने बताया की लोभवश उनलोगों ने जवाहारात नहीं लिए बल्कि लोगों की भलाई और सेवा के उद्देश्य से लिए। देवदूत ने बताया की ये सारा धन गरीबों के कल्याण हेतु इक्क्ठा किया जा रहा है। गांव वालों ने सारे जवाहारात देवदूतों को वापस लौटा दिए। देवदूत वापस लौट गए उसके बाद उस गांव में खुशहाली लौट आयी। सभी खुशीपूर्वक अपना जीवन ब्यतीत करने लगे। सच है कि जीवन में सारे दुखों का कारन लोभ होता है
और भी प्रेरक कहना पढ़ना ना भूलें==>
उड़ान-a new hindi inspirational story of the march month
बुद्धि एक अमूल्य धरोहर-three new motivational stories in hindi language
लवंगी-जगन्नाथ-A new hindi story from the the period of shahjhan

मैं आशा करता हूँ की आपको ये story आपको अच्छी लगी होगी। कृपया इसे अपने दोस्तों और रिश्तेदारों के साथ फेसबुक और व्हाट्स ऍप पर ज्यादा से ज्यादा शेयर करें। धन्यवाद्। ऐसी ही और कहानियों के लिए देसिकहानियाँ वेबसाइट पर घंटी का चिन्ह दबा कर सब्सक्राइब करें।

Tags-a new short hindi story of magical tree in hindi language,inspirational story in hindi,inspirational story in hindi for students, motivational stories in hindi for employees, best inspirational story in hindi, motivational stories in hindi language

80%
Awesome
  • Design
loading...
You might also like