ga('send', 'pageview');
Articles Hub

जैसा है अच्छा है-A new short inspirational Story of a Chameleon and his colours

A new short inspirational Story of a Chameleon and his colours,inspirational story in hindi,inspirational story in hindi for students, motivational stories in hindi for employees, best inspirational story in hindi, motivational stories in hindi language
एक गिरगिट था वह एक जंगल में हरे भरे पेड़ पर रहता था, उसे खाने की कोई कमी नहीं थी। उसकी जिंदगी आराम से कट रही थी,लेकिन फिर भी वह अपने रंग के कारण दुखी था, वह सोचता था कि यह भी कोई जीवन है सुबह किसी और रंग के दिन में किसी और के और शाम को किसी और रंग के हर थोड़ी देर में अपने ही लिए अनजान बन जाना इससे तो अच्छा दूसरे जानवर है कि उनकी खुद की कोई पहचान है, कोई रंग है लेकिन मेरा तो कोई रंग रूप ही नहीं है। यही सोचते सोचते उसे नींद आ जाती है और वह भगवान से प्रार्थना करता है कि हे भगवान मुझे सांप बना दो, थोड़ी देर बाद वह देखता है कि उसका फन आ गया है और उसका शरीर लंबा लहराता हुआ हो गया है, वह सांप की तरह रेंग रहा है।वह बहुत खुश होता है और आगे की ओर बढ़ता है। कुछ दूर चलने पर उसे एक मोर दिखाई देता है, वह डर कर पेड़ के पीछे छुप जाता है और सोचता है काश में नेवला होता थोड़ी देर बाद उसे लगता है कि उसके झबरीली पूछ निकल गई है और वह मोटा हो गया है और खुद को नेवला समझने लगता नेवला बनकर जैसे ही वह उछलता है तो पेड़ की टहनी में फंस जाता उससे हिलते भी नहीं बन रही थी, दर्द हो रहा था तब वह सोचता है कि काश में पेड़ होता तो एक ही जगह खड़ा होकर हवा में झूमता रहता, कुछ समय बाद उसे ऐसा लगता है कि वह पेड़ बन गया और पक्षी उसे चोच मार रहे हैं, उसे बड़ा दर्द हो रहा है, वह फिर सोचता कि मैं पक्षी होता तो अच्छा होता फिर वह पक्षी की तरह महसूस करने लगता है और आकाश में उड़ता है तभी देखता है कि नीचे कुछ बच्चे उसे गुलेल मार रहे हैं वह आंख बंद कर लेता है। तब बहुत सोचता है कि मैं तो गिरगिट ही अच्छा था। इतने में उसकी नींद खुल जाती है तो वह देखता है कि वह तो वही गिरगिट है। तब वह मन ही मन खुश होता है कि अच्छा हुआ मैं कुछ और नहीं बना भगवान ने मुझे जैसा बनाया है मैं अच्छा हूं।
अतः सभी को अपने आप में खुश रहना चाहिए।
और भी प्रेरक कहना पढ़ना ना भूलें==>
मनुष्य की इच्छाशक्ति-willpower of a man a new short inspirational Story in hindi language
कर्तव्य का पालन-Follow the Duty a new short inspirational Story in hindi
बीस साल बाद-After twenty years a new short inspirational story by O Henry

मैं आशा करता हूँ की आपको ये story आपको अच्छी लगी होगी। कृपया इसे अपने दोस्तों और रिश्तेदारों के साथ फेसबुक और व्हाट्स ऍप पर ज्यादा से ज्यादा शेयर करें। धन्यवाद्। ऐसी ही और कहानियों के लिए देसिकहानियाँ वेबसाइट पर घंटी का चिन्ह दबा कर सब्सक्राइब करें।

Tags-A new short inspirational Story of a Chameleon and his colours,inspirational story in hindi,inspirational story in hindi for students, motivational stories in hindi for employees, best inspirational story in hindi, motivational stories in hindi language

80%
Awesome
  • Design
loading...
You might also like