ga('send', 'pageview');
Articles Hub

टूटा पंख-a new short inspirational story of a father and his three sons

a new short inspirational story of a father and his three sons
a new short inspirational story of a father and his three sons,inspirational story in hindi,inspirational story in hindi for students, motivational stories in hindi for employees, best inspirational story in hindi, motivational stories in hindi language
टूटा पंख -एक बूढ़े के तीन बेटे थे। उसके बड़े बेटे कुरूप और आलसी थे वाहिन्छ्ता बेटा रूपवान और भला इंसान था। उसका नाम इल -चुंग था। बूढ़ा बाप सबसे छोटे बेटे को बहुत प्यार करता था। इससे बड़े भाई बहुत ईर्ष्या करते थे। एक दिन बूढ़े की मृत्यु हो गयी। अपने पिता की मृत्यु पर इल चुंग फूट -फूट कर रोने लगा। बड़े भाईओं ने चिढ़कर कहा ,-‘झूठ -मूठ का रोना -धोना बंद कर ‘ दोनों बड़े भाई साल सारी और टोंग टांगी ने इल चुंग को बाहर निकाल दिया। एक सुखी रोटी का टुकड़ा उसके मुंह पर दे मारा और वहाँ से दफा होने को कहा। और कचारों तरफ अनगिनत हरे पत्ते हा कि जायदाद में उसे यही हिस्सा है। दया की भीख मांगना भी व्यर्थ था। इसलिए वह निकट के एक जंगल में चला गया। एक कुटिया बना ली और उसमे रहने लगा। जंगल से कांड -मूल बटोरकर अपना जीवन बसर करने लगा। एक दिन उसे बड़ी भूख लगी वह कुछ बेर इकट्ठा कर अपनी कुटिया की तरफ चल पड़ा। रास्ते में एक घायल चिड़ियाँ मिली। उस चिड़ियाँ का एक डैना टूटा हुआ था। उसने सारे बैर उस चिड़ियाँ को खिला दिए। उसने उस चिड़ियाँ की इतनी सेवा की वह जल्दी ही स्वस्थ हो गयी और एक दिन सुबह ही वह उड़ गयी। दूसरे दिन उसने देखा कि वही चिड़ियाँ पेड़ पर बैठी है। उसकी चोंच में नन्हा सा बीज था। उसने उस बीज को देते हुए कहा की उसने उसकी बड़ी सेवा की। वह यह नन्हा सा बीज बो दे उसका भाग्य चमक उठेगा। उसने अपनी कुटिया के बाहर बीज बो दिया। सुबह जब वह उठा तो उसने देखा कि चारों तरफ अनगिनत हरे पत्ते फैले हुए हैं। उसे घने पत्ते के बीच एक कुम्हड़े की बेल मिला। इन घने पत्तों के बीच अनगिनत रसीले कुम्हडे चमक रहे थे। अब उसे भूख मिटाने के लिए जंगल में भटकना नहीं पडेगा .
और भी प्रेरक कहना पढ़ना ना भूलें==>
विधाता की मर्ज़ी-two new short inspirational stories with a nice thought
चतुराई-a new short motivational story in hindi language about the cleverness
भिखारी-an inspirational story from the life of a beggar
a new short inspirational story of a father and his three sons,inspirational story in hindi,inspirational story in hindi for students, motivational stories in hindi for employees, best inspirational story in hindi, motivational stories in hindi language
एक कुम्हड़े को जैसे ही काटा कि उसमे से सोने की मोहरें बिखर गयी। िल -चुंग बहुतखुश हुआ। उसके दोनों भाईओं ने उससे नीचता पूर्ण व्यवहार किया। पर उसने कहा -‘देखो मैं तुम्हारे लिए क्या उपहार लाया हूँ। ? दोनों ने कहा ,नालायक ,ले जाओ अपने कुम्हड़े उसने एक कुम्हड़े को काटा ,उसमे से खनखनाती हुयी सोने की मोहरें निकली। दोनों उछल -कूद करने लगे और कहा कि अब काम करने की क्या जरूरत है ,पूरी जिंदगी मज़े से खाएंगे और मौज करेंगे। फिर उन दोनों ने इल -चुंग को धक्का मारकर कहा -‘चल भाग यहां से ,इस घर में तेरे लिए कोई जगह नहीं है। बड़े भाई ने अपने मुर्ख भाई को कहा -‘चल जा उस घायल चिड़ियाँ को पकड़ के ला , खाली हाथ मत लौटना। साल -सारी को टूटे पंख वाली चिड़ियाँ नहीं मिली। उसने एक दूसरे चिड़ियाँ को झपटकर पकड़ा और उसका एक पंख तोड़कर वह घर लौट आया। दोनों भाईओं ने घायल चिड़ियाँ का उपचार शुरू किया। आखिर चिड़ियाँ उड़ने लायक हुयी और एक दिन पंख फैलाकर उड़ भी गयी। दूसरे दिन उस चिड़ियाँ ने अपनी चोंच में एक बीज लाकर टोंग -टांगी के पैरों के पास रखकर उड़ गयी। दोनों ने उस बीज को घर के बाहर बो दिया। अनगिनत बेल उग आये। एक बड़ा सा छुरा लेकर कुम्हड़ को काटा। कुम्हड़े के भीतर से चिप चिप सांप छिपकलियां और मेढक निकल पड़े। दोनों भाई इस भयावह दृश्य को देखकर थार -थार कांपने लगे। दूसरे कुम्हड़े को काटा तो उसमे से भी भयावह जीव -जंतु निकले। सारे घर में सांप रेंग रहे थे वे उन दोनों भाईओं के टांगो से लिपटने लगे। दोनों भाई चीखते हुए जंगल की तरफ भागे। पर वहाँ भी साँपों ने उनका पीछा नहीं छोड़ा। उसके बाद से उन दोनों भाईओं का शक्ल किसी ने नहीं देखा शायद वे उस देश से ही भाग गए थे। सच ही तो है -जैसी करनी ,वैसी भरनी।

मैं आशा करता हूँ की आपको ये story आपको अच्छी लगी होगी। कृपया इसे अपने दोस्तों और रिश्तेदारों के साथ फेसबुक और व्हाट्स ऍप पर ज्यादा से ज्यादा शेयर करें। धन्यवाद्। ऐसी ही और कहानियों के लिए देसिकहानियाँ वेबसाइट पर घंटी का चिन्ह दबा कर सब्सक्राइब करें।

Tags-a new short inspirational story of a father and his three sons,inspirational story in hindi,inspirational story in hindi for students, motivational stories in hindi for employees, best inspirational story in hindi, motivational stories in hindi language

80%
Awesome
  • Design
loading...
You might also like