ga('send', 'pageview');
Articles Hub

ह्रदय परिवर्तन-a new short inspirational story of a king and a daaku

a new short inspirational story of a king and a daaku

a new short motivational story in hindi language of a poor man,,inspirational story in hindi,inspirational story in hindi for students, motivational stories in hindi for employees, best inspirational story in hindi, motivational stories in hindi language
ह्रदय परिवर्तन -मंगलसेन नाम का राजा बहुत ही शूरवीर तथा पराकर्मी था। वह नित्य शाम को जान -अदालत लगाता था। समस्यायों को सुनता तथा उनका निदान करने का भरपूर प्रयास करता। वह गरीबों को दान भी देता ,सारे राज्य में सुख -शान्ति थी। राजा का एक प्रिय घोड़ा था। उसका नाम था पवन। जब पवन दौड़ता तो लगता जैसे हवा में उड़ रहा हो। वह अपने मित्र और मंत्री के साथ अक्सर घुड़सवारी किया करते थे। राजा पवन को अपने पुत्र के सामान प्यार करते थे। गुलाब सिंह नाम का डाकू ने राज्य में आतंक फैला रखा था। लोग उसका नाम सुनते ही दर जाते थे। राजा चाहते थे कि उसे पकड़ कर मौत की नींद सुला दी जाये ताकि राज्य के लोग अमन -चैन की जिंदगी जी सकें। एक बार एक मेहमान शाही मेहमानखाने में रुका। जाते वक़्त मेहमान ने राजा से पूछा कि क्या सही में राजा जनता की हर आकांक्षाओं को पूरा करते हैं ? राजा ने मेहमान की इच्छा को जानना चाहा तो उसने कहा की ,’हमारा घर तो जंगलों की तरफ है जहाँ धन और अन्न की हमेशा कमी रहती है। राजा ने उसे दस बोरी अनाज और ढेर साड़ी स्वर्ण मुद्राएं दी तब मेहमान ने घोड़ों की मांग कर डाली। उसने पवन घोड़ा की मांग कर डाली। राजा को घोर आश्चर्य हुआ उन्हें मेहमान की इस बात पर बहुत क्रोध आ रहा था। मेहमान ने राजा की अनिच्छा को भांपकर कड़क अव्वाज़ में बोला ,’आपकी जिंदादिली की चर्चा बहुत सुनी थी। ,मेरा नाम गुलाब सिंह डाकू है। मुझे आपका धन -दौलत और ना ही घोड़ा चाहिए ,मैं खुद ही अपने बलबूते पर हासिल कर लूंगा। राजा यह सुनकर चैकन्ना हो गए और डाकू गुलाब सिंह को पकड़ने का आदेश दे दिया।
और भी प्रेरक कहना पढ़ना ना भूलें==>
जब हवा चलती है-a new short inspirational and emotional story of a farmer
सोने की सुराही-a new short interesting and motivational story about the gold
अदभूत आदमी-an interesting hindi story of a strange Canadian merchant
a new short motivational story in hindi language of a poor man,,inspirational story in hindi,inspirational story in hindi for students, motivational stories in hindi for employees, best inspirational story in hindi, motivational stories in hindi language

पर डाकू अपने घोड़े पर सवार होकर भाग गया और पीछा किये जाने पर भी वह पकड़ में नहीं आ सका। पवन घोड़े की सुरक्षा बढ़ा दी गयी एक दिन जब राजा अपने मित्र सोहनपाल के साथ घुड़सवारी पर निकले तो उनकी निगाह एक आदमी पर पड़ी जो दर्द से कराह रहा था। दोनों घोड़े से उतर कर पास आते तभी डाकू गुलाब सिंह पिस्तौल लिए राजा के घोड़े पवन पर सवार हो गया। पर पवन ने आगे बढ़ने से इंकार कर दिया। उसने अपने अगली दोनों टांगो को उठाकर एक जोरदार झटका दिया और डाकू गुलाब सिंह को नीचे गिरा दिया। फिर घोड़े ने उसे दुलत्ती भी मारी वह भाग नहीं सका। राजा ने डाकू को सौंप दिया और कहाकि भविष्य में अगर वह अपने बेटे से बिछड़े तब वह बिछड़ने का दर्द महसूस करेगा। अपने ठिकाने पर पहुँच कर गुलाब सिंह बार -बार सोचता रहा। अनगिनत लोगों को लूटनेवाला और उनकी ह्त्या करने वाला डाकू का ह्रदय पिघलने लगा था। उसके सामने उसकी और दुधमुहाँ बच्चा था। सुबह होते ही वह अपने साथियों के साथ राजमहल पहुंचा और आत्मसमर्पण कर दिया। राजा ने उसकी सज़ा को माफ़ कर दिया हुए उसे अपना सेनापति नियुक्त कर लिया। ऐसा बिचित्र न्याय देखकर प्रजा राजा के सामने नतमस्तक हो गई और लोग राजा की जय -जयकार करने लगी। और चलते -चलते -पत्नी ,-‘यह कौन सा कानून है कि तुम्हे मैं ही खाना पकाकर दूँ ?–पति -‘यह तो पूरी दुनिया का क़ानून है कि कैदी को खाना सरकार ही देती है।

मैं आशा करता हूँ की आपको ये story आपको अच्छी लगी होगी। कृपया इसे अपने दोस्तों और रिश्तेदारों के साथ फेसबुक और व्हाट्स ऍप पर ज्यादा से ज्यादा शेयर करें। धन्यवाद्। ऐसी ही और कहानियों के लिए देसिकहानियाँ वेबसाइट पर घंटी का चिन्ह दबा कर सब्सक्राइब करें।

Tags-a new short inspirational story of a king and a daaku,inspirational story in hindi,inspirational story in hindi for students, motivational stories in hindi for employees, best inspirational story in hindi, motivational stories in hindi language

80%
Awesome
  • Design
loading...
You might also like