ga('send', 'pageview');
Articles Hub

सबसे बड़ा मनहूस कौन?-a new short inspirational story of akbar and birbal in hindi language

a new short inspirational story of akbar and birbal in hindi language
a new short inspirational story of akbar and birbal in hindi language,inspirational story in hindi,inspirational story in hindi for students, motivational stories in hindi for employees, best inspirational story in hindi, motivational stories in hindi language
एक बार की बात है बादशाह अकबर बिस्तर पर पड़े -पड़े पानी मांग रहे थे। उस समय संयोगवश कोई निजी सेवक नहीं था लिहाजा महल का कूड़ा -कचरा साफ़ करनेवाला मामूली सा नौकर ने हिम्मत कर बादशाह को पानी का ग्लास दिया। बादशाह को प्यास लगी थी सो उन्होंने उससे पानी का ग्लास ले लिया। तभी बादशाह के ख़ास सेवक आ गए और कचरा साफ़ करनेवाले नौकर को फ़ौरन बाहर कर दिया। दोपहर होते ही बादशाह अकबर का पेट खराब हो गया। हकीम ने दवाई दी फिर भी हालात में सुधार नहीं हुआ। राजबैद्य आये साथ में राज ज्योतिष भी। उनलोगों ने कहा कि शायद आप पर किसी मनहूस व्यक्ति का साया पड़ा है। इसलिए आप की तबियत खराब हुयी है। अकबर बादशाह ने कहा कि सुबह उन्होंने एक कचरा साफ़ करनेवाले के हाथ से पानी पीया था। इसलिए मेरी तबियत खराब हो गयी है। उन्होंने गुस्से में उस नौकर को मौत की सज़ा दे दी। बीरबल को जब इस बात का पता चला तब उन्होंने उस बेचारे नौकर को सांत्वना दी और भरोसा दिया कि वे उसे बचा लेंगे। बीरबल बादशाह के पास गए और उनका हाल -चाल जाना।
और भी प्रेरक कहना पढ़ना ना भूलें==>
अजब-गजब रहस्य-three new very short inspirational story in hindi language about animals
तेजस्वी बालक-a new short inspirational story from the childhood of swami Vivekananda
चाणक्य नीति-Two new motivational stories about Chanakya niti and solutions
a new short inspirational story of akbar and birbal in hindi language,inspirational story in hindi,inspirational story in hindi for students, motivational stories in hindi for employees, best inspirational story in hindi, motivational stories in hindi language

बादशाह ने कहा -आज हमारे राज्य का सबसे बड़ा मनहूस मुझे बीमार कर दिया। बीरबल को यह सुनकर हंसी आ गयी। बादशाह गुस्से से बोले कि तुम्हे मेरी हालत देखकर हंसी आ रही है ?बीरबल ने कहा गुस्ताखी मअफगार मैं इस नौकर से बड़ा मनहूस लाकर आपके सामने खड़ा कर दूँ तो क्या आप नौकर को सज़ा से मुक्त कर देंगे ?अकबर ने बीरबल की इस शर्त को मान लिया। तब बीरबल ने कहा -‘उस नौकर से बड़े मनहूस तो आप स्वयं हैं ‘उस नौकर के हाथ से पानी पीने पर आपकी तबियत खराब हो गयी जबकि वह तो आपकी प्यास बुझाने आया था। वह तो आपकी खिदमत कर रहा था। सुबह -सुबह आपकी शक्ल देखने से उसकी जान पर बन आयी ,उसे तो मौत की सज़ा मिल गई इसलिए उससे तो बड़े मनहूस आप हुए। अब आप खुद को मौत की सज़ा मत दीजियेगा। हम सब आपको बहुत प्यार करते हैं। बीरबल की चतुराई भरी तर्क को सुनकर बिस्तर पर लेते बादशाह अकबर को हंसी आ गई और उस गरीब नौकर को छोड़ देने का आदेश दिया। साथ में उसे इनाम भी दिया। अंधविश्वासी और मनहूसियत भरे सुझाव देने वाले राजज्योतिष को उसी वक़्त से घोड़े के तबेले में मुनीमगिरी का काम करने का आदेश दिया।

मैं आशा करता हूँ की आपको ये story आपको अच्छी लगी होगी। कृपया इसे अपने दोस्तों और रिश्तेदारों के साथ फेसबुक और व्हाट्स ऍप पर ज्यादा से ज्यादा शेयर करें। धन्यवाद्। ऐसी ही और कहानियों के लिए देसिकहानियाँ वेबसाइट पर घंटी का चिन्ह दबा कर सब्सक्राइब करें।

Tags-a new short inspirational story of akbar and birbal in hindi language,inspirational story in hindi,inspirational story in hindi for students, motivational stories in hindi for employees, best inspirational story in hindi, motivational stories in hindi language

80%
Awesome
  • Design
loading...
You might also like