ga('send', 'pageview');
Articles Hub

एक पाठक-a new short interesting story of a writer

a new short interesting story of a writer,inspirational story in hindi,inspirational story in hindi for students, motivational stories in hindi for employees, best inspirational story in hindi, motivational stories in hindi language
एक पाठक -मैक्सिम गोर्की -रात काफी बीत चुकी थी ,मेरी प्रकाशित कहानियों की खूब तारीफ़ हुई जिससे मैं फूला नहीं समा रहा था। फ़रवरी का महीना था ,धरती पर स्फूर्तिदायक शीतलता का संचार हो रहा था। तभी पीछे अव्वाज़ आयी ,,”तुमने एक प्यारी सी चीज़ लिखी है। ‘मैंने घूमकर देखना चाहा। काले लिबास में एक छोटे कद का आदमी ने मेरे चेहरे पर अपनी आँखे जमा दी। उसकी दाढ़ी बकरे की तरह थी उसकी चाल निःशब्द थी। वह कौन था ?’क्या आपने मेरी कहानी सुनी थी ?’हाँ ,मुझे सुनने का सौभाग्य प्राप्त हुआ था। ‘,’तुम बड़े हंसमुख जीव लगते हो मैंने एक रूखेपन लहजे में कहा। वह फिर तीखी हंसी हंसा ‘लेकिन मुझे माफ़ करना ,क्या मैं जान सकता हूँ कि मै किस्से बातें कर रहा हूँ ?’उसने मेरे आस्तीन पकड़ कर एक हल्का सा झटका दिया और कहा ,-समझ लो कि मै तुम्हारा एक पाठक हूँ। वह मेरे साथ चल रहा था। ‘मानवीय व्यवहार में निहित उद्देश्यों और इरादों से ज्यादा विचित्र और महत्वपूर्ण चीज़ इस दुनिया में और कोई नहीं है। तुम इसे मानते हो ना ? मैंने सिर हिलाकर हामी भरी। उसने पूछा ,’साहित्य का उद्देश्य क्या है ?’मैं उसके प्रश्नो से खीज उठा था ,आखिर यह आदमी है कौन और क्या जानना चाहता है ?’उसने कहा -‘साहित्य का उद्देश्य है ,खुद अपने को जान्ने में इंसान की मदद करना। ,उनके जीवन को शुभ्रता प्रदान करना। लेखक के रूप में क्या तुम ऊँचे उद्देश्य के लिए काम करते हो ?’यह मुझे बड़ा अपमानजनक लगा। मुझे लगा कि इसके दिमाग का पुर्जा जरूर ढीला है। ‘मैं अब चलूँगा काफी समय हो गया है। ”जाओ लेकिन यह जान लो कि तुम अपने आप से भाग रहे हो। वह बाग़ के टीले पर रूक गया। सामने वोल्गा नज़र आती थी। एक बेंच पर बैठ गया। बर्फ की चादरें बीछी थी ,’ क्या दिखाएँगे राह हमको ,जिन्हे खुद अपनी खबर नहीं ‘मैं एक गीत गुनगुनाने लगा। वह मेरे करीब ही बैठा था।
और भी प्रेरक कहना पढ़ना ना भूलें==>
अदभूत आदमी-an interesting hindi story of a strange Canadian merchant
दरख़्त रानी-new Hindi lok katha for young audience with a moral message
भाग्य अपना-Two motivational stories in hindi language about own luck
a new short interesting story of a writer,inspirational story in hindi,inspirational story in hindi for students, motivational stories in hindi for employees, best inspirational story in hindi, motivational stories in hindi language

उसने कहा ,-‘तुम जो लिखते हो लोग उसे पढ़तें हैं। तुम किस चीज़ का प्रचार करते हो भला ?’दूसरों को सीख देने का अधिकार तुम्हे किसने दिया ?’मैंने अपनी आत्मा को टटोला ,हमेशा कही -सुनी जानेवाली चीज़ों को ही तो लिखता हूँ। उसने जवाब दिया ,’जानता हूँ ,ऐसी ही पुस्तकों से अपनी आत्मा के लिए पोषण ग्रहण किया है। ,सत्य और प्रेम के बारे में जो तुम लिखते हो वह झूठा और और अनुभूति शून्य प्रतीत होता है। तुम्हारी लेखनी चीज़ों की सतह को ही खरोंचती हैं। क्या तुम कोई ऐसी रचना रच सकते हो जो मनुष्य की आत्मा को ऊंचा उठाने की ताक़त रखता हो ?’तुम अपने आप को मसीहा के रूप में देखते हो। तुम देखते नहीं की बुराइयाँ और अच्छाइयाँ एक दूसरे से गुँथी हुयी हैं। और इन्हे अलग नहीं किया जा सकता। तुम्हारी कृतियाँ कुछ नहीं सिखाती जीवन को एक नया स्पंदन का संचार करे ,एक प्रतिशोधपूर्ण चेतना को जन्म दे। ऐसी हास्य रचना कर सकते हो जो आत्मा का सारा मैल धो डाले ?’मेरा विचित्र साथी कहता जा रहा था। क्या तुम जानते हो समय की मांग क्या है ?’तुम जवाब नहीं देते। अच्छा मैं अब चला। इतनी जल्दी ,मैंने धीमी आवाज़ में कहा , वह चला गया ,इतनी तेज़ी से कि मैं उसे देख तक नहीं पाया। उसने तो कहा था की वह दुबारा आएगा वह उसकी ‘ प्रतीक्षा करे।

मैं आशा करता हूँ की आपको ये story आपको अच्छी लगी होगी। कृपया इसे अपने दोस्तों और रिश्तेदारों के साथ फेसबुक और व्हाट्स ऍप पर ज्यादा से ज्यादा शेयर करें। धन्यवाद्। ऐसी ही और कहानियों के लिए देसिकहानियाँ वेबसाइट पर घंटी का चिन्ह दबा कर सब्सक्राइब करें।

Tags-a new short interesting story of a writer,inspirational story in hindi,inspirational story in hindi for students, motivational stories in hindi for employees, best inspirational story in hindi, motivational stories in hindi language

loading...
You might also like