Articles Hub

प्यार वो नहीं-A new short love story from love novel

A new short love story from love novel, true love story in hindi in short, true sad love story in hindi language, hindi love story in short love, love story novel in hindi language, romantic love stories in hindi language
ये कुछ समय पहले की बात है!!
हम दोनों काफी अच्छे दोस्त थे, जब उसने पहली बार अपने प्यार का इजहार किया उस वक्त इश्क के लिबास में आए वादों को निभाने के लिए मैं तैयार थी. उसकी बढ़ती आशिकी ने जैसे मेरे दिलो-दिमाग पर पर्दा डाल दिया था, शायद! इसीलिए मैं उसके अंधे जुनून को सहज मोहब्बत समझ बैठी.
देखते ही देखते यह साझेदारी एक जिम्मेदारी बन गई और बातें कब बहस में बदल गई, पता ही नहीं चला. हम दोनों के बीच सांस लेने के लिए जगह कम पड़ने लगी. हम मिलते तो थे, पर हमारा मिलना भी ख्वाहिशें कम काम ज्यादा लगने लगा था. मेरा अपने लिए वक्त निकालना भी उसे मंजूर नहीं था, जैसे पूरा वक्त बस एक दूसरे को इस बात का दिलासा देते रहते थे कि हम दोनों के बीच जो भी है, उसे ही तो प्यार कहते हैं.
बस फिर क्या था, हर छोटी से छोटी बात में खरी-खोटी सुनाना, ताने मारना रोज का रूटीन बन ने लगा था. गुस्से में आकर गाड़ी तेज चलाना, ऊंची आवाज में बात करना! हम दोनों के बीच प्यार के नाम पर अब बस सोशल मीडिया पोस्ट ही बची थी.
मोहब्बत का वो जाम जो उसने मुझे पिलाया था, अब जहर का घूंट सा लगने लगा था. इन सबके बीच एक रोज कुछ ऐसा हुआ कि मेरी रूह कांप गई. एक दिन उसने गुस्से में आकर मुझ पर अपना जोर इस्तेमाल किया. जब ये हुआ! तो उसके थोड़े वक्त बाद उसे अपनी गलती का एहसास हुआ और उसके खूब मनाने पर मैंने उसे माफ़ भी कर दिया.
जब इंसान एक ही गलती बार बार करे तो उसे गलती नहीं आदत कहते हैं. ऐसी गलतियों को करके बार-बार मोहब्बत के नाम पर माफी मांगना उसकी आदत बन चुकी थी, और मैं उस आदत का शिकार बन गई थी.
A new short love story from love novel, true love story in hindi in short, true sad love story in hindi language, hindi love story in short love, love story novel in hindi language, romantic love stories in hindi language
और भी रोमांटिक प्रेम कहानियां “the love story in hindi” पढ़ना ना भूलें=>
क्या ये प्यार है
एक सच्चे प्यार की कहानी
कुछ इस कदर दिल की कशिश
प्यार में सब कुछ जायज है.
लोग अक्सर सलाह देते हैं कि जो तुम्हारे सबसे करीब है, उसका हाथ कभी मत छोड़ना. मगर यह हाथ तुम्हारे स्वाभिमान पर उठे, क्या तब भी उसे थामे रखना चाहिए! कुछ महीने बीत चुके थे और मेरा दम घुटने लगा था.
जो रंगीन सपने हमने एक साथ सजाए थे, अब बस उनकी बेरंग परछाइयां ही नजर आ रही थी. देर से ही सही पर मुझे इस बात का एहसास हुआ कि मैं अपने अस्तित्व को दांव पर लगाकर किसी और को अपनी जिंदगी में जगह नहीं दे सकती. इस फैसले के बाद, बड़ी मुश्किल से मैंने वो रिश्ता तोड़ दिया.
बस एक वो वक्त था और एक आज का वक्त है. आज मैं independent हूं और अपने आप में बहुत खुश हूं. सपने आज भी देखती हूं, मगर ऐसे जो अपने बल पर पूरे कर सकूं, ख्वाहिशें अभी भी हैं मगर अपनी जिंदगी से.
इस बात से कोई इनकार नहीं है कि जहां प्यार होता है वहां ऊंच नीच तो आती है, बुराइयां भी अच्छे दिनों के बीच आती है. मगर! इस जिंदगी में दर्द से कोई छुटकारा नहीं दिला सकता, अगर तुम दर्द देने का हक तुम किसी और को देते हो. तुम्हें कौन कंट्रोल करेगा, इस बात का फैसला बस तुम्हारे हाथ में है. क्योंकि मोहब्बत वही है, जो तुम्हारी कमजोरी नहीं ताकत हो और सच्ची सादगी वही है जो तुम्हारी मजबूरी नहीं मंजूरी हो.
मैं आशा करता हूँ की आपको ये story आपको अच्छी लगी होगी। कृपया इसे अपने दोस्तों और रिश्तेदारों के साथ फेसबुक और व्हाट्स ऍप पर ज्यादा से ज्यादा शेयर करें। धन्यवाद्। ऐसी ही और कहानियों के लिए देसिकहानियाँ वेबसाइट पर घंटी का चिन्ह दबा कर सब्सक्राइब करें।

Tags-A new short love story from love novel, true love story in hindi in short, true sad love story in hindi language, hindi love story in short love, love story novel in hindi language, romantic love stories in hindi language

80%
Awesome
  • Design
loading...
You might also like