ga('send', 'pageview');
Articles Hub

चतुराई-a new short motivational story in hindi language about the cleverness

a new short motivational story in hindi language about the cleverness

a new short motivational story in hindi language about the cleverness,inspirational story in hindi,inspirational story in hindi for students, motivational stories in hindi for employees, best inspirational story in hindi, motivational stories in hindi language
चतुराई -एक दिन एक गरीब आदमी राजा के पास गया। और कहा ,-‘महाराज आप मुझे पांच हज़ार रुपये क़र्ज़ के रूप में दें ,मैं यह क़र्ज़ आपको पांच बर्षों में वापस कर दूंगा। राजा ने उसे रुपये दे दिए। पांच बर्ष बीत गए पर वह व्यक्ति रुपया नहीं लौटाया तब राजा को मज़बूरन उस व्यक्ति के घर जाना पड़ा। पर वह व्यक्ति घर पर नहीं मिला। एक दिन उस व्यक्ति के राजा ने एक छोटीसी लड़की को बैठे देखा। उन्होंने पूछा -‘तुम्हारे पिताजी कहाँ हैं ?’ लड़की ने जवाब दिया -‘मेरे पिताजी स्वर्ग का पानी रोकने गए हैं। ‘ तुम्हारा भाई कहाँ है ?’ लड़की ने कहा -‘बिना झगड़ा के झगड़ा करने गए है ‘ फिर राजा ने पूछा -‘तुम्हारी माँ कहाँ गई हैं ?’ लड़की ने कहा -‘मेरी मान एक से दो करने गई हैं। राजा को गुस्सा आ गया। क्या उल -जुलूल जवाब था। उन्होंने कहा ,-तुम यहां बैठी क्या कर रही हो ?’लड़की ने कहा -‘मैं घर बैठी संसार देख रही हूँ। ‘राजा समझ चुके थे कि यह लड़की सीधे जवाब नहीं देगी सो उन्होंने मुस्कराकर पूछा। -‘बेटी जो तुमने अभी -अभी मेरे सवालों का जवाब दिया है उसका मतलब समझा दो ‘ उसने कहा -अगर मैं मतलब समझा दूँ तो आप आप मुझे क्या देंगे ?’ राजा ने कहा ,-‘जो मांगेगी वह दूंगा। ‘ उसने राजा को कल आने को कहा। राजा अगले दिन पहुँच गए। आज घर पर सभी लोग मौजूद थे। उस लड़की ने दिए गए वचन को याद दिलाया।
और भी प्रेरक कहना पढ़ना ना भूलें==>
भिखारी-an inspirational story from the life of a beggar
निडर-a new short inspirational story in hindi language about the fearness of a boy
तोहफा-a new short motivational story of king krishan dev rai ji

a new short motivational story in hindi language about the cleverness,inspirational story in hindi,inspirational story in hindi for students, motivational stories in hindi for employees, best inspirational story in hindi, motivational stories in hindi language
लड़की ने कहा ,’ मैंने कहा था कि पिताजी स्वर्ग का पानी रोकने गए हैं ,इसका मतलब है कीबारिश हो रही थी और हमारे घर की छत से पानी टपक रहा था। पिताजी पानी रोकने के लिए छत बना रहे थे। हमलोग तो यही मानतेहै ना कि आसमान में ही स्वर्ग है और बर्षा का पानी तो आसमान से ही गिरता है। दूसरी बात कही थी कि भैया बिना झगड़ा के झगड़ा करने गए हैं। मतलब यह था कि रेगनी के कांटे को काटने गए हैं। और कांटे तो गड [चुभ ] ही जाएंगे। यानी झगड़ा नहीं करने पर भी झगड़ा होगा। तीसरीबाट जोकहि थी माँ अरहर दाल को पीसने यानी उसे एक को दो करने गई थी। रही चौथी बात तो उस समय मैं भात पका रही थी उसमे से एक चावल निकलकर देख रही थी कि भात पूरी तरह पका है की नहीं। यानी चावल के संसार को घर बैठे देख रही थी। राजा साड़ी बातों का अर्थ समझ चुके थे। उन्होंने कहा ,’बेटी तुम तो बहुत चतुर हो। लड़की ने कहा कि कल अगर मैं अर्थ समझाती तो भात गीला हो जाता और मान मुझे जरूर पीटती फिर अगर मैं इन्हे कहती कि राजाजी ने क़र्ज़ माफ़ कर दिया है तो ये लोग विश्वास ही नहीं करते उस समय ये लोग घर पर तो थे नहीं। आपके मुंह से सुनकर इन्हे कितनी ख़ुशी मिलेगी। राजा उस लड़की की चतुराई भरी बातों को सुनकर खुश हुए और अपने गले से मोतियों का माला निकालकर देते हुएकहा कि यह लो तुम्हारी चतुराई का पुरस्कार। क़र्ज़ तो मैं माफ़ कर ही चुका हूँ। राजा उस लड़की को आशीर्वाद देकर चले गए। लड़की को परिवारवालों ने ख़ुशी से गले लगा लिया।

मैं आशा करता हूँ की आपको ये story आपको अच्छी लगी होगी। कृपया इसे अपने दोस्तों और रिश्तेदारों के साथ फेसबुक और व्हाट्स ऍप पर ज्यादा से ज्यादा शेयर करें। धन्यवाद्। ऐसी ही और कहानियों के लिए देसिकहानियाँ वेबसाइट पर घंटी का चिन्ह दबा कर सब्सक्राइब करें।

Tags-a new short motivational story in hindi language about the cleverness,inspirational story in hindi,inspirational story in hindi for students, motivational stories in hindi for employees, best inspirational story in hindi, motivational stories in hindi language

80%
Awesome
  • Design
loading...
You might also like