ga('send', 'pageview');
Articles Hub

एक छोटा सा मज़ाक-a new short motivational story with some humour

a new short motivational story in hindi language of a poor man,,inspirational story in hindi,inspirational story in hindi for students, motivational stories in hindi for employees, best inspirational story in hindi, motivational stories in hindi language
एक छोटा सा मज़ाक –आंतोंन चेखव -सर्दियों की एक खूबसूरत दोपहर। नाद्या ने मेरी बाहन पकड़ रखी है। उसके घुंघराले बालों पर बर्फ चाँदनी की तरह झलकने लगे हैं। सामने एक ढलान है। मेरे पैरों के पास ही एक स्लेज़ पड़ी है। ‘चलो नाद्या,एक बार फिसले घबराना नहीं है। हम ठीक-ठाक नीचे पहुँच जायेंगे। ‘लेकिन नाद्या डर रही है। भय से उसका चेहरा पीला पड़ चुका है। आखिकार वह मान जाती है। ऐसा लगता है कि उसने मौत का ख़तरा लेकर मेरी बात मानी है। वह काँप रही है। हम उस अथाह गहराई में फिसलने लगते हैं। सले बहुत तेज़ी के साथ नीचे जा रही है। बेहद ठंडी हवाएं हमारे चेहरे पर चोट कर रही हैं। ‘मैं तुमसे प्यार करता हूँ नाद्या। ‘मैंने धीरे से कहा। सले की गति धीरे-धीरे कम होती है। क्या उसने मेरे शब्दों को सुने थे ?वह मुझे अधीरता भरी निगाहों से देखती है। ,सुनो ,क्यों नहीं एक बार हम फिर फिसलें ?’वह अपना मुहं चुराते हुए कहती है। हम फिर पहाड़ी के ऊपर चढ़ जातें हैं। हम फिर से भयानक गहराई की तरफ फिसलते हैं। शोर हमारी कानो में गूंजता है। मैं फिर से धीमी आवाज़ में कहता हूँ ,’मैं तुमसे प्यार करता हूँ ‘ वह बेपरवाह और भावहीन आवाज़ को चुपचाप सुनती है।
और भी प्रेरक कहना पढ़ना ना भूलें==>
बोध कथा-Two new inspirational stories of Mahatma Budha and a wise king
बोध कथा-Two new inspirational stories of Mahatma Budha and a wise king
अदभूत आदमी-an interesting hindi story of a strange Canadian merchant
a new short motivational story in hindi language of a poor man,,inspirational story in hindi,inspirational story in hindi for students, motivational stories in hindi for employees, best inspirational story in hindi, motivational stories in hindi language
उसके चेहरे पर हैरानी के भाव हैं। फिर से नीचे फिसलते हुए एक बार फिर धीरे से कहता ,हूँ – मैं तुमसे प्यार करता हूँ नाद्या। ‘नाद्या रहती है। शायद उसका शक मुझपर और हवा पर है। अपनी भावनाओं का इज़हार वह नहीं करती। इससे कोई फर्क नहीं पड़ता। क्योंकि शराब चाहे किसी भी बर्तन में क्यों ना पी जाये,नशा तो उतना ही देती है। इस बार वह अकेली सले पर फिसलती है। बसंत का मौसम आ गया। बर्फ से ढकी वह सफ़ेद पहाड़ी काली पड़ गई है। हवा भी अब खामोश हो गई है। नाद्या बरामदे में कड़ी है। बाहर पक्षियों का शोर है। वह उदास नज़रों से आसमान को निहार रही है। मैं धीमी आवाज़ में कहता हूँ’मैं तुमसे प्यार करता हूँ नाद्या। ‘वह ना जाने क्यों यह सुनकर मुस्कराने लगी। वह बेहद खुश थी। मैं घर लौट जाता हूँ। बहुत पहले की बात है। अब नाद्या की शादी हो चुकी है। उसने खुद फैसला किया या नहीं -अब इससे कोई फर्क नहीं पड़ता। उसका पति एक बड़ा अफसर है ,और उसके तीन बच्चे हैं। वह आज भी उस समय को शायद भूल नहीं पाई है जब हम फिसलने के लिए पहाड़ी पर जाया करते थे। शायद यही सबसे हृदयस्पर्शी हुए खूबसूरत यादें हों। और अब मैं भी तो प्रौढ़ हो चुका हूँ। मुझे आज भी यह समझ में नहीं आता कि मैंने उससे ये शब्द क्यों कहे थे ?’किसलिए मैंने उसके साथ ऐसा मज़ाक किया था ?

मैं आशा करता हूँ की आपको ये story आपको अच्छी लगी होगी। कृपया इसे अपने दोस्तों और रिश्तेदारों के साथ फेसबुक और व्हाट्स ऍप पर ज्यादा से ज्यादा शेयर करें। धन्यवाद्। ऐसी ही और कहानियों के लिए देसिकहानियाँ वेबसाइट पर घंटी का चिन्ह दबा कर सब्सक्राइब करें।

Tags-a new short motivational story with some humour,inspirational story in hindi,inspirational story in hindi for students, motivational stories in hindi for employees, best inspirational story in hindi, motivational stories in hindi language

80%
Awesome
  • Design
loading...
You might also like