Articles Hub

यहाँ रहना मना है.-a short horror story in hindi language

a short horror story in hindi language,ghost story in hindi language,ghost story in hindi pdf,ghost story in hindi with moral,ghost story in hindi online,ghost story novel in hindi,true love ghost story in hindi,ghost story in hindi new
मैं अपने गांव से पटना पढ़ने आया, उस समय मै बरहँवी में था. पटना में मेरा कोई जान पहचान का नहीं था.इसलिए कुछ दिन होटल में रहने के बाद मैंने अपने लिए रूम की तलाश शुरू कर दिया.काफी तलाश के बाद मुझे सुंदरी भवन में रूम मिला, यह भवन अपने नाम के बिलकुल विपरीत था, 6 मंजिला मकान था, जिसमे ज्यादातर स्टूडेंट ही रहते थे, और काफी रूम खाली ही था. मेरी समझ में नहीं आ रहा था की इतने रूम खाली क्यों हैं? एक बात और थी, मेरे शिफ्ट होते ही कुछ रूम और खाली हो गए, पडोसी से पता चला की यह आम बात है, यहाँ लोग आते हैं कुछ दिन रहते हैं फिर नया मकान तलाश कर चले जाते हैं, मेरी समझ में अब आ रहा था की यहाँ लोग मज़बूरी में रहते हैं.खैर मैं भी तो मज़बूरी में ही रह था, मुझे भी इससे अच्छा मिलता तो मैं भी शिफ्ट कर जाता, कुछ दिनों के बाद ही दुर्गा पूजा शुरू हो गयी, और पूरा सुंदरी भवन खाली हो गया, सभी अपने अपने घर चले गए, मैं भी सोच रहा था की मैं घर चला जाऊ, लेकिन मैं घर से आया ही था इसलिए मैंने सोचा अच्छा है अकेले पूरा मन पढ़ने में लगा दूंगा, वैसे लड़को के बिच इतना हल्ला होता रहता था की पढ़ने में समस्या होती थी, यही सोच कर मैं रह गया, आज रात मैं पुरे माकन में अकेला ही था, मकान मालिक ने मुझे सारा गेट बंद कर लेने को कहा, मैंने वैसा ही किया, तभी रात को अचानक से लाइट चली गयी, मैंने मोमबत्ती जलाया ही था की छत पर कूदने की आवाज आयी , मुझे आस्चर्य लगा की जब मैंने छत पर ताला बंद कर दिया था तो छत पर कौन कूद रहा है, मैंने इस बात इग्नोर कर दिया फिर टाला पीटने की आवाज आयी, मुझे लगा जरूर छत पर कोई है, मैं छत की तरफ बढ़ गया, आस्चर्य जब मैंने ताला खोला तो कोई नहीं था, अब तो मुझे ताजुब हुआ की आखिर कौन है, मुझे लगा कोई मेरे साथ मजाक कर रहा है, मैं वापस अपने रूम लौट आया, तभी मैंने पाया की मेरा रूम खुला हुआ है, और मोमबत्ती बुझी हुई है, जबकि मुझे याद था की मैंने अपना रूम बंद किया था, मुझे लगा हो सकता है कोई मेरे साथ मजाक कर रहा है,या फिर हवा में गेट खुल गया होगा, तभी मैंने पाया की कोई मेरे पीछे से दौड़ते हुए भागा, मैंने पूछा कौन है कौन है, कोई आवाज नहीं आया, अब तो मुझे डर लगा, तभीउ लाइट आ गयी मैंने अपने रूम का दरवाजा बंद किया और भगवान के सामने खड़ा हो कर भगवान् की पूजा की और सो गया, फिर काफी देर तक आवाज आयी लेकिन मैंने ना ही अपना गेट खोला और ना ही बेड से उठा.
a short horror story in hindi language,ghost story in hindi language,ghost story in hindi pdf,ghost story in hindi with moral,ghost story in hindi online,ghost story novel in hindi,true love ghost story in hindi,ghost story in hindi new

और भी डरावनी कहानियां पढ़ना ना भूलें=>
एक खौफनाक आकृति का डरावना रहस्य
लड़की की लाश का भयानक कहर
पुराने हवेली के भूत का आतंक
अगली सुबह मैं चाय के दुकान पर गया और दुकान दार से जब यह बताया तो दुकान दार ने बताया की कुछ साल पहले इस माकन में रहने वाला एक लड़का इसी मकान के छत से कूद कर जान दे दी थी, उसके बाद इस मकान में ऐसी अजीबोगरीब घटना होती रहती है, इसलिए इस मकान में कोई ज्यादा दिन नहीं रहता. अब तो शाम होने के बाद मुझे अकेले रहने में डर लग रहा था, मैंने शाम होते ही पूरा गेट बंद किया और अपने रूम का दरवाजा बंद कर दिया और पढ़ने लगा, रात होते ही फिर वही आवाज, मेरी समझ में नहीं आ रहा था की मैं क्या करू? मैं पढ़ने के लिए घर नहीं गया और यहाँ पढ़ने को मिल नहीं रहा था, मैंने फिर से भगवान का नाम लिया और कान बंद करके सो गया,लेकिन रात भर मेरा दरवाजा कोई पीटता रहा, में दरवाजा नहीं खोला. अगली सुबह मैं दूसरे माकन की तलाश में जुट गया और पास ही मुझे एक माकन मिल गया और मैं उसी दिन वह भूतिया भवन छोड़ कर दूसरे माकन में शिफ्ट कर गया, आज भी मैं जब उस घटना को सोचता हूँ तो मेरे रोंगटे खड़े हो जाते हैं……..
मैं आशा करता हूँ की आपको ये story आपको अच्छी लगी होगी। कृपया इसे अपने दोस्तों और रिश्तेदारों के साथ फेसबुक और व्हाट्स ऍप पर ज्यादा से ज्यादा शेयर करें। धन्यवाद्। ऐसी ही और कहानियों के लिए देसिकहानियाँ वेबसाइट पर घंटी का चिन्ह दबा कर सब्सक्राइब करें।

Tags-a short horror story in hindi language,ghost story in hindi language,ghost story in hindi pdf,ghost story in hindi with moral,ghost story in hindi online,ghost story novel in hindi,true love ghost story in hindi,ghost story in hindi new

80%
Awesome
  • Design
loading...
You might also like