Articles Hub

रात का वो खौफनाक शमा -a short horror story in hindi

a short horror story in hindi

a short horror story in hindi,ghost story in hindi language,ghost story in hindi pdf,ghost story in hindi with moral,ghost story in hindi online,ghost story novel in hindi,true love ghost story in hindi,ghost story in hindi new
हम एक से बढ़कर एक horror story प्रकाशित करते हैं। पेश है इसी कड़ी में आज हम “रात का वो खौफनाक शमा”a short horror story in hindi प्रकाशित कर रहे हैं . आशा है आपको ये story पसंद आएगी
रात का समा…..
बात उन दिनों की है जब संजीव का ट्रांसफर कर्णाटक के जंगल में हो गया. संजीव एक फारेस्ट अफसर था, और वह हमेशा छोटे छोटे जंगलो में रहा था, अचानक से इतने बड़े जंगल में ट्रांसफर होने के बाद उसकी ज़िम्मेदारी भी बढ़ गयी थी. उसकी समझ में नहीं आ रहा था की इतने बड़े जंगल की देख भाल वह कैसे करेगा? उसने तय किया की वह एक दिन जंगल का उत्तरी हिस्सा घूमेगा, दूसरे दिन दक्षिणी हिस्सा घूमेगा. इस तरह वह जंगल को कवर करेगा . हलाकि उसके साथ एक बटालियन भी रहती थी, लेकिन वो लोग संजीव को कहते थे की जंगल में ज्यादा ना घूमे. लेकिन संजीव हमेशा जंगल के अंदर दूर दूर चला जाय करता था. एक दिन घूमते घूमते वह बहुत आगे निकल गया, और उसके पीछे उसका बटालियन छूट गया, अब अँधेरा भी घिरने को आयी थी. वह अकेला हो गया था, वह लौटने लगा, लेकिन घना जंगल होने की वजह से उसे रास्ते का पता नहीं चल रहा था, वह जल्द जल्द से अपना क्वाटर पहुंचना चाहता था लेकिन उसे रास्ते का पता नहीं चल रहा था, अब तो उसकी समझ में नहीं आ रहा था की वह किधर जाए, और अब रात हो गयी थी, वह रात बिताने के लिए एक पेड़ पर चढ़ गया, पेड़ के ऊपर चढ़ने के बाद उसने आकाश की तरफ देखा चाँद नजर नहीं आ रहा था, फिर उसे एहसास हुआ की आज अमावश्या की रात है, इसलिए आसमान में चाँद नजर नहीं आ रहा था. उसे भूख भी लग रही थी और थके होने की वजह से नींद भी आ रही थी, वह पेड़ पर ही सोने की कोशिश करने लगा, लेकिन भला पेड़ पर कैसे सोता , गिर जाता तो और बड़ी मुसीबत. इसलिए पेड़ की टहनियों को पकड़ कर लेट गया, धीरे धीरे रात बढ़ती गयी और अब रात अपने पूरे शबाब पर थी वह बिच बिच में झपकी भी ले रहा था, तभी उसकी आँखें खुली खुली रह गयी जब उसने देखा की कुछ दुरी पर रौशनी आ रही थी,

और भी डरावनी कहानियां पढ़ना ना भूलें=>
एक खौफनाक आकृति का डरावना रहस्य
लड़की की लाश का भयानक कहर
पुराने हवेली के भूत का आतंक
उसे पहले लगा की उसके बटालियन के लोग ढूंढे हुए आ रहे हैं, लेकिन उसका भरम जल्दी ही टूट गया, जब उसने पाया की कुछ साया नजर आ रहे थे, वह साया किनके थे यह साफ़ साफ़ पता नहीं चल रहा था, लेकिन तभी उसने देखा की साया के सर नहीं थे, वह समझ गया की ये इंसान नहीं थे, अब तो उसकी कप कपी छूट गयी, दो चार साये थे किन्ही का सर नहीं था तो किन्ही का पैर नहीं था, वो हवा में तैर रहे थे, और उजाला भी ऐसा की बिना आग जलाये हुए था, सभी उस उजाले के आस पास नाच रहे थे, संजीव अपनी सांस रोके हुए चुप चाप शांति से पेड़ को पकडे हुए लेते हुए था, उसका पसीना निकल रहा था, तभी वो साये नाचते नाचते हुए रुक गए और किसी ने कहा की हवा में एक अजीब सी गंध आ रही है, अब तो संजीव को लगा की वह रात उसकी आखिरी रात है, तभी दूसरे साया को किसी जंगली जानवर दिखाई दिया, यह जंगली जानवर उस उजाले की तरफ बढ़ कर आ गया था, तभी अचानक से एक साये ने उस जानवर का सर उसके धड़ से अलग कर दिया, और बोला गंध खत्म. सभी हसने लगे, उनकी हसी से पूरा वातावरण गूंज गया था
धीरे धीरे रात से उजाला होने लगा और अचानक से वह उजाला कहीं खो गया और साये भी गायब हो गए. सुबह होते ही संजीव पेड़ से उतरा और क्वाटर की तरफ तेजी से बढ़ने लगा, उसे लगा की वह मौत के मुँह से निकला है उसने फिर कभी जंगल के भीतर जाने की कोशिश नहीं की, लेकिन वह किसी से उस रात का क्या जिक्र करता सभी उसे पागल समझते, लेकिन संजीव जानता था की उसकी बातें कितनी सच्ची है……….
मैं आशा करता हूँ की आपको ये story आपको अच्छी लगी होगी। कृपया इसे अपने दोस्तों और रिश्तेदारों के साथ फेसबुक और व्हाट्स ऍप पर ज्यादा से ज्यादा शेयर करें। धन्यवाद्। ऐसी ही और कहानियों के लिए देसिकहानियाँ वेबसाइट पर घंटी का चिन्ह दबा कर सब्सक्राइब करें।

Tags-a short horror story in hindi,ghost story in hindi language,ghost story in hindi pdf,ghost story in hindi with moral,ghost story in hindi online,ghost story novel in hindi,true love ghost story in hindi,ghost story in hindi new language

80%
Awesome
  • Design
loading...
You might also like