ga('send', 'pageview');
Articles Hub

बिजली महादेव-a small story of temple of Mahadev in Himachal Pradesh

बिजली महादेव
a small story of temple of Mahadev in Himachal Pradesh,inspirational story in hindi,inspirational story in hindi for students, motivational stories in hindi for employees, best inspirational story in hindi, motivational stories in hindi language
कुल्लू -हिमाचल प्रदेश में व्यास और पार्वती नदी के संगम के पास एक ऊँचे पर्वत पर बिजली महादेव का प्राचीन मंदिर है। ऐसी मान्यता है कि यह घाटी सर्पाकार है इस सांप का वध भगवान् शिव ने किया था। यहां हर 12 साल में भयंकर आकाशीय बिजली गिरती है। जिससे शिव लिंग खंडित हो जाता है। इस मंदिर के पुजारी शिवलिंग के टुकड़ों को एकत्रतित कर मक्खन के साथ जोड़ देते हैं। कुछ ही महीनो बाद शिवलिंग एक ठोस रूप में परिवर्तित हो जाता है। बिजली क्यों गिरती है इस सम्बन्ध में एक पौराणिक कथा है – बड़े जतन के बाद भगवान् शिव ने एक दानव रूपी अजगर को विश्वास में लिया। उसके कान में कहा कि तुम्हारे पूंछ में आग लग गई है। जैसे ही दानव कुलान्त पीछे मुड़ा , शिव ने उसके सर पर त्रिशूल से वार कर दिया। मृत्यु के बाद उसक शरीर एक विशाल पर्वत में परिवर्तित हो गया। कुल्लू घाटी का यह पर्वतीय क्षेत्र कुलान्त के शरीर से निर्मित मानी जाती है। कुलान्त के मारे जाने के बाद शिव ने इंद्र से कहा कि वे बारह सालों में एक बार यहां बिजली गिराया करें। इस बिजली से शिवलिंग चकनाचूर हो जाता है। मक्खन से जोड़ने के बाद पिंडी अपने पुराने स्वरुप में आ जाती है। अब प्रश्न उठता है कि बिजली शिवलिंग पर ही क्यों गिरता है ? भोलेनाथ लोगों को बचाने के लिए इस बिजली को अपने आप पर गिरवाते हैं। इसलिए उन्हें बिजली महादेव यहां कहते हैं। बहुत दूर -दूर से यहां महादेव के दर्शन हेतु लोगों का आना -जाना लगा रहता है। शीतकाल में यहां भारी बर्फवारी होती है
a small story of temple of Mahadev in Himachal Pradesh,inspirational story in hindi,inspirational story in hindi for students, motivational stories in hindi for employees, best inspirational story in hindi, motivational stories in hindi language

मैं आशा करता हूँ की आपको ये story आपको अच्छी लगी होगी। कृपया इसे अपने दोस्तों और रिश्तेदारों के साथ फेसबुक और व्हाट्स ऍप पर ज्यादा से ज्यादा शेयर करें। धन्यवाद्। ऐसी ही और कहानियों के लिए देसिकहानियाँ वेबसाइट पर घंटी का चिन्ह दबा कर सब्सक्राइब करें।

Tags-a small story of temple of Mahadev in Himachal Pradesh,inspirational story in hindi,inspirational story in hindi for students, motivational stories in hindi for employees, best inspirational story in hindi, motivational stories in hindi language

80%
Awesome
  • Design
loading...
You might also like