Articles Hub

दर्द का रिश्ता-A sweet short love story in hindi language

A sweet short love story in hindi language, true love story in hindi in short, true sad love story in hindi language, hindi love story in short love, love story novel in hindi language, romantic love stories in hindi language
पेइंगगैस्ट हाउस की मालकिन मालती सभी लड़कियों के घर जाने के बाद अमृता के कमरे में बत्ती जली देख कर उस के कमरे में जा कर चौंक कर बोलीं.
‘‘नहीं आंटी, बस ऐसे ही मन नहीं हुआ जाने का… कोई खास बात नहीं… मैस बंद हो गया है तो भी कोई बात नहीं, मैं बाहर खाना खा लूंगी. 1 हफ्ते के अंदर तो सभी लड़कियां आ ही जाएंगी… आप चिंता मत करिए,’’ अमृता ने बुझे मन से बात टालने के लिए कहा.
मगर अमृता का उदास चेहरा देख कर मालती भांप गईं कि कोई बात जरूर है, जिस ने इसे इतने बड़े त्योहार पर भी घर जाने से रोक लिया.
‘‘बेटा, साथ रहते रहते हम सभी एक परिवार की तरह हो गए हैं. मैस बंद हो गया तो क्या… मैं अपने लिए तो खाना बनाऊंगी ही न और फिर अब मुझे तुम सब के साथ खाना खाने की आदत भी पड़ गई है. अकेले खाना मुझे अच्छा नहीं लगेगा, इसलिए हम दोनों साथ खाना खाएंगी. मैं तुम्हारी मां की तरह हूं… यदि तुम्हें उचित लगे तो मुझ से तुम कुछ भी मत छिपाओ… शायद मैं तुम्हारी कुछ मदद कर सकूं. मुझ से तुम्हारा इस तरह उदास रहना नहीं देखा जा रहा,’’ मालती ने उस के पास बैठते हुए उस की पीठ पर हाथ रख कर कहा तो उन का ममता भरा स्पर्श पा कर अमृता की आंखों में रुके आंसू बह निकले.
‘‘मेरी मां मुझे पैदा करते ही अकेला छोड़ चल बसी थीं, मेरी मौसी ही मेरी सौतेली मां हैं. घर पर रहती हूं तो वे मुझे कोसने का कभी कोई मौका नहीं छोड़तीं कि पैदा होते ही मैं ने मां को खा लिया, यदि ऐसा नहीं होता तो उन्हें मुझे पालने के लिए अपनी बड़ी बहन की जगह नहीं लेनी पड़ती. उस जमाने में माता पिता का वर्चस्व ही सर्वोपरि होता था. मेरे नानानानी ने सोचा कि मौसी से अधिक अच्छी तरह और कौन मेरी देखभाल कर सकता है. पापा ने भी यह सोच कर मौसी से विवाह कर लिया कि वे अपनी बहन की बेटी को अपनी बेटी की तरह पालेंगी, लेकिन इस के विपरीत उन्होंने अपना सारा आक्रोश मुझ पर ही निकालना शुरू कर दिया.
आप बताइए मैं अपनी मां की मृत्यु का कारण कैसे हो सकती हूं…? मेरा इस में क्या दोष है और यदि उन का विवाह मेरे पापा से हुआ तो उस में मेरी क्या गलती है? इसीलिए मेरे पापा ने मुझे होस्टल में रख कर ही पढ़ाया और मुझे वे कभी घर नहीं आने देना चाहते ताकि मुझे अकारण मौसी के व्यंग्यबाण न सहने पड़ें. जब उन का मन होता है, वे स्वयं मुझ से मिलने आ जाते हैं,’’ अमृता ने सुबकते हुए बिना किसी भूमिका के सब कह डाला.
मालती उस की बात सुन कर उसे अपने गले से लगाते हुए बोलीं, ‘‘मुझे बहुत दुख हुआ ये सब जान कर, लेकिन तुम दुखी मत हो… किसी भी चीज की जरूरत हो तो मुझे बताना,’’ कह वे चली गईं.
मालती के जाते ही अमृता सोच में पड़ गई कि कितना विरोधाभास है उस की मौसी और मालती आंटी के स्वभाव में. उस के मानसपटल पर 6 महीने पहले की घटना तैरने लगी. तबवह नौकरी के सिलसिले में पहली बार दिल्ली आई थी और एक पेइंगगैस्ट हाउस में रहना शुरू किया था. आते ही उसे वायरल बुखार ने अपनी चपेट में ले लिया. मैस में बना खाना उसे नहीं खाना था. फिर उस के अनुरोध करने पर भी जब मैस चालक ने उसे उस की पसंद का खाना देने से इनकार कर दिया तो वह पास की दुकान पर ब्रैड लेने पहुंच गई. लेकिन जब दुकानदार ने ब्रैड नहीं है कहा तो वह बड़बड़ाई कि तबीयत ठीक नहीं है. लगता है मुझे मैस का तलाभुना खाना ही खाना पड़ेगा.
दुकान पर ही पास खड़ी मालती ने उस की बात सुन ली और फिर उस का हाथ छूते हुए बोलीं, ‘‘बेटा, तुम्हारी तबीयत ठीक नहीं है, तुम्हें तो तेज बुखार है. मेरे घर चलो, पास में ही है. तुम्हें तुम्हारी पसंद का खाना बना कर खिलाऊंगी.’’

और भी रोमांटिक प्रेम कहानियां “the love story in hindi” पढ़ना ना भूलें=>
क्या ये प्यार है
एक सच्चे प्यार की कहानी
कुछ इस कदर दिल की कशिश
प्यार में सब कुछ जायज है.
A sweet short love story in hindi language, true love story in hindi in short, true sad love story in hindi language, hindi love story in short love, love story novel in hindi language, romantic love stories in hindi language
अनजान शहर में एक अनजान औरत से ऐसी आत्मीयता भरी बात सुन कर वह हत्प्रभ रह गई. उसे वे पढ़ी लिखी और संभ्रांत परिवार की लग रही थीं, लेकिन प्रतिदिन इतनी वारदातें सुनने में आती हैं… एकदम से किसी पर भी विश्वास करना उसे ठीक नहीं लगा, इसलिए उस ने जवाब देते हुए कहा, ‘‘नहीं आंटी, मैं मैनेज कर लूंगी. आप परेशान न हों.’’
‘‘इस में परेशानी की कोई बात नहीं. तबीयत खराब हो तो खाना भी ठीक से मिलना जरूरी है वरना तबीयत और बिगड़ सकती है.’’
‘‘उन की बात बीच में ही काट कर दुकानदार बोला, ‘‘अरे, ये पास में ही तो रहती हैं. बहुत अच्छी हैं. मैं इन्हें 20 सालों से जानता हूं.’’
मालती के आत्मीयता भरे आमंत्रण पर दुकानदार के आश्वासन की मुहर लगते ही अमृता के नानुकुर करने की गुंजाइश ही नहीं रही. अत: बोली, ‘‘ठीक है,’’ और फिर उन के साथ उन के घर पहुंच गई.
एक बड़ी सी दो मंजिला कोठी के सामने जा कर दोनों रुक गईं. मालती उसे एक बड़े ड्राइंगरूम में ले गईं. सामने दीवार पर प्रौढ़ावस्था के पुरुष का माला पहने हुए बड़ा सा फोटो लगा था. उस ने अनुमान लगाया कि वह फोटो उन के पति का ही होगा.
मालती ने उसे दीवान पर आराम करने के लिए कहा और फिर अंदर जा कर तुरंत चाय बना लाईं. उस के साथ ब्रैडस्लाइस भी थे. अमृता को बहुत संकोच हो रहा था, उन्हें ये सब करते देख कर.
उस ने सकुचाते हुए पूछा, ‘‘आंटी, आप यहां अकेली रहती हैं?’’
‘‘हां, एक बेटा है… इंजीनियर है वह. पुणे में नौकरी करता है.’’
‘‘आंटी एक बात कहूं… यदि बुरा लगे तो प्लीज मुझे माफ कर दीजिएगा.’’
‘‘नहीं बेटा, बोलो क्या कहना चाहती हो? निस्संकोच कहो.’’
उन के उत्तर से अमृता की हिम्मत बढ़ गई. बोली, ‘‘आंटी, आप का इतना बड़ा घर है, आप को अकेलापन भी लगता होगा, आप क्यों नहीं ऊपर की मंजिल पर कुछ कमरे हम जैसी लड़कियों को रहने के लिए दे देतीं?’’ आंटी प्लीज यह मत सोचिएगा कि मैं आप की स्थिति का फायदा उठाना चाहती हूं. छोटे मुंह बड़ी बात तो नहीं कह दी मैं ने?’’ इतना बोलते ही अमृता को अपराध भावना ने घेर लिया.
लेकिन तुरंत ही मालती के उत्तर से वह उस से बाहर आ गई. मालती बोली, ‘‘नहीं बेटा, तुम ने बहुत अच्छी सलाह दी है… इस से मेरा अकेलापन भी दूर हो जाएगा और यह मकान भी जरूरतमंदों के काम आ जाएगा.’’
‘‘सच आंटी?’’ उस ने खुशी जताते हुए कहा. फिर थोड़ी तटस्थ हो कर उन्हें और सोचने का मौका न देते हुए बोली, ‘‘तो फिर देर किस बात की… मैं शाम को ही अपनी रूममेट्स को ले कर आती हूं.’’
‘‘ठीक है, लेकिन अभी लंच कर के जाना और वादा करो कि जब तक तुम्हारी तबीयत ठीक नहीं हो जाती, यहीं खाना खाओगी. मुझे भी कंपनी मिल जाएगी.’’

मैं आशा करता हूँ की आपको ये story आपको अच्छी लगी होगी। कृपया इसे अपने दोस्तों और रिश्तेदारों के साथ फेसबुक और व्हाट्स ऍप पर ज्यादा से ज्यादा शेयर करें। धन्यवाद्। ऐसी ही और कहानियों के लिए देसिकहानियाँ वेबसाइट पर घंटी का चिन्ह दबा कर सब्सक्राइब करें।

Tags-A sweet short love story in hindi language, true love story in hindi in short, true sad love story in hindi language, hindi love story in short love, love story novel in hindi language, romantic love stories in hindi language

80%
Awesome
  • Design
loading...
You might also like