ga('send', 'pageview');
Articles Hub

बीस साल बाद-After twenty years a new short inspirational story by O Henry

बीस साल बाद – ओ हेनरी
After twenty years a new short inspirational story by O Henry,inspirational story in hindi,inspirational story in hindi for students, motivational stories in hindi for employees, best inspirational story in hindi, motivational stories in hindi language

एक पुलिस अधिकारी सड़क पर गश्त लगा रहा था। रात के दस बज गए थे ,रह -रह कर हलकी बारिश हो रही थी। ठंडी हवा चलने के कारण सड़क पर कम ही लोग दिखाई पड़ रहे थे। सड़क के एक छोर पर व्यवहार चला ,एक गोदाम था। पुलिस अधिकारी जब गोदाम के पास पहुंचा तब उसने एक आदमी को देखा। पुलिस अधिकारी ने जब उससे पूछ ताछ की तब उसने कहा कि वह अपने एक दोस्त का इंतज़ार कर रहा है। हमने बीस बर्ष पहले मिलने का वादा किया था यह बात भले ही सुनने में अजीब लगे पर यह बिलकुल सत्य है। उस आदमी का चेहरा पीला था। आँखों में एक चमक थी। उसके टायपीन में एक बड़ा सा हीरा बेतरकीब ढंग से जड़ा हुआ था। उस आदमी ने कहा ,बीस साल पहले इस गोदाम की जगह एक रेस्त्रां हुआ करता था जिसका नाम बिग जो था। आज से ठीक बीस साल पहले मैंने अपने मित्र जिमि के साथ उसी रेस्त्रां में खाना खाया था। उसी दिन हमने वादा किया था कि ठीक बीस बर्ष बाद हम यही मिलेंगे चाहे हम कितनी दूर क्यों ना हो या कैसी भी परिस्थिति क्यों ना हो। पुलिस अधिकारी ने कहा -बड़ी दिलचस्प बात है। जब आप जिमि से अलग हुए उसके बाद से उसका कुछ पता चला ? सिर्फ एक डेढ़ साल तक पत्र व्यवहार चला उसके बाद सब कुछ बंद हो गया मुझे विश्वास है कि अगर जिमि जीवित होगा तो मुझसे मिलने जरूर आएगा। मैं तो एक हज़ार किलोमीटर दूर से उससे मिलने आया हूँ। उसने अपनी घडी देखि जिसपर छोटे -छोटे हीरे जड़े थे। पुलिस अधिकारी अपना डंडा घुमाते हुए वहाँ से चला गया। करीब बीस मिनट बाद एक लंबा आदमी आया ,उसने ओवरकोट पहना था। उसने पूछा -क्या तुम बाब हो ? क्या तुम जिमि हो ? दोनों ने ख़ुशी से एक दूसरे का हाथ थाम लिया और एक साथ चल पड़े। रौशनी में दोनों ने एक दूसरे का चेहरा देखा। बाब को उस लम्बे आदमी का चेहरा देख कुछ संदेह हुआ। वह गुस्से में आकर बोला -तुम जिमि वेल्स नहीं हो। माना कि बीस बर्षों का समय अधिक होता है पर इतना भी नहीं कि एक आदमी की नाक चौड़ी सपटली हो जाय। जवाब में उस लम्बे आदमी ने कहा -बीस बर्षों में तो एक अच्छा आदमी बुरा आदमी बन जाता है तुम बीस बरस पहले एक अच्छे आदमी थे और अब बुरे आदमी बन गए हो अच्छा यह कागज़ लो और पढ़ो बॉब कागज़ पढ़ने लगा। पूरा पढ़ते ही उसके हाथ कांपने लगे। उसमे लिखा था – बॉब तुम मिलने की जगह पर ठीक समय पर पहुँच गए थे। तुमने सिगार जलाने के लिए माचिस जलाई तभी मैंने तुम्हारा चेहरा देख लिया था।
और भी प्रेरक कहना पढ़ना ना भूलें==>
सेंटारो-Santaroo a new short inspirational story from japanese lifestyle
कोलाहल से दूर-A new short emotional story in hindi for young audiance
ऐतिहासिक कथाये-Historic stories two new short stories in hindi language
After twenty years a new short inspirational story by O Henry,inspirational story in hindi,inspirational story in hindi for students, motivational stories in hindi for employees, best inspirational story in hindi, motivational stories in hindi language

तुम वही आदमी हो जिसकी तलाश शिकागो पुलिस कर रही है। मुझे तो तुम्हे उसी वक़्त गिरफ्तार कर लेनी चाहिए था। लेकिन तुम्हारा दोस्त होने के कारण यह काम नहीं कर सका। अब मैंने पुलिस के ही दूसरे आदमी को तुम्हे गिरफ्तार करने के लिए भेजा है। और आज की हँसिकाएँ – कहना है कि पता नहीं क्यों लोकतंत्र पर से विश्वास उठ सा गया है। जब हमारी बचपन में स्कूल की छुट्टियां हुई तो रात के खाने के मेज़ पर पापा ने पूछा – बताओ बच्चों ,छुट्टियों में दादा के घर जाना है कि नाना के ? सब बच्चों ने एक साथ कहा – दादा के लेकिन मम्मी ने कहा – नाना के यहां — बहुमत दादा के हक़ में था। लिहाज़ा मम्मी का मत हार गया और पापा ने बच्चों के हक़ में फैसला सूना दिया। हम सब खुश होकर सोने चले गए। अगली सुबह मम्मी तौलिये से बाल सुखाते हुई मुस्करा कर कहा – सब बच्चे जल्दी से कपडे पहन लो हम नाना के घर जा रहे हैं। मैंने हैरत से पापा का मुख देखा वे नज़रें चुराकर अखबार पढ़ने की अदाकारी करने लगे बस उसी वक़्त समझ गया कि लोकतंत्र में फैसले अवाम की उमंगो के मुताबिक़ नहीं लिए जाते ,बल्कि बंद कमरों में उस वक़्त होते हैं जब अवाम सो रही होती है।

मैं आशा करता हूँ की आपको ये story आपको अच्छी लगी होगी। कृपया इसे अपने दोस्तों और रिश्तेदारों के साथ फेसबुक और व्हाट्स ऍप पर ज्यादा से ज्यादा शेयर करें। धन्यवाद्। ऐसी ही और कहानियों के लिए देसिकहानियाँ वेबसाइट पर घंटी का चिन्ह दबा कर सब्सक्राइब करें।

Tags-After twenty years a new short inspirational story by O Henry,inspirational story in hindi,inspirational story in hindi for students, motivational stories in hindi for employees, best inspirational story in hindi, motivational stories in hindi language

80%
Awesome
  • Design
loading...
You might also like