ga('send', 'pageview');
Articles Hub

अघोरी कथा-aghori story of bheem and shri krishna from mahabharata in hindi language

aghori story of bheem and shri krishna from mahabharata in hindi language
aghori story of bheem and shri krishna from mahabharata in hindi language,inspirational story in hindi,inspirational story in hindi for students, motivational stories in hindi for employees, best inspirational story in hindi, motivational stories in hindi language
भीम महाभारत में सबसे धुरंधर किरदारों में से एक हैं। कौरव भीम से डरे रहते थे और उसे मारने के बारे में हमेशा सोचा करते थे। एक बार उन्होंने एक अघोरी को उन्हें मारने को कहा। एक बार भीम राजकुमारी जलंधरा से बाते कर रहे थे तभी उन्हें लगा कि कोई पास ही पेड़ के पीछे छुपा है। उन्हें यह भी महसूस हुआ की राजकुमारी खतरे में है। भीम ने उस आदमी को पकड़ लिया और गर्दन पकड़कर पूछा कि वह कौन है ?खासी मरम्मत के बाद उसने स्वीकार किया कि वह शकुनि के द्वारा भेजा गया एक जासूस है। लगातार पिटाई के बाद उसने कहा कि शकुनि और दुशासन आपको भीष्म और कृष्ण को मारने की योजना बना रहे है। नदी के पार एक महा अघोरी रहता है और वह उनलोगों के साथ बैठकर कोई काला जादू कर रहा है। भीम ने उस जासूस को अपने साथ चलने को कहा वे वहाँ पहुंचकर एक पेड़ के पीछे छुप गए शकुनि और दुशासन एक छोटी सी कुटिया में महाअघोरी के साथ बैठे थे। ७५ -८० साल का अघोरी पूरी तरह से नग्नावस्था में बैठा था।
और भी प्रेरक कहना पढ़ना ना भूलें==>
सिर्फ तुम-only you a new short emotional love story of a student from his institute
जीवन का मूल्य-Value of life and knowledge of saint two new inspirational stories in hindi language
aghori story of bheem and shri krishna from mahabharata in hindi language,inspirational story in hindi,inspirational story in hindi for students, motivational stories in hindi for employees, best inspirational story in hindi, motivational stories in hindi language
और कुछ मन्त्र पढ़ रहा था। अघोरी ने पूछा -‘तुम लोग सबसे पहले किसे ख़त्म करना चाहते हो ?सबसे पहले भीष्म को ख़त्म करना चाहते हैं उसके बाद कृष्ण और भीम को। वह ही पांडवों की असली ताक़त है। महाअघोरी ने देवी का आह्वान किया। ये लोग भीष्म को ख़त्म करना चाहते है ,तभी आवाज आई -भीष्म को इच्छा -मृत्यु का वरदान मिला है ,इसलिए मैं कुछ नहीं कर सकती। कृष्ण के बारे में देवी ने कहा -;वह एक दिव्य अस्तित्व है उन्हें हम छू भी नहीं सकते। महाअघोरी ने भीम को मारने हेतु पूजा का अगला चरण शुरू किया। तभी भीम ने उस झोपड़ी को आग में झोंक दिया पहले तो महा अघोड़ी की दाढ़ी और बाल जली फिर उसके पुरे शरीर में आग पकड़ ली। उसने कहा -‘माँ मैं आ रहा हूँ। ‘आग प्रचंड ऊर्जा में बदल गया जिसमे भयानक गर्जना और गूंज फूट रही थी। शकुनि और दुशासन डर से वहाँ से भाग खड़े हुए। इसके बाद भीम ने जासूस की गर्दन मरोड़ दी। क्योंकि जासूस सारा भेद खोल सकता था।

मैं आशा करता हूँ की आपको ये story आपको अच्छी लगी होगी। कृपया इसे अपने दोस्तों और रिश्तेदारों के साथ फेसबुक और व्हाट्स ऍप पर ज्यादा से ज्यादा शेयर करें। धन्यवाद्। ऐसी ही और कहानियों के लिए देसिकहानियाँ वेबसाइट पर घंटी का चिन्ह दबा कर सब्सक्राइब करें।

Tags-aghori story of bheem and shri krishna from mahabharata in hindi language,inspirational story in hindi,inspirational story in hindi for students, motivational stories in hindi for employees, best inspirational story in hindi, motivational stories in hindi language

80%
Awesome
  • Design
loading...
You might also like