ga('send', 'pageview');
Articles Hub

हर काम में अपनी टांग न अड़ाएं- An Amazing Motivational Story In Hindi in 2018

हर काम में अपनी टांग न अड़ाएं
किसी झील के पास लगे एक बड़े से आम के पेड़ में कई सारे पक्षी रहते थे, उनमें से सबसे ज्यादा तोता रहते थे. आम के पेड़ में तोतों की तादात ज्यादा होने के कारण उनका वहां एक तरफा राज चलता था. आम के पेड़ में रह रहे दुसरे पक्षी भी तोतों की इज्जत किया करते थे, क्योंकि सारे तोते पेड़ में रहने वाले पक्षियों की रक्षा करते और उनकी मदद भी करते. उसी पेड़ में कई कौवे भी रहते थे, जो तोतों से जलते थे. आये दिन उनके कामों में अर्चाने डाला करते थे.
कौवे चाहते थे कि तोतों का इस आम के पेड़ से राज खत्म हो जाये और उनका राज चले, लेकिन ऐसा कुछ हो नहीं रहा था. क्योंकि कौओं को छोड़कर सरे पक्षी तोतों का साथ दिया करते थे. यही बात उन कौवों को खलती थी. एक बार उस झील के पास कई सारे शिकारी आये और वहां आराम करने लगे. आम के पेड़ में रह रहे सारे पक्षी परेशान हो गए और किसी को कुछ समझ में नहीं आ रहा था कि आखिर वो करें तो क्या करें. सब को उन शिकारियों से अपने आप को बचाना था.
अब जब तोंतों का आम के पेड़ कर राज चलता था, तो पक्षियों की स्र्रक्षा की जिम्मेदारी उनकी थी. वहीं शिकारियों को भी पता चल गया कि इस आम के पेड़ में कई सारे पक्षी रहते हैं. उन्होंने बिना समय बर्बाद किये उन सारे पक्षियों को पकड़ने के लिए जाल बिछा दिया. ये बात सबसे पहले कौवों को लग गई कि शिकारियों ने जाल भी बिछा दिया है. ये बात कौवों ने किसी को भी नहीं बताई. वो चाहते थे कि जब तोते पक्षियों के बचाने में नाकामयाब हो जाएंगे तब वो सारे पक्षियों को बचाकर उनपर राज करेंगे.


लेकिन तोते भी कम होशियार नहीं थे, उन्होंने एक जबरदस्त प्लान बनाया, लेकिन ये प्लान किसी को समझ में नहीं आया, लेकिन सारे पक्षियों को सिर्फ तोतों पर ही भरोसा था. वहां कौवों ने तोतों के प्लान को गलत बताया और बोला इससे सारे पक्षी शिकारियों के हाँथ लग जाएंगे. कौवों ने सारे पक्षियों को बचाने का वादा भी कर दिया, लेकिन कोई भी पक्षी कौवों की बात नहीं मान रहा था, लेकिन कुछ चिड़ियाँ कौवों के साथ खड़ी हो गईं. अब बारे आई शिकारियों के जाल से बच कर निकलने की.
और भी प्रेरक कहना पढ़ना ना भूलें==>
बदलाव की एक प्रेरक कहानी
चालक भेड़िये और खरगोश की प्रेरक कहानी
कोयल और मोर की प्रेरणादायक कहानी
तोतों के पास एक अच्छा प्लान था और उन्हें शिकारियों की चाल भी समझ में आती थी, इसलिए वो बड़ी आसानी से शिकारियों के जाल से बच कर निकल गए और अपने साथ कई सारे पक्षियों को भी बचा लिया, लेकिन कौवे शिकारियों के जाल में फंस गए और साथ में जो चिड़ियाँ उनके साथ गई थी, वो भी जाल में फंस गई.


कौवों को समझ में आ गया कि ये तोते उनसे ज्यादा समझ दार है और उन्हें बिना कुछ सोंचे समझ इस मामले में अपनी तंग भी नहीं अड़ानी चाहिए थी. कौवों ने तोतों से बचाने का आग्रह किया और तोतों ने बड़ी ही चालाकी से सारे कौवों और उनके साथ चिड़ियों को बचा लिया. अब उस पेड़ पर सब ख़ुशी के साथ रहते हैं.
कहानी से सीख :- बिना सोंचे समझ कोई काम नहीं करना चाहिए और हर काम में अपनी तंग नहीं अड़ना चाहिए.
मैं आशा करता हूँ की आपको ये story आपको अच्छी लगी होगी। कृपया इसे अपने दोस्तों और रिश्तेदारों के साथ फेसबुक और व्हाट्स ऍप पर ज्यादा से ज्यादा शेयर करें। धन्यवाद्। ऐसी ही और कहानियों के लिए देसिकहानियाँ वेबसाइट पर घंटी का चिन्ह दबा कर सब्सक्राइब करें।

Tags-An Amazing Motivational Story In Hindi in 2018,inspirational story in hindi,inspirational story in hindi for students, motivational stories in hindi for employees, best inspirational story in hindi, motivational stories in hindi language

80%
Awesome
  • Design
loading...
You might also like