ga('send', 'pageview');
Articles Hub

दुनिया का सबसे पुराना रेगिस्तान-an small article about world’s largest dessert

an small article about world's largest dessert,inspirational story in hindi,inspirational story in hindi for students, motivational stories in hindi for employees, best inspirational story in hindi, motivational stories in hindi language

दुनिया का सबसे पुराना रेगिस्तान -नामीब रेगिस्तान के बारे में मान्यता है की यहां देवताओं के पैर के निशाँ है और यहां रात में परियां नृत्य करती हैं। आज तक कोई भी इस रेगिस्तान में बानी लाखों गोलाकार आकृतियों की व्याख्या नहीं कर पाया है। यह रेगिस्तान अफ्रीका के अटलांटिक तट से लगा है और धरती पर सबसे सुखी जगह है। इस इलाके में कुछ भी नहीं है। यह देखने में मंगल गृह जैसा है। यह ५ करोड़ साल से भी ज्यादे पुराना है। गर्मियों में यहां का औसतन तापमान ४५ डिग्री सेल्सियस तक पहुँच जाता है। और रातें इतनी ढांड होती हैं कि बर्फ जैम जाए। पर हैरत की बात है कि यहां भी कई प्रजातियों ने अपना घर बनाया है। यह अंगोला से नामीबीए होते हुए २००० किलो मीटर दूर साउथ अफ्रीका के उत्तरी हिस्से तक फैला है। यहाँ औसतन सिर्फ २ मिली मीटर बारिश होती है। कई -कई साल तक तो बिलकुल बारिश ही नहीं होती। यहां ओ ोरैक्स ,स्प्रिंग बॉक ,चीता ,लकड़बग्घा ,शुतुरमुर्ग और ज़ेब्रा पाए जाते है जिन्होंने कठिन परिस्थितियोँ में जीना सीख लिया है। ओरिक्स हप्तों बिना पानी पिए ज़िंदा रह सकते हैं। इस इलाके में रेत के टीले से सटे टूटे हुए जहाज़ों और जुंग खाये पतवारों से भरा पड़ा है।
और भी प्रेरक कहना पढ़ना ना भूलें==>
लवंगी-जगन्नाथ-A new hindi story from the the period of shahjhan
गजब का दिन-a new short motivational story in hindi language about a strange day
बिषाद-a new short motivational story of russian writer Anton Chekhov
an small article about world's largest dessert,inspirational story in hindi,inspirational story in hindi for students, motivational stories in hindi for employees, best inspirational story in hindi, motivational stories in hindi language

यहाँ व्हले के अनगिनत कंकाल मिल जायेंगे। इसे कंकाल तट भी कहते हैं। यह इलाका करीब एक हज़ार जहाज़ों के मलबे से पटा पड़ा है। यहां भयंकर कोहरा रहता है जिसे पार पाना समुद्री जहाज़ों के लिए कठिन होता है। स्थानीय लोगों का मानना है कि ईश्वर ने इस इलाके को गुस्से में बनाया है। काओ जो पुर्तगाल के नाविक थे ,ने इस जगह को ,’नरक का दरवाजा ‘तक का नाम दे दिया। यहां के कुछ टीले २०० मीटर तक ऊँचे हैं। एक पहेली है यहां यानी एक भू -आकृति है जिसे परियों का घेरा कहा जाता है। स्थानीय लोगों का कहना है कि इन्हे आत्माओं ने बनाया है। बर्षों के सूखे से घास सूख जाते हैं। पर जब भी बारिश होती है ये उग आते हैं। यहां के निवासी एक ख़ास तरह के घर बनाते हैं।

और चलते चलते एक प्यारी सी कविता –
वो आँखें जो छलकती हैं/
गम में ,ख़ुशी में ,एक दूसरे के लिए उन आँखों में सदा /
प्यार बेशुमार रहने दो /
वो मस्ती ,वो शरारते /
न तुम भूले ना हम भूले/
उम्र बढ़ती है ,खूब बढे /
जवान ये किरदार रहने दो। मुझ पर दोस्तों का प्यार /
यूँ ही उधार रहने दो /
बड़ा हसीन है ये क़र्ज़ /
मुझे कर्ज़दार रहने दो।

मैं आशा करता हूँ की आपको ये story आपको अच्छी लगी होगी। कृपया इसे अपने दोस्तों और रिश्तेदारों के साथ फेसबुक और व्हाट्स ऍप पर ज्यादा से ज्यादा शेयर करें। धन्यवाद्। ऐसी ही और कहानियों के लिए देसिकहानियाँ वेबसाइट पर घंटी का चिन्ह दबा कर सब्सक्राइब करें।

Tags-an small article about world’s largest dessert,inspirational story in hindi,inspirational story in hindi for students, motivational stories in hindi for employees, best inspirational story in hindi, motivational stories in hindi language

80%
Awesome
  • Design
loading...
You might also like