ga('send', 'pageview');
Articles Hub

असभ्य राजा-An uncultured king a new short inspirational story of a real king

An uncultured king a new short inspirational story of a real king
An uncultured king a new short inspirational story of a real king,inspirational story in hindi,inspirational story in hindi for students, motivational stories in hindi for employees, best inspirational story in hindi, motivational stories in hindi language

एक राजा था जिसे यह गुमान था कि वह अपने विभिन्न विचारों को मूर्त रूप दे सकता है। राजा था तो चीज़ें हो भी जाती थी। उसे अपनी असभ्य करतूतें खुशियां देती। पर उसका मानना था कि इससे प्रजा की मानसिक शक्ति मजबूत होगी। वैसे वह अपराधी को सज़ा भी देता और अच्छे काम करनेवाले को पुरस्कृत भी करता। अपराधी को सज़ा देने की विधि भी अजीब थी शायद उस समय यही प्रचलित हो। असेंबली में जनता जुटती ,सिंहांसन पर राजा आसीन होता ,फिर राजा एक सिग्नल देता। सिंहांसन के नीचे एक दरवाज़ा खुलता ,अपराधी बाहर आता। कई दरवाज़े होते एक को खोलना होता ,अगर उसने एक दरवाज़ा खोला ,किस्मत दगा दे गई तो उसमे से एक भूखा बाघ निकलता। जो एक छलांग लगाता और अपराधी को टुकड़े -टुकड़े कर देता। दर्शक भयभीत होते और विषाद लिए घर लौट जाते। लेकिन अगर अपराधी ने किसी दूसरे दरवाज़े को खोला तो एक लेडी निकलती और उसी समय उसका विवाह उसके साथ कर दिया जाता। यह उसके बेगुनाही का सबब होता। अगर कोई तीसरा दरवाज़ा खुलता एक पुजारी बाहर आता जो उन दोनों का विवाह कराता , राजा का यह न्याय प्रणाली नायाब था। पर निपराधी को सज़ा कतई नहीं दी जाती। इधर राजकन्या अपने प्रेमी के साथ खुश थी। इस लव अफेयर का पता राजा को एक दिन चल ही गया। युवक प्रेमी को तुरत हिरासत में ले लिया गया। ट्रायल का दिन मुक़र्रर हुआ। एक युवक ने राजकन्या से प्रेम करने की हिमाकत की थी सो यह मामला गंभीर था। खूँखार जानवरों की पहचान की गई ,उस प्रेमी युवक के भाग्य /दुर्भाग्य की परीक्षा होनी थी। नियत तिथि को गैलरी में लोगों की भीड़ जमा थी सिग्नल दे दिया गया। , दरवाज़ा खुला प्रेमी युवक बाहर आया , लोगों में हमदर्दी ,थोड़ी चिंताएं व्याप्त थी उसने परम्परा के अनुसार राजा को झुककर सलाम नहीं किया। उसकी आँखे अब भी खौफ के वववजूद राजकुमारी पर ही टिकी थी जो राजा के सिंहासन के बगल में विराजमान थी। इस मुहब्बत का क्या अंजाम होगा ?पर राजकुमारी को दरवाज़े के गुप्त बातें मालूम थी। उसे यह भी मालूम था कि किन दो पिंजड़ों में खूंखार बाघ बंद थे।
और भी प्रेरक कहना पढ़ना ना भूलें==>
कैक्टस-come and take me a new short inspirational story of a girl
अकल्मन्द बुढ़िया-intelligent old woman a new short inspirational story of an old woman
बड़ा पद-High rank a new short inspirational story of a father and a son
An uncultured king a new short inspirational story of a real king,inspirational story in hindi,inspirational story in hindi for students, motivational stories in hindi for employees, best inspirational story in hindi, motivational stories in hindi language
वह यह भी जानती थी कि किस कमरे में लेडी प्रवेश करेगी। पर राजकुमारी को उस लड़की से नफरत थी जो ऐसे असभय कृत्य किया करती थी। युवक की अपनी प्रियतमा से आँखें दूर से ही सही ,चार हुई। रहस्य से पर्दा उठनेवाला था। क्योंकि देखना यह था कि राजकुमारी उस प्रेमी को कैसे बचाती है। उसने जोर से पूछा -कौन सा ? राजकुमारी ने अपनी दाहिनी हाथ को उठाया। और तेज़ी से दाहिनी तरफ घुमाया। यह सब इतनी तेज़ी में हुआ कि उन दोनों के अलावे कोई भाँप तक नहीं पाया। युवक आगे बढ़ने लगा लोगों की धड़कने तेज़ चलने लगी थी। उसने दरवाज़ा खोला। कहानी का सारांश यही है कि उस केज से बाघ बाहर आया या लेडी ?प्रश्न थोड़ा टेढ़ा हो सकता है। पाठकों ,एक तरफ खूंखार बाघ दूसरी तरफ अपने प्रेमी को एक सुन्दर बाला के साथ नियम के अनुरूम विवाह बंधन में बधना स्त्री प्यार का प्रतिदान तो कभी नहीं देगी इतना बड़ा त्याग तो नहीं हो सकेगा। एक तरफ लोमहर्षक मृत्यु दूसरी तरफ प्यार का खोना दोनों दरवाज़े घातक। युवक का बचना ,पुजारी का आना ,वाद्य धव्नि के साथ फूल माला में उसके प्रेमी का उस बाला का हाथ थामना। इस नैसर्गिक ईर्ष्या से कैसे अपने आप को बचाएगी भला ? क्या युवक और राजकुमारी को साथ मर जाना चाहिए ताकि उस ब्लेस्ड रीजन में दोनों का पुनर्मिलन हो सके ? स्मृति -पटल में एक विचार सहसा कौंधा ,- और वे डरावनी दहाड़ें ,भयानक बाघ और बहते खून पर उसने बिना झिझक के अपने हाथ को दाहिनी तरफ घुमाया। अब नतीज़ा सुधी पाठकों के हवाले छोड़ता हूँ दरवाज़ा खुलते ही कौन आया – लेडी या बाघ ?

मैं आशा करता हूँ की आपको ये story आपको अच्छी लगी होगी। कृपया इसे अपने दोस्तों और रिश्तेदारों के साथ फेसबुक और व्हाट्स ऍप पर ज्यादा से ज्यादा शेयर करें। धन्यवाद्। ऐसी ही और कहानियों के लिए देसिकहानियाँ वेबसाइट पर घंटी का चिन्ह दबा कर सब्सक्राइब करें।

Tags-An uncultured king a new short inspirational story of a real king,inspirational story in hindi,inspirational story in hindi for students, motivational stories in hindi for employees, best inspirational story in hindi, motivational stories in hindi language

80%
Awesome
  • Design
loading...
You might also like