Articles Hub

प्रारब्ध-a new short hindi motivational story of chitragupta maharaj

प्रारब्ध हमारे संचित कर्मों की पूंजी है। जिसके अनुरूप ही हम सुख अथवा दुःख का भोग करते हैं। प्रारब्ध के अनुसार ही हमें मानव जन्म मिला है। सुबह या अशुभ कर्म ही हमारे अगले जन्म को निर्धारित करता है। एक समय की बात है एक नगर में एक प्रतापी राजा…

दो गुब्बारे-a new Hindi motivational story about human’s grief

अक्सर दुखों का कारण हमारी नकारात्मक मानसिकता ही होती है। हमारी सोच अगर सही नहीं है तो हम साधारण जीवन व्यतीत करते हैं। असाधारण व्यक्तित्व के लिए असाधारण सोच भी होना चाहिए। हमें तकलीफ होती है तो हम अपनी किस्मत को दोष देते हैं। शहर के एक बड़ा…

कल्पना और यथार्थ-a new short hindi motivational story of mahatma budha and his follower

कल्पना और यथार्थ में बहुत फर्क होता है। आनंद बुद्ध के प्रिय शिष्यों में से एक थे। वे बुद्ध से हमेशा ढेर सारे प्रश्न पूछा करते थे। उन्होंने कई प्रश्न ऐसे पूछे जो शायद ना पूछे होते तो तो हमें पता ही नहीं चलता कि बुद्ध ने क्या उत्तर दिए।…

अर्थ-a new short inspirational story in Hindi language about corona time

एक राजा काफी दिनों से शांतिपूर्ण तरीके से राज पाट चला रहा था। एक दिन उन्होंने अपने दरबार में उस्तव रखा जिसमे मित्र देशों के राजाओं को भी आमंत्रित किया। अपने गुरुदेव को भी बुलाया। सुप्रसिद्ध नर्तकी को भी बुलाया। उन्होंने कुछ स्वर्ण मुद्राएं…

दो बूँद आंसू-a new short hindi poem of ivan Turgenev

वह एक कैदी था। उम्र कैद की सज़ायाफ्ता। एक दिन मौक़ा पाकर वह जेल से भाग निकला। जितना हो सकता था ,वह भागा जा रहा था। वह पूरी शक्ति लगाकर भाग रहा था। वह इतना थक चुका था की बार -बार गिर पड़ता था। सामने एक नदी बाह रही थी। चूँकि वह तैरना नहीं जानता…

कमज़ोर-A new short hindi motivational story of being weak

एक दिन मैंने अपने बच्चों की ाधायापिका यूलिया को अपने दफ्तर बुलाया। मुझे उनसे उनके वेतन का हिसाब -किताब करना था। मैंने कहा -आप तो इतने संकोची हैं कि जरूरत पड़ने पर भी आप खुद तो पैसे मागेंगी नहीं। पर हमने तो तय कर लिया है कि आपको हर महीने तीस…

उत्तराधिकारी-two new short but inspirational story in hindi language

बहुत पूर्व की बात है ,एक प्रतापी राजा थे। प्रजा खुशहाल थी। पर धुकड़ प्रसंग यह था की राजा निःसंतान थे। राजा चिंतित रहते थे की उनकी देहावसान के बाद इस राज्य का कौन उत्तराधिकारी होगा ?राजा ने काफी सोच विचार के बाद एक तरकीब सोची। उन्होंने अपने…

मुक्ति का मार्ग-a new short inspirational story in hindi language about Mukti

एक समय की बात है ,एक राजा एक दिन किसी कारणवश अपने वज़ीर से नाराज़ हो गया। उस राजा ने वज़ीर को एक बहुत ऊँचे मीनार में कैद कर दिया। यह यातनापूर्ण कैद मृत्युदंड से भी अधिक तख़लीफ़देह था। बचाव का कोई रास्ता नहीं था। ना तो कोई उसे भोजन पहुंचा सकता था…

मुखोटे-Two new very short hindi inspirational stories

दशहरा का मेला लगा था। मेले में एक दूकान भिन्न -भिन्न मुखोटों से सज़ा था। खासकर राम और रावण की मुखौटों की। एक बच्चा अपने पापा से मुखौटा खरीद देने की जिद की। पिता ने दुकानदार से पूछा -भैया ,कैसे दिए ये मुखौटे ? कौन सा चाहिए साहब -राम का या…

यह भी नशा,वह भी नशा-a new short hindi motivational story written by MunshiPremchnd

होली का दिन था रॉय साहेब घसीटेलाल के यहां भांग छान रही थी। मालूम हुआ कि जिलाधीश मिस्टर बुल आ रहे हैं। उनके आने की खबर से खलबली मच गई। कोई उधर भागा कोई इधर पर रॉय साहेब निश्छल बैठे रहे। साहब ने आते ही कहा -हेलो रॉय साहेब ,आज तो आप का होली…