ga('send', 'pageview');
Articles Hub

नदी के पार-Beyond the river a new short motivational story in hindi language

Beyond the river a new short motivational story in hindi language,inspirational story in hindi,inspirational story in hindi for students, motivational stories in hindi for employees, best inspirational story in hindi, motivational stories in hindi language
नदी के पार-नदी उस बड़े से उजाड़ मैदान के पास आकर धनुष के आकार में मुद गई थी पैंतीस के ऊपर की एक दुबली-पतली सी पागल औरत वहाँ रहती थी। वह अपनी एकांत कुटिया में अकेली ही रहती थी। जब मालकिन मरी तो उन्हें इस बात पर कोई आश्चर्य नहीं हुआ था किला फाले नदी से आगे नहीं गई थी बल्कि इसी किनारे कड़ी होकर रोती-पीटती रहती थी छोटे मालिक अब बेलसीम के मालिक बन गए थे वह अब अधेड़ हो चुके थे। उनके परिवार में खूबसूरत बेटियां थी और एक नन्हा बेटा था जिसे ला फाले चेरी अर्थात प्यारा कहकरपुकारती थी। उसे बेजुबान साथी बहुत अच्छे लगते थे। दस साल का एक कुटिल लड़का ने उस औरत जिसका नाम ला फाले बताया कि जंगल में सारे हिरन हैं। एक घंटे बाद जंगल के छोर से लड़के की बन्दूक की अव्वज सुनी वह उस तरफ दौड़ पड़ी। वहाँ उसने चेरी को जमीन पर पड़े देखा। वह करूँ स्वर में कराह रहा था -‘मैं मर गया नहीं -नहीं चेरी ,कुछ नहीं हुआ तुम्हे कुछ नहीं होगा। ‘ एक गोली उसके टांग में कहीं घुस गई थी और उसे भयानक दर्द हो रहा था। वह मदद के लिए चिल्लाई। चेरी लगातार रोता रहा याचना कर रहा था कि कोई उसके माँ के पास ले चले। नदी के किनारे पहुंचकर उसने मदद की गुहार लगाई पर कोई जवाब नहीं मिला। जब वह बस्ती के पास पहुंची तब किसी ने जोर से कहा-ला फाले ने नदी पार कर ही ली / वह चेरी को लेकर आ रही है — चेरी के काले होठों पर सफ़ेद झाग बनकर जमा हो गया था। मौत उसे छोड़कर आगे निकल गई थी। कहीं से सुगंधे बौछार कर रही थी।
और भी प्रेरक कहना पढ़ना ना भूलें==>
स्वप्नमयी-a new short hindi motivational by vishnu prabhakar of a mother
अद्भुत रहस्य कथा-a new unique mystery story in hindi language
बहस-Debate a cute short love story in hindi language
Beyond the river a new short motivational story in hindi language,inspirational story in hindi,inspirational story in hindi for students, motivational stories in hindi for employees, best inspirational story in hindi, motivational stories in hindi language

वह एक दरवाजे के पास पहुंची ,ओह ला फाले तुम ,इतनी सुबह ?’ हाँ मेम साहेब मैं पूछने आई थी कि आज सुबह से मेरा नन्हा चेरी कैसा है ? बेहतर है ,सो रहा है। जागेगा ,तब आ जाना ,-नहीं मेम साहेब जब तक चेरी जाग नहीं जाता मैं यहीं सीधी पर बैठी रहूंगी। उसके चेहरे पर बिश्मय और गहन संतोष के भाव तिरने लगे। आज वह पहली बार सूरज को नदी पार की खूबसूरत दुनिया के उस पार उगता देख रही थी।

मैं आशा करता हूँ की आपको ये story आपको अच्छी लगी होगी। कृपया इसे अपने दोस्तों और रिश्तेदारों के साथ फेसबुक और व्हाट्स ऍप पर ज्यादा से ज्यादा शेयर करें। धन्यवाद्। ऐसी ही और कहानियों के लिए देसिकहानियाँ वेबसाइट पर घंटी का चिन्ह दबा कर सब्सक्राइब करें।

Tags-Beyond the river a new short motivational story in hindi language,inspirational story in hindi,inspirational story in hindi for students, motivational stories in hindi for employees, best inspirational story in hindi, motivational stories in hindi language

80%
Awesome
  • Design
loading...
You might also like