Articles Hub

emotional love story in hindi language- मोहब्बत या कुछ और






देसिकहानियाँ में हम एक से बढ़कर एक प्रेम  कहानियां प्रकाशित करते हैं। पेश है इसी कड़ी में “मोहब्बत या कुछ और” emotional love story in hindi language आशा है,ये आपको पसंद आएगी।


लेखक- आदित्य

संजीव और शुभम बहुत अच्छे दोस्त थे.दोनों की दोस्ती पुरे कॉलेज में एक मिसाल की तरह थी, दोनों बहुत खुश थे,साथ आते थे और साथ जाते थे, हमेशा साथ साथ रहते थे, संजीव और शुभम पढ़ने में भी अच्छे थे, संजीव देखने में स्मार्ट था, वहीँ शुभम संजीव की तरह नहीं था, हाँ ये जरूर कह सकते हैं की शुभम का स्वभाव संजीव से ज्यादा अच्छा था, वो बहुत ही सॉफ्ट स्वभाव का था, जबकि संजीव को गुस्सा बहुत जल्दी आ जाता था, लेकिन अगर लुक की बात की जाये तो संजीव देखने में शुभम से बहुत अच्छा दीखता था, कॉलेज का दूसरा  साल था, तभी दूसरे शहर से स्वेता नाम की लड़की ने इस कॉलेज में एडमिशन लिया,क्योंकि उसके पापा का ट्रंसफर इस शहर में हुआ था,जिसकी वजह से स्वेता को यहाँ के कॉलेज में एडमिशन मिल गया, उसके पापा अच्छे पोस्ट पर थे, इसलिए उसे एडमिशन मिल गया, स्वेता देखने में बहुत सुन्दर थी और काफी अमीर भी थी,उसकी सुंदरता पर सभी फ़िदा थे, लेकिन मजे की बात थी की संजीव और शुभम स्वेता की तरफ ध्यान भी नहीं देते थे,ये बात स्वेता को अजीब लग रही थी, उसे पता चला की दोनों बहुत अच्छे दोस्त हैं और दोनों अपनी दोस्ती के बिच किसी लड़की को नहीं आने देना चाहते हैं,इसलिए वो लड़कियों से दूर ही रहते हैं, ये सुन कर स्वेता को अजीब लगा, लेकिन ये सच था,धीरे-धीरे स्वेता उन दोनों से दोस्ती कर ली और अब वो दोनों के साथ ही पढ़ती थी, स्वेता ज्यों-ज्यों संजीव के करीब जा रही थी,उसे संजीव से प्यार होते जा रहा था, इधर शुभम को भी स्वेता से प्यार हो गया था,लेकिन शुभम ने कभी ये बात संजीव को नहीं बताई, एक दिन स्वेता ने शुभम को बता दिया की वो संजीवग से प्यार करती है,जब ये बात शुभम ने सुना तो उसे बहुत दुःख हुआ क्योंकि वो भी स्वेता से प्यार करता  था,लेकिन जब स्वेता ही संजीव से प्यार करती थी, तो वो क्या कर सकता था.
और भी रोमांटिक प्रेम कहानियां पढ़ना ना भूलें==>
कैसा ये इश्क़ है
कयामते इश्क़
वो खूबसूरत लम्हा
क्या ये प्यार है
स्वेता ने शुभम को बोला की वो संजीव से उसके दिल में उसके लिए क्या है, पता करे? शुभम ने ऐसा ही किया तो पता चला की संजीव भी स्वेता को पसंद करता है,ये जान शुभम ने स्वेता को भूलने का मन बना लिया और संजीव से भी दुरी बनाने लगा, जिसकी वजह से संजीव और स्वेता करीब आ गए, और दोनों ने कॉलेज खतम होने के बाद शादी करने का मन भी बना लिया,और शायद इसलिए स्वेता और संजीव इतने करीब आ गए की सारी  हदें तोड़ कर दोनों ने शारीरिक सम्बन्ध बना लिया, लेकिन कुछ  दिनों के बाद ही स्वेता और संजीव में झगड़ा हो गया, जिसकी वजह से संजीव ने स्वेता को छोड़  दिया, गुस्सा शांत होने के बाद स्वेता ने संजीव से माफ़ी मांगी और उसे अपने प्यार का वास्ता दिया लेकिन संजीव नहीं माना,कुछ दिनों के बाद स्वेता को पता चला की वो माँ  बनने वाली है, अब तो उसकी मुसीबत और बढ़ गयी, और वो आत्महत्या करने का मन बना ली,लेकिन जब ये बात शुभम को पता चली तो उसने स्वेता से शादी कर लिया,और आज स्वेता और शुभम ख़ुशी ख़ुशी जिंदगी गुजार रहे हैं।
मैं आशा करता हूँ की आपको ये “emotional love story in hindi language” प्रेरक कहानी आपको अच्छी लगी होगी। कृपया इसे अपने दोस्तों और रिश्तेदारों के साथ फेसबुक और व्हाट्स ऍप पर ज्यादा से ज्यादा शेयर करें। धन्यवाद्। ऐसी ही और कहानियों के लिए देसिकहानियाँ वेबसाइट पर घंटी का चिन्ह दबा कर सब्सक्राइब करें।
इस कहानी का सर्वाधिकार मेरे पास सुरक्छित है। इसे किसी भी प्रकार से कॉपी करना दंडनीय होगा।




80%
Awesome
  • Design
loading...
You might also like