ga('send', 'pageview');
Articles Hub

इतिहास की प्रसिद्ध प्रेम कहानियां-Famous Love stories of the world in hindi language

Famous Love stories of the world in hindi language, true love story in hindi in short, true sad love story in hindi language, hindi love story in short love, love story novel in hindi language, romantic love stories in hindi language
इतिहास की प्रसिद्ध प्रेम कहानियां -यह कहानी पंजाब की सस्सी और पुन्नू की है। सस्सी एक हिन्दू राजा की बेटी थी मगर पल्ला उसे एक मुस्लिम धोबी ने था। उसके बारे में भविष्यवाणी की गई थी कि बड़ी होने पर वह निराला इश्क़ करेगी। एक दिन सस्सी नदी के रास्ते आनेवाले सौदागरों की तस्वीर देखी तस्वीर देखते ही एक पर वह मोहित हो गई। उस युवक का नाम था पुन्नू। किस्मत की मेहरबानी से दोनों मिले भी लेकिन कुछ ही दिनों में दोनों को जुड़ा होना पड़ा। बिरह वेदना में उसने फैसला किया कि वह रेगिस्तान पार कर पुन्नू के देश जाएगी पर यह निर्णय बेहद कठिन था रेगिस्तान की भीषण गर्मी सस्सी के कोमल बदन सह नहीं पाए और वह उसी रेगिस्तान की गर्म रेत में दफ़न हो गई। इधर पुन्नू भी सस्सी से मिलने के लिए तड़प रहा था। रेगिस्तान में एक चरवाहे से पता चला कि सस्सी ने यही डैम तोड़ दिया था। पुन्नू ने वहीँ अपने आप को ख़त्म कर लिया। दोनों ने इस दुनिया को अलविदा तो कह दिया पर उनकी प्रेम कहानी अमर हो गई।
और भी रोमांटिक प्रेम कहानियां “the love story in hindi” पढ़ना ना भूलें=>
अनसुलझे रहस्य-Unbelievable mystery of world new short hindi language mystery story
रिश्ता-Realtion a new motivational Love story in hindi language
गलतफहमी-Misunderstanding a new short love story with emotional touch
Famous Love stories of the world in hindi language, true love story in hindi in short, true sad love story in hindi language, hindi love story in short love, love story novel in hindi language, romantic love stories in hindi language
[२] मिर्ज़ा और साहिबा – यह कहानी दानाबाद गाँव के खरल कबीले के एक लड़का मिर्ज़ा और उसके मामा की बेटी साहिबा की है। दोनों एक साथ खेल कर बड़े हुवे। बचपन का साथ जवानी के आते -आते प्रेम में बदल गया। शायद मिर्ज़ा और साहिबा एक हो जाते अगर घर के बेटों की दखलदांजी ना होती। वंजल खान इस रिश्ते को अपना सकता था लेकिन साहिबा के भाई शमीर को यह रिश्ता किसी भी कीमत पर मंजूर नहीं था। शमीर ने जैसे -तैसे मिर्ज़ा को गाँव दानाबाद भेज दिया और साहिबा शादी कही अन्यत्र तय कर दी। जब इस बात का पता मिर्ज़ा को लगा तब उसने जोश में आकर अपना घोड़ा तैयार कर लिया और निकल पड़ा मिर्ज़ा साहिबा को भगाने में कामयाब रहा। रास्ते में एक जगह वे आराम के लिए रुके। पेड़ की छावं में वह कुछ देर के लिए सो गया। इस बीच साहिबा ने अपने भाईओं को बचाने के लिए मिर्ज़ा के तीर तोड़ दिए। दरअसल वह मिर्ज़ा के ताकत को जानती थी। कि इन तीरों के बीच उनके भाई नहीं टिक पाएंगे। दूसरी तरफ उसे विश्वास था कि वह अपने भाइयों को मना लेगी। कुछ ही देर बाद मिर्ज़ा को घेर लिया गया। मिर्ज़ा अपने तीर खोजता रहा पर उसके सारे तीर तो साहिबा ने तोड़ डाले थे। मिर्ज़ा समझ चुका कि यह सब साहिबा ने किया है। मिर्ज़ा को घात उतार दिया गया। साहिबा मिर्ज़ा के मौत को बर्दाश्त नहीं कर सकीय और उसने खुद को मार लिया। साहिबा बेवफा तो बिलकुल नहीं थी उसे मिर्ज़ा और अपने भाइयों से बेइन्तिहाँ प्यार था और वह सही और गलत का निर्णय नहीं कर पाई।

मैं आशा करता हूँ की आपको ये story आपको अच्छी लगी होगी। कृपया इसे अपने दोस्तों और रिश्तेदारों के साथ फेसबुक और व्हाट्स ऍप पर ज्यादा से ज्यादा शेयर करें। धन्यवाद्। ऐसी ही और कहानियों के लिए देसिकहानियाँ वेबसाइट पर घंटी का चिन्ह दबा कर सब्सक्राइब करें।

Tags-Famous Love stories of the world in hindi language, true love story in hindi in short, true sad love story in hindi language, hindi love story in short love, love story novel in hindi language, romantic love stories in hindi language

80%
Awesome
  • Design
loading...
You might also like