ga('send', 'pageview');
Articles Hub

निडर जॉन-fearless john a new short inspirational story of john

fearless john a new short inspirational story of john,inspirational story in hindi,inspirational story in hindi for students, motivational stories in hindi for employees, best inspirational story in hindi, motivational stories in hindi language
जॉन बहुत ही निडर लड़का था। एक बार वह दुनिया देखने निकल पड़ा। रास्ते में एक सराय में उसने ठहरने लिए जगह मांगी। सराय मालिक ने कहा आज तो कोई भी कमरा खाली नहीं है। अगर तुम्हे डर ना लगे तो एक ऐसी जगह बता सकता हूँ जहां तुम आराम से रह सकते हो। नहीं मुझे डर नहीं लगता ,तुम जगह बताओ ,जॉन ने कहा। पर जो भी वहाँ गया ज़िंदा वापस नहीं आया। सुबह फ्रायर्स केवल लाश लाने जाते हैं। जॉन नहीं माना और सीधे उस महल की तरफ चल दिया। आधी रात को जब वह खाना खा रहा था तभ एक आवाज़ सुनी। क्या मैं इसे नीचे फेंक दूँ ? हाँ फेंक दो। तभी अंगीठी के ऊपर से आदमी की एक टांग गिरी। कुछ देर बाद फिर से एक आवाज़ आई -क्या इसे नीचे फेंक दूँ ?हाँ ,हाँ फेंक दो। आखिरकार वहाँ दो हाथ और दो टांगें गिरे। फिर एक धड़। जैसे ही धड़ गिरा दोनों हाथ और पैर स्वतः जुड़ गए। और वहाँ एक बिना सिरवाला आदमी खड़ा हो गया। फिर एक आवाज़ आई -क्या मैं इसे भी नीचे फेंक दूँ। हाँ ,इसे भी फेंक दो -जॉन ने निडर होकर कहा। सर नीचे गिरा और धड़ से मिलकर एक बड़ा सा आदमी बन गया। बड़े साइज वाले आदमी ने कहा -लैंप उठाओ और मेरे साथ आओ। तुम आगे चलो। नहीं तुम आगे चलो ,जॉन ने कहा। मैं कहता हूँ आगे चलो। अब जॉन ने गुस्से में कहा -तुम आगे चलो और रास्ता दिखाओ। तुम मर गए हो। यह कहते हुए दूसरी बांह भी उड़ गई। क्या पता कि तुम मुझे किधर ले जाना चाहते हो। बड़े साइज वाला आदमी आगे -आगे चल दिया। एक सीढ़ी मिली उसने जॉन से खोलने को कहा। तुम खोलो -जॉन ने कहा। सीढ़ियां उतरकर वे एक तहखाने में पहुंचे। वहाँ एक पत्थर का टुकड़ा रखा था। इसे उठाओ। पहले तुम उठाओ। उस आदमी ने उस पत्थर को ऐसे उठाया जैसे वह कोई पत्थर के गोली को उठा रहा हो। पत्थर के नीचे तीन सोने के बर्तन रखे थे। इन बर्तनो को ऊपर लेकर चलो। तुम लेकर चलो। उस आदमी ने तीनो बर्तन उठाये और उसी कमरे में वापस आ गए।
और भी प्रेरक कहना पढ़ना ना भूलें==>
पुरानी रसीद सेठजी का ईंट-old receipt a new short inspirational story in hindi Language
अभिमान-Proud a new short inspirational story in hindi of a father
दुश्मन कैसे बनते हैं-How enemies are made a new small article about life
fearless john a new short inspirational story of john,inspirational story in hindi,inspirational story in hindi for students, motivational stories in hindi for employees, best inspirational story in hindi, motivational stories in hindi language

अंगीठी लगी हुई थी। अब इसका जादू टूट गया -आदमी बोला। उसने एक टांग निकाली जो चिमनी से बाहर उड़ गई। वह बोला इनमे से एक बर्तन तुम्हारा है। फिर उसकी एक बाँह निकली और चिमनी से होते हुए उड़ गई। यह दूसरा बर्तन उन फ्रायर्स के लिए है जो तुम्हारे मरे हुए शरीर को लेने आएंगे कि तुम मर चुके हो। वह आदमी अब धड़ पर केवल बैठा था , यह महल तुम्हारा है आराम से रहो यह कहकर धड़ भी सर से अलग होकर चला गया। सर भी थोड़ी देर बाद चला गया। सुबह शोर मचा हुआ था। लोग सोच रहे थे कि जॉनः मर चुका होगा। वे लोग उसके मरे हुए शरीर को ले जाने के लिए एक ताबूत लेकर आये थे। जॉनः को खिड़की परप पाइप पीते हुए देखकर लोग आश्चर्य में पड़ गए जॉन उस महल में बहुत साल तक रहा। और उस सोने का इस्तेमाल करता रहा। एक दिन उसने अपनी परछाई देख ली उसे देखकर इतना डर गया कि वह मर गया। रश्क है तुमसे -अपनी वफ़ा का क्या सबूत दूँ –छेद था तेरी कश्ती में ,फिर भी सफर से इंकार नहीं किया। —तरक्की के इस दौर में ,हम इतने आगे निकल चुके हैं कि हाथ में पकड़े मोबाइल की अहमियत ,हमारे पास बैठे इंसान से भी ज्यादे हो गई है।

मैं आशा करता हूँ की आपको ये story आपको अच्छी लगी होगी। कृपया इसे अपने दोस्तों और रिश्तेदारों के साथ फेसबुक और व्हाट्स ऍप पर ज्यादा से ज्यादा शेयर करें। धन्यवाद्। ऐसी ही और कहानियों के लिए देसिकहानियाँ वेबसाइट पर घंटी का चिन्ह दबा कर सब्सक्राइब करें।

Tags-fearless john a new short inspirational story of john,inspirational story in hindi,inspirational story in hindi for students, motivational stories in hindi for employees, best inspirational story in hindi, motivational stories in hindi language

80%
Awesome
  • Design
loading...
You might also like