ga('send', 'pageview');
Articles Hub

प्रेत-Ghost a new short horror story of the month in hindi language

Ghost a new short horror story of the month in hindi language
Ghost a new short horror story of the month in hindi language,ghost story in hindi language,ghost story in hindi pdf,ghost story in hindi with moral,ghost story in hindi online,ghost story novel in hindi,true love ghost story in hindi,ghost story in hindi new
कौन है ?संतरी ने आवाज़ दी। यह मैं हूँ ,एक कांपती बूढी आवाज़ ने जवाब दिया। मैं कौन ? -एक राहगीर। राहगीर से तुम्हारा क्या मतलब ? रात में कब्रगाह में किसलिए घूम रहे हो ? ओह मेरे भाई ,मुझे कुछ दिखाई नहीं देता अन्धेरा भी कितना गहरा है क्या कब्रगाह है ? ;’नहीं तो और क्या है ? संतरी ने चिल्लाकर कहा। –तुम कौन हो ? ‘एक घुमन्तु तीर्थ यात्री। ‘ –;बहुत अच्छे ,दिन में पीते हो और रात में कब्रगाह घूमते हो ,बुरा हो तुम्हारा। बूढ़े की खांसने की आवाज़ सुनकर संतरी का संसय दूर हो गया। तुम अकेले नहीं ,क्या तुम्हारे साथ दो -तीन लोग हैं ?’ एकदम अकेला मेरे भाई। ईश्वर हम पर दया करे। तुम अंदर कैसे आये ,क्या बाड़ फांदकर ? मैं रास्ता भूल गया ,मुझे मित्री के चक्की पर जाना है। बेवकूफ ,तुमने फिजूल का तीन मील का चक्कर लगाया। लगता है तुम पिए हुए हो। बिलकुल ,अब किस रास्ते जाना है ? दीवार के साथ सीढ़ी नाक की सीध में जाना। हाई रोड पर पहुंचो वहाँ से सीधे मित्री के घर पहुँच जाओगे। मेरे साथ चलोगे .? मेरे पास समय नहीं है। अगर साथ चला जाऊं तो नौकरी से निकाल दिया जाऊंगा . मुझे दिखाई नहीं देता ,प्रेम की खातिर साथ चलोगे। सिरदर्द ,अच्छा चलो। दोनों साथ -साथ चलने लगे। बर्फानी हवा का झोंका चल रहा था पेड़ों की सरसराहट , बड़ी -बड़ी बूंदों से दोनों भींगने लगे। एक बात बताओ गेट पर ताला जड़ा है तुम अंदर कैसे ायवे ? मुझ पर शैतान सवार था। ईश्वर ने मुझे सज़ा दी। तुम तो दयालु संतरी हो। पूरी कब्रगाह की चौकसी करते हो ? नहीं हम तीन लोग हैं। एक बीमार है। दूसरा सो रहा है। हम बारी -बारी से ड्यूटी देते हैं। संतरी पाइप जलाने के लिए रूका। तीली की रोशनी में एक कब्र का सफ़ेद पत्थर उस पर उकेरा हुआ एक देवदूत और एक काला क्रॉस दिखा। हमारे प्रियजन गहरी नींद में सो रहे हैं। अमीर ,गरीब। मुर्ख ,बुद्धिमान सब चैन से सो रहे हैं। तुरही बजाने के बाद सब स्वर्ग जाएंगे। अभी तो हम चल रहे हैं ,समय आने पर हम भी कब्र में लेते रहेंगे। हम सभी पापी हैं। हमारे कर्म बुरे हैं तुम्हे भी एक दिन मरना पडेगा . मैं नहीं जानता। तीर्थयात्री दो तरह के होते हैं पहला ईश्वर से डरनेवाला जो अपनी आत्मा की फ़िक्र करते हैं दूसरे ऐसे जो मौक़ा मिलाने पर तुम्हारे सिर पर कुल्हाड़ी भी चला सकते हैं। ऐसी डरावनी बातें क्यों सुनाते हो ? गेट आ गया है। ताला खोलो। उसने अजनबी को बाँह पकड़कर बाहर निकाला। कब्रगाह ख़त्म। अब मुख्य सड़क पर चलते रहो जब तक मित्री की चक्की ना आ जय। प्यारे भाई. अब मित्री के चक्की पर नहीं जाना मैं तुम्हारे साथ कुछ देर रुकूंगा . किसलिए ? तुम्हारे साथ आनंद आ रहा है। तुम मुझे याद रखोगे ? किसलिए याद रखूंगा संतरी ने पूछा। क्योंकि मैंने तुम्हे बड़ी चालाकी से बन्दर बनाया। तुम कौन हो ? एक प्रेत ,अभी -अभी कब्र से निकला हूँ गुलारोव को याद करो ,नल जोड़नेवाला मिस्त्री ,जिसने फांसी लगा ली थी। मैं उसी का प्रेत हूँ। संतरी डर गया वह पीछे भागने लगा। कहाँ भाग रहे हो। ? रुको तुम मुझे अकेला नहीं छोड़ सकते। मुझे जाने दो ,संतरी गिड़गिड़ाया। चुपचाप खड़े रह कुत्ते मैं खून नहीं बहाना चाहता। वरना मैं कभी का तुम्हारा काम तमाम कर देता।
और भी डरावनी कहानियां पढ़ना ना भूलें=>
भूत बंगले में एक रात-A night in a haunted house a new short scary story in hindi language
भुतहा ट्रैन-haunted train a new short horror story in hindi language

प्रेतात्मा का प्रतिशोध-Revenge of a ghost a new horror story in hindi language
Ghost a new short horror story of the month in hindi language,ghost story in hindi language,ghost story in hindi pdf,ghost story in hindi with moral,ghost story in hindi online,ghost story novel in hindi,true love ghost story in hindi,ghost story in hindi new
कुछ पल गुजरे संतरी भय से काँप रहा था। तभी एक जफील की आवाज सुनाई दी। और वह संतरी को छोड़ गेट की तरफ भागा। क्या तुम त्रिकोण हो ,मितका कहाँ है ? संतरी मुख्य सड़क से काफी दूर निकल चुका था। अँधेरे में एक रौशनी देखि। शायद चर्च के अंदर की रोशनी है। उसने सोचा मरियम मुझे माफ़ करे। पूजा गृह में एक टूटा हुआ बक्सा औंधा पड़ा था। टेबल के पास अनगिनत पैरों के निशान थे कुछ मिनट गुजरे ,फिर चर्च में खतरे की घंटी बाज़ उठी। जिसे हहराती हवा कब्रगाह के पार ले गई। और चलते -चलते -शादी के बाद अगर आप खुश नहीं हैं तो बुढ़ापा जल्दी आता है। और अगर आप खुश है तो मोटापा ,इसलिए हप्ते में दो बार जरूर लड़ें –कभी ख़ुशी ,कभी गम।

मैं आशा करता हूँ की आपको ये story आपको अच्छी लगी होगी। कृपया इसे अपने दोस्तों और रिश्तेदारों के साथ फेसबुक और व्हाट्स ऍप पर ज्यादा से ज्यादा शेयर करें। धन्यवाद्। ऐसी ही और कहानियों के लिए देसिकहानियाँ वेबसाइट पर घंटी का चिन्ह दबा कर सब्सक्राइब करें।

Tags-Ghost a new short horror story of the month in hindi language,ghost story in hindi language,ghost story in hindi pdf,ghost story in hindi with moral,ghost story in hindi online,ghost story novel in hindi,true love ghost story in hindi,ghost story in hindi new

80%
Awesome
  • Design
loading...
You might also like