Articles Hub

an amazing motivational story in hindi language-लोमड़ी की ईमानदारी

an amazing motivational story in hindi language

hindi language,hindi motivational story in hindi,moral stories in hindi with pictures,motivational story in hindi,positive thinking in hindi story,प्रेरक कहानियां,हिंदी प्रेरक कहानी,

हम हर दिन एक से बढ़कर एक प्रेरणादायक कहानिया प्रकाशित करते हैं। इसी कड़ी में हम आज “लोमड़ी की ईमानदारी, प्रेरक कहानी ” an amazing motivational story in hindi language प्रकाशित कर रहे हैं। आशा है ये आपको अच्छी लगेगी।
लेखक- असफाक

बड़ी सी झील के पास एक छोटा सा जंगल हुआ करता था, उस जंगल में एक लोमड़ी बहुत ज्यादा गरीब थी. वो कभी कभी भूंखे पेट ही सो जाती, वो जो कमाती थी, उससे तो उसके परिवार का एक टाइम का खाना भी ठीक से नहीं हो पाता था. कभी कभी तो वो आत्महत्या के बारे में भी सोंचती. लेकिन जब वो अपने परिवार को देखती तो सब कुछ भूल जाती. गरीब लोमड़ी जो भी कुछ कमाती उसे पहले अपने परिवार का पेट भर्ती उसके बाद अगर कुछ बचता तो वो खाती, लेकिन कुछ भी नहीं बचता था, कभी कभार कुछ बच गया तो वो खा लेती थी. एक बार हुआ एसा कि वो कई दिनों से भूखी थी, और वो एक बड़े से पेड़ के नीचे बैठी थी, और भगवान से अपनी हाताल की शिकायत कर रही थी, तभी उसकी नजर कुछ दूर पर गई, जहाँ एक भालू बेहोश पड़ा था, और उसके पास एक थयला भी था, जैसे ही लोमड़ी ने उस थयला को खोला तो उसकी आँखे फटी की फटी रह गई, उस थयला में ढेर सारे पैसे थे, इतने पैसे थे कि लोमड़ी की पूरी जिन्दगी आराम से गुजर जाती, लेकिन लोमड़ी बहुत ज्यादा इमानदार थी, वो सिर्फ मेहनत की ही कमाई खाती थी, इसलिय लोमड़ी जल्दी से उसके पास भागती हुई गई और उसे होश में लाया,

hindi language,hindi motivational story in hindi,moral stories in hindi with pictures,motivational story in hindi,positive thinking in hindi story,प्रेरक कहानियां,हिंदी प्रेरक कहानी,

भालू को जब होश आया तो देखा कि उसके पास एक लोमड़ी बैठी हुई है, जैसे ही भालू को अपने थयला की याद आई वो झट से उठ कर बैठ गया और अपने थयला को ढूढने लगा. लोमड़ी से उसे वो थयला दे दिया, जब भालू से उसे खोला तो उसमें पुरे पैसे थे, जब भालू से लोमड़ी से पूंछा कि तुम चाहती तो इस थयला को लेकर जा सकती थी और आराम की जिन्दगी जी सकती है, पर तुमने ऐसा क्यों नहीं किया, लोमड़ी ने बोला, मैं सिर्फ मेहनत की ही कमाई खाती हूँ, भालू लोमड़ी की इमानदार का दीवाना हो गया और उसने उसे कुछ पैसे देने चाहे, लेकिन लोमड़ी ने मना कर दिया.

लोमड़ी ने बोला मैं ये पैसे नहीं ले सकती, मैंने सिर्फ अपना फर्ज निभाया है, भालू को लोमड़ी की आर्थिक स्थिति का पता चल जाता है और उसकी इमानदार भी उसे भा जाती है, इसलिए भालू उस लिमडी को अपने घर में काम पर रख लेता है, कुछ सालों के बाद अपनी कुछ ज्यदाद उस लोमड़ी के नाम भी कर देता है.


और भी an an amazing motivational story in hindi language के लिए लिंक्स पर क्लिक करें

एक अंधे की प्रेरणादायक कहानी
एक खास बैंक खाता
अकबर बीरबल और सोने का खेत
एक दयालु लड़के की प्रेरक कहानीhindi language,hindi motivational story in hindi,moral stories in hindi with pictures,motivational story in hindi,positive thinking in hindi story,प्रेरक कहानियां,हिंदी प्रेरक कहानी,

कहानी से सीख: ईमानदारी का फल एक दिन जरुर मिलता है.

आशा है कि an amazing motivational story in hindi language आपको अच्छी लगी होगी। कृपया इसे अपने दोस्तों और रिश्तेदारों के साथ फेसबुक और व्हाट्स ऍप पर ज्यादा से ज्यादा शेयर करें। धन्यवाद्। ऐसी ही और कहानियों के लिए देसिकहानियाँ वेबसाइट पर घंटी का चिन्ह दबा कर सब्सक्राइब करें। इस कहानी का सर्वाधिकार मेरे पास सुरक्छित है। इसे किसी भी प्रकार से कॉपी करना दंडनीय होगा

an amazing motivational story in hindi language

80%
Awesome
  • Design
loading...
You might also like