Articles Hub

पड़ोस वाली दादी के भूत ने सबको किया परेशान-horror story hindi all


पड़ोस वाली दादी के भुत ने सबको किया परेशान
देहरादून के पास के एक गाँव में बहुत पुरानी एक कहानी प्रचलित थी. गाँव के बुजुर्ग अक्सर कहते थे कि ज्यादा रात तक घर के बाहर न निकला करो वरना आशा ताई का भुत आ जायेगा. जब हम छोटे थे, उनकी बातों पर हंसा करते थे, लेकिन जब बड़े हुए तो हम भी सब से यही बोलने लगे. क्योंकि हमारा भी आशा ताई के भुत से सामना हो चूका था.

बहुत से लोग बताते हैं कि गाँव में एक आशा नाम की बुढ़िया रहती थी, जिसका इस दुनिया में सिवाए एक पोतो के कोई नहीं था. वो अपने पोते से बेहद प्यार करती थी. एक दिन उसका पोता किसी काम से शहर गया हुआ था, लेकिन फिर वो वासप न आया, सुबह गाँव के बाहर उसके पोते का शव पड़ा मिला था. आशा ताई ये सदमा बर्दास्त न कर पाई और उसकी वहीँ जान निकल गई.
इस हादसे के बाद से आशा ताई गाँव वालों को रात के समय दिखाई देने लगाई, दरअसल रात में वो अपने पोते के कातिलों को ढूढ़ती रहती है. गाँव के कुछ लोग बताते हैं कि किसी ने उसके पोते को मार दिया था.


पहले मैं इन सब बातों पर यकीन नहीं करता था, एक दिन मैं शहर इंटरव्यू देने गया था. वापस गाँव लौटने में मुझे रात हो गई. डर तो लग रहा था, लेकिन घर भी जाना जरुरी था. मैं रात को ही अपने गाँव जाने लगा, जैसे ही मैंने गाँव में कदम रखा, मुझे लगा कि जैसे कोई मेरे पीछे पीछे चल रहा है. जैसे ही मैंने पीछे मुड़ कर देखा तो वहां कोई भी दिखाई न दिया. जब मैंने तीसरी बार पीछे मुड़ कर देखा तो मेरे हाँथ पैर सुन हो गए और डर के मारे मेरे मुहं से आवाज नहीं निकल पा रही थी. मेरे सामने और कोई नहीं एक बेहद डरावनी बुढ़िया खाड़ी थी, जिसके हाँथ में खून से सना हुआ हंसिया था. और उसके सफ़ेद बाद भी खून से सने हुए थे. उसकी लाल-लाल बड़ी-बड़ी आंखे देखें में दिल दहला दे रही थीं.
और भी डरावनी कहानियां पढ़ना ना भूलें=>
एक खौफनाक आकृति का डरावना रहस्य
लड़की की लाश का भयानक कहर
पुराने हवेली के भूत का आतंक

उड़ते हुए वो मेरे पास आई और बोली, तू ने ही मेरे पोतो ने मारा था, सच सच बता, नहीं तो तुझे भी जान से मार दूंगी. उसकी आवाज भी बेहद डरावनी थी. मेरे मुहं से तो आवाज ही नहीं निकल रही थी. डर के मारे मेरे दिल की धडकन तेज़ हो गई थी. मैं इतना ज्यादा डर गया था कि वहीं बेहोश हो गया.
इसके बाद का मुझे कुछ भी याद नहीं, जब मुझे होश आया तो मैं अपने घर के बाहर वाले चबुतरे पर लेटा हुआ था और आस पास गाँव के लोग खड़े हुए थे. अपने आप को जिन्दा देख कर मुझे ख़ुशी हुई, लेकिन मैंने किसी को भी रात वाले डरावने हादसे के बारे में नहीं बताया. लेकिन लोगों को यही बोलता हूँ कि रात के समय घर के बाहर मत निकलना.
मैं आशा करता हूँ की आपको ये कहानी आपको अच्छी लगी होगी। कृपया इसे अपने दोस्तों और रिश्तेदारों के साथ फेसबुक और व्हाट्स ऍप पर ज्यादा से ज्यादा शेयर करें। धन्यवाद्। ऐसी ही और कहानियों के लिए देसिकहानियाँ वेबसाइट पर घंटी का चिन्ह दबा कर सब्सक्राइब करें।

Tags-horror story hindi all,ghost story in hindi language,ghost story in hindi pdf,ghost story in hindi with moral,ghost story in hindi online,ghost story novel in hindi,true love ghost story in hindi,ghost story in hindi new

80%
Awesome
  • Design
loading...
You might also like