Articles Hub

बंगलो में लगे पीपल के पेड़ का दिल दहला देने वाला रहस्य-horror story in hindi for child

हम एक से बढ़कर एक डरावनी कहानियां प्रकाशित करते हैं। पेश है इसी कड़ी में आज हम “बंगलो में लगे पीपल के पेड़ का दिल दहला देने वाला रहस्य” horror story in hindi for child प्रकाशित कर रहे हैं . आशा है आपको ये कहानी पसंद आएगी.


बंगलो में लगे पीपल के पेड़ का दिल दहला देने वाला रहस्य
भारत एक गाँव प्रधान देश है, यहाँ शहरों से ज्यादा गाँव हैं, और गाँव में पेड़ भी अच्छे लगे रहते हैं. जो गाँव के जमींदार होते हैं, वो बहुत ज्यादा राईस होते हैं. उनके पास जितना पैसा होता है, जो शायद शहर के लोगों के पास भी न होता होगा. उनके घर भी हवेली की तरह होते हैं, आलीशान, घर के सामने बड़ा सा गार्डन, उसमें बड़े और छोटे सभी किशम के पेड़ भी होते हैं. कुछ तो बड़े सुन्दर होते हैं, लेकिन कुछ बड़े ही डरावने भी दिखते हैं. मेरा सामना एक बड़े ही डरावने पेड़ से हुआ था, जो देखने में बड़ा आजीब सा था.
दरअसल, मैं एक सरकारी नौकरी में था और मेरा ट्रांसफ़र एक गाँव में हो गया था, सरकार की तरफ से मुझे सरकारी बंगला नहीं मिला था, इस वजह से मुझे किराये से एक बंगले में रहने की व्यवस्था की गई थी. घर देखने में तो बेहद खुबसुरत था, घर के सामने एक बड़ा सा बगीचा भी था, जिसमें तरह तरह के पेड़ लगे हुए थे, लेकिन उनमे से एक बड़ा सा पीपल का पढ़ लगा हुआ था, जो देखने में आजीब था, जब भी मैं उस पेड़ को देखता तो मुझे अजीब सी बेचैनी लगती. कभी कभी तो वो पेड़ बड़ा ही डरावना भी दिखाता था.


कई बार मैंने मकान मालिक से उस पेड़ को कटवाने की बात करता, लेकिन वो बात को टाल देते, एक बात मैंने जरुर गौर की थी, जब भी मैंने उनसे उस डरावने पीपल के पेड़ की बात करता, वो सहम जाते और उनकी आँखों में एक अजीब सा डर दिखाई देता.
एक दिन मेरे साथ एक बड़ा ही भयानक हादसा हुआ, रविवार का दिन था, मैंने सोंचा क्यों न इस पेड़ को थोड़ा छांट दिया जाए. सुबह मैंने एक पेड़ काटने वाले को बुलाया, वो आ भी गया और उस पेड़ की बड़ी बड़ी डगाल को काटने लगा. आचानक से उसकी तबियत ख़राब हो गई और काम अधूरा छोड़ कर चला गया. अब रविवार का दिन था मैं भी थोड़ा घुमने निकल गया.
घर लौटने में मुझे रात हो गई, और इतेफाक से लाइट भी उस समय गोल हो गई थी. चारों तरफ अँधेरा ही अँधेरा छाया हुआ था. मोबाइल की टॉर्च से मैं किसी तरह घर तक तो पहुँच गया और ताला खोलने लगा. इतने में लाइट आ गई, जैसे ही मेरी नजर सामने पड़ी मेरे मुहं से तेज़ी के साथ चीख निकल गई, मेरे सामने एक बेहद डरावनी औरत बैठी हुई थी, उसके सफ़ेद बाद, बड़ी बड़ी आंखे, लंबे लंबे कान, सफ़ेद साड़ी में वो मेरी कुर्सी में बैठी हुई थी,
और भी डरावनी कहानियां पढ़ना ना भूलें=>
एक खौफनाक आकृति का डरावना रहस्य
लड़की की लाश का भयानक कहर
पुराने हवेली के भूत का आतंक

वो कुर्सी में बैठे बैठे मेरे पास आ गई और मुझे अपने पैरों के नीचे गिरा दिया. वो मुझसे कह रही थी कि. क्यों मैंने उस पेड़ की डगालें कटवाया, अब वो मेरे हांथों को काटे गी, मैंने खूब मांफी मांगी, तब कहीं जा कर उसनें मुझे छोड़ा और आखरी चेतावनी भी दी कि अगर मैंने उस पेड़ को कटवाने के बारे में सपने में भी सोंचा तो मुझे बहुत बुरी मौत मारेगी.
इस हादसे के बाद से मैं सहम गया था और अगले ही दिन उस घर को खाली भी कर दिया और बहुत जल्द उस गाँव को भी छोड़ दिया.
मैं आशा करता हूँ की आपको ये कहानी आपको अच्छी लगी होगी। कृपया इसे अपने दोस्तों और रिश्तेदारों के साथ फेसबुक और व्हाट्स ऍप पर ज्यादा से ज्यादा शेयर करें। धन्यवाद्। ऐसी ही और कहानियों के लिए देसिकहानियाँ वेबसाइट पर घंटी का चिन्ह दबा कर सब्सक्राइब करें।
Tags-horror story in hindi for child,ghost story in hindi language,ghost story in hindi pdf,ghost story in hindi with moral,ghost story in hindi online,ghost story novel in hindi,true love ghost story in hindi,ghost story in hindi new

80%
Awesome
  • Design
loading...
You might also like