Articles Hub

एक भूतहा किताब की खौफनाक कहानी-horror story in hindi in short

horror story in hindi in short

हम एक से बढ़कर एक डरावनी कहानियां प्रकाशित करते हैं। पेश है इसी कड़ी में आज हम “एक भूतहा किताब की खौफनाक कहानी” horror story in hindi in short प्रकाशित कर रहे हैं. आशा है आपको ये कहानी पसंद आएगी.

horror story in hindi in short,House Horror Story In  Hindi, a ghost story, ghost story real in hindi, a real horror story in hindi language,best horror story in hindi,real ghost stories in hindi pdf,ghost story in hindi for child,short spirit story in hindi

कई साल पहले की बात है, एक गाँव में बहुत ही पुरानी कोठी थी, जिसमें एक जादूगर रहा करता था. जब अंग्रेज भारत आये, तब किसी वारदात में अंग्रजों से उस जादूगर को मार दिया था. तब से वो कोठी वैसी की वैसी ही रही. गाँव के कुछ बुजुर्ग लोग बताते हैं, कि उस कोठी में अंग्रेज भी टिक नहीं पाए थे, जो भी उस कोठी में रहने जाता या तो में मर जाता या पागल हो जाता, कई बाबाओं और संतों को भी बुलाया गया, लेकिन कोई बात नहीं बनी, तब से ये कोठी वैसे की वैसे ही पड़ी हुई है.
गाँव के लोग भी उसके पास जाने से डरते थे, लेकिन जो निडर रहते थे वो कभी कभी दिन के समय वहां चले जाते थे. वो कोठी पूरी तरह से खंडहर हो चुकी थी. अंगेजों से उस कोठी में आग लगा दी थी, जिससे अन्दर का सारा सामान जल चूका था. अब वहां कुछ भी नहीं था. गाँव में एक कवि रहते थे, वो निडर थे. दरअसल उनको अपने खेत में मिटटी डालना था, लेकिनं कोई भी उन्हें मिटटी नहीं दे रहा था, तब उन्होंने सोंचा की क्यों न उस कोठी से मिटटी खोद लिया जाये,
जब वो वहां खुदाई कर रहे थे, तब उन्हें एक छोटा सा बक्शा मिला, वो खुश हो गए, उन्हें लगा कि उसमें खजाना होगा, लेकिन जब उसे खोला गया तो उस बख्से से कुछ कपड़े और एक किताब निकली, जिसमें कई सारी कविता लिखी हुई थीं. किताब को मैंने अपने पास रख लिया और कपड़ों को वापस से उसी गड्ढे में डाल दिया.
शाम को जब मैं फुर्सत हुआ तो गाँव वालो को इस बारे में बताया, और फिर अपने घर चला गया, आराम से बैठ कर मैं उस किताब की कविता को पढने लगा, लेकिन जैसे ही मैंने उस किताब की दो से तीन कविता पढ़ी मेरी तबियत ख़राब होने लगी. मुझे तेज़ भुखर आने लगा, मैंने उस किताब को बंद कर दिया और अपने आप कुछ घंटों के बाद मैं पूरी तरह से ठीक हो गया. जब फिर से मैं उस किताब को पढ़ना शुरू किया फिर से मेरे साथ वहीं घटना होने लगी, इस बार मेरी एक छोटी बेठी भी बीमार हो गई,
horror story in hindi in short,House Horror Story In  Hindi, a ghost story, ghost story real in hindi, a real horror story in hindi language,best horror story in hindi,real ghost stories in hindi pdf,ghost story in hindi for child,short spirit story in hindi
मैंने अपने दुसरे कवि मित्रों को इस बारे में बताया, उन्होंने भी इस अनुभव को महसुस किया. किसी को कुछ समझ में नही आ रह था, और तो और जब भी उस किताब को खोलते तो उससे खून टपकने लगता, मैंने उस किताब को वापस से वहीं गाड़ किया जहाँ से वो मुझे मिली थी. लेकिन अपने आप वो वापस से मेरे पास आ जाती. गाँव के बहार एक बहुत ही बड़े बाबा रहते थे, मैंने उनसे इस बारे में बात कि तो उन्होंने बोला कि ये कोई मामूली किताब नहीं, ये भुतही कविता की किताब है, ये किताब अब तुम्हारा पीछा नहीं छोड़ेगी. लेकिन बाबा से कई दिनों तक पूजा पाठ की तब जा कर मुझे उस डरावनी किताब से छुटकारा मिला.
मैं आशा करता हूँ की आपको ये खबर आपको अच्छी लगी होगी। कृपया इसे अपने दोस्तों और रिश्तेदारों के साथ फेसबुक और व्हाट्स ऍप पर ज्यादा से ज्यादा शेयर करें। धन्यवाद्। ऐसी ही और कहानियों के लिए देसिकहानियाँ वेबसाइट पर घंटी का चिन्ह दबा कर सब्सक्राइब करें।
और भी डरावनी कहानियां पढ़ें==>
एक अनजान हवेली का रहस्य
डरावना साया
भटकती आत्मा की खौफनाक कहानी
डरावने किले की भयंकर भूत

horror story in hindi in short

Tags-horror story in hindi in short,House Horror Story In Hindi, a ghost story, ghost story real in hindi, a real horror story in hindi language,best horror story in hindi,real ghost stories in hindi pdf,ghost story in hindi for child,short spirit story in hindi

80%
Awesome
  • Design
loading...
You might also like
moviexw | munir khan | Sarosh khan | where can i get stamp | Nashir shafi mir