Articles Hub

जीवन की आखिरी रात का कहर – horror story in india

horror story in india

horror story in india, horror story in hindi indian,horror story in hindi, real life horror story in hindi language, real spirit stories in hindi language, indian ghost stories in hindi, real horror story in hindi, भूत की कहानियां

देसिकहानियाँ में हम एक से बढ़कर एक डरावनी और खौफनाक कहानियां प्रकाशित करते हैं।पेश है इसी कड़ी में “जीवन की आखिरी रात का कहर” horror story in india । आशा है,ये आपको पसंद आएगी।
लेखक-अशफ़ाक़

“मुकेश-मुकेश” किसी ने मुझे आवाज दी, लेकिन जैसे ही मैंने पीछे मुड़ कर देखा, तो वहां कोई भी नहीं था.कई बार मुझे ऐसा ही लगता है, जब से मैं दुसरे शहर आया हूँ. जब से इस शहर में मैंने कदम रखा है. मेरे साथ कुछ अजीब-अजीब की घटनाएँ हो रही हैं. हद तो तब हो गई, एक दिन मैं मार्केट में घूम रहा था, तभी एक पागल औरत मेरे सामने आई और मुझे देख कर हंसने लगी. इसके अलावा वो मुझे मारने भी लगी, जैसे तैसे मैं उससे बच कर भागा.
एक दिन मैं शहर के बाहर किसी काम से गया, तो देखा एक बड़े से पीपल के पेड़ के नीचे बहुत बड़े संत बैठे हुए थे. मैंने उने अपनी परेशानी बताई, कुछ देर चुप रहने के बाद उन्होंने बहुत ही गंभीर शब्दों में कहा कि, अगली अमावश्य की रात तुम्हारे जीवन की आखरी रात हो सकती है. इस दिन तुम्हारे उपर कई बड़े हमले होंगे, अगर तुम बच गए तो फिर कभी भी कोई परेशान नहीं करेगा.

ये सुनकर को मेरे पैरों तले जमीन ही खिसक गई. मैंने इससे बचने का रास्ता पूंछा तो उन्होंने कहा कि मैंने कोशिश करूंगा. लेकिन वादा नहीं कर सकता. जब वहां से जा रहा था, तो मेरे दिमाग में अमावस्या की रात के बारे में चल रहा था कि मेरे साथ क्या होगा. आखरकार वो रात आ ही गई, जो मेरे जीवन की आखरी रात हो सकती थी. मैं दिन से ही आपने आपको एक कमरे में बंद कर लिया था. साथ में घर के बाहर चौकीदार ही खड़ा कर दिया, लेकिन मुझे क्या मालूम था कि भुत-प्रेत आत्मा को कोई भी कहीं जाने से रोक नहीं सकता. मैं आराम से कमरे में बैठ कर चला रहा था, तभी आचानक मेरे फ़ोन से खून की बुँदे नजर आने लगी. झटके से फ़ोन को नीचे फेंक दिया, फिर फर्श पर खून की बुँदे ऊपर से टपक रही थीं. जैसे ही मैंने उपर की ओर देखा तो मेरे दिल की धक्काने की रुक गईं, छात की सीलिंग में एक बहुत ही आजीब सा जीव चिपका हुआ था, देखने ये कुछ-कुछ इंसानों की तरह दिख रहा था, उसकी के मुहं से खून टपक रहा था. आचानक से वो मेरे उपर की ओर कूद गया, मैं जान बचाने के लिए कमरे के दरवाजे की ओर भागा, लेकिन दरवाजा लौक हो गया. मैं दरवाजे के पास खड़ा हुआ था, और वो खतरनाक इन्सान मेरे सामने खड़ा हुआ था, मुझे समझ में नहीं आ रह था कि इतना बड़ा ये मेरे रूम के कैसे अन्दर आ गया.  उसके बड़े बड़े हाँथ, लम्बे-लम्बे नाख़ून, नाख़ून से टपक रहा खून, लाल-लाल बड़ी-बड़ी आंखे, आजीब से पैर, बहुत ज्यादा डरावने थे, मुझे कुछ समझ में नहीं आ रह था कि अब क्या करें, उसने अपने बड़े-बड़े नाखूनों से मेरे उपर वार किया और मुझे घायल कर दिया. अब तो मुझे यकीन हो गया कि आज की रात मेरे जीवन की आखरी रात होगी. अब तो मैं हिल भी नहीं पा रहा था, और वो मुझे खाने के लिए आंगे बढ़ रहा था, तभी आचानक से मेरे कमरे में एक तेज़ रोशनी आई और वो आजिब सा इन्सान जल कर मर गया और मैं बेहोश हो गया, जब मुझे होश आय तो सुबह हो चुकी थी और मैं बेड में लेटा हुआ था, रूम भी एकदम सही था. मेरे शरीर के निशान भी मिट चुके थे. मुझे समझ में आ गया कि वो संत बाबा से मुझे अपनी शक्तियों से बचाया है.

और भी डरावनी कहानियां पढ़ना ना भूलें==>
समशन घाट की डरावनी आत्मा का कहर
खुनी चुड़ैल और गर्ल्स हॉस्टल का आतंक
डरावनी पायल की आवाज
खुनी पंजे का रहस्य

आशा है की ये डरावनी कहानी “horror story to read online” आपको पसंद आयी। कृपया इसे अपने दोस्तों और रिश्तेदारों के साथ फेसबुक और व्हाट्स ऍप पर ज्यादा से ज्यादा शेयर करें.

horror story in india

80%
Awesome
  • Design
loading...
You might also like