ga('send', 'pageview');
Articles Hub

दूसरे देश में-in the other country a new short motivational story by Ernest Hemingway

दूसरे देश में-in the other country a new short motivational story by Ernest Hemingway
in the other country a new short motivational story by Ernest Hemingway,inspirational story in hindi,inspirational story in hindi for students, motivational stories in hindi for employees, best inspirational story in hindi, motivational stories in hindi language
शरद ऋतु में भी युद्ध चल रहा था। मिलान शहर बेहद ठंडा था। खिड़कियों से बाहर देखना बेहद सुखद था। बहुत सारे शिकार खिड़कियों के सहारे लटके थे। अस्पताल में घुसने के लिए हम सभी नहर के ऊपर एक पुल को पार करते थे। तीन पुल थे जिसमे से एक को चुनना पड़ता था। अस्पताल बहुत पुराना था पर बहुत ही सुन्दर था। अक्सर आँगन से शव यात्राएं शुरू होती थी। एक डॉक्टर उस मशीन के पास आया और बोला -युद्ध से पहले आप क्या करना अधिक पसंद करते थे ?क्या कोई खेल खेलते थे ? हाँ फुटबॉल। मेरा घुटना नहीं मुड़ता था। डॉक्टर ने कहा -आप एक भाग्यशाली युवक है ,सब ठीक हो जाएगा। आप दुबारा विजेता की तरह फुटबॉल खेलेंगे। दूसरे मशीन में एक मेजर था जिसका हाथ एक बच्चे की तरह छोटा था। डॉक्टर पीछे के कमरे में गया और एक तस्वीर ले आया। उसने पूछा -‘कोई जख्म ?एक औद्योगिक दुर्घटना। डॉक्टर ने कहा। मेरी ही उम्र के तीन लड़के थे जो रोज वहाँ आते थे। तीनो को जीवन में कुछ ना कुछ बनना हम चारों इकट्ठे रहते थे। पर वहाँ के लोग हमसे नफरत करते थे। क्योंकि हम अफसर थे एक और लड़का था जो पहली बार मोर्चे पर गया और घायल हो गया। उन्होंने उसके चेहरे को पुनर्निर्मित कर दिया। था। हम में से कोई नहीं जनता था कि बाद में क्या होनेवाला है। बस इतना ही जानते थे की युद्ध हमेशा रहनेवाला है और यहां दुबारा नहीं आना है .एक लड़का जो वकील बनाना चाहता था वह मृत्यु के साथ लम्बे अरसे तक रहा था हम सब कोवा के बारे में जानते थे। यहां की लडकियां बेहद देशभक्त थी। मुझे तमगे इसलिए दिया गया था क्योंकि मैं एक अमरीकी था। मैं मरने से बेहद डरता था। तमगे वाले वे तीनो शिकारी बाज़ से थे। पर मैं बाज़ नहीं था। मेजर नियमित रूप से अस्पताल जाता था। पर मशीनो में विश्वास नहीं रखता था। क्या तुम शादीशुदा हो ?नहीं। तुम बहुत बड़े मुर्ख हो उसने कहा। आदमी को कभी शादी नहीं करनी चाहिए। क्यों ?खुद को खो देने की स्थिति में नहीं लाना चाहिए।
और भी प्रेरक कहना पढ़ना ना भूलें==>
भिखारी-an inspirational story of a begger in hindi language
बुद्धिमान काज़ी-A wise Kazi a new short hindi inspirational story written by ruskin bond
तीन फायदेमंद बातें-Three Beneficial thoughts a simple hindi story from old rome
in the other country a new short motivational story by Ernest Hemingway,inspirational story in hindi,inspirational story in hindi for students, motivational stories in hindi for employees, best inspirational story in hindi, motivational stories in hindi language
उसे वे चीज़ें ढूढ़नी चाहिए जो वह खो नहीं सकता। मुझे बेहद खेद है। मेरा इरादा अभद्र होने का नहीं है। मेरी पत्नी की मृत्यु हाल में ही हुयी है। मुझे भी बेहद खेद है मैंने भी व्यथित होकर कहा। उसने रोना शुरू कर दिया। सहने में शायद बिलकुल असमर्थ। मेजर की पत्नी निमोनिया से मरी थी। उसकी मृत्यु को किसी को आशंका नहीं थी। मेजर तीन दिनों तक अस्पताल नहीं आया। जब वह आया तो दीवार पर चारों तरफ ठीक कर दिए जाने से पहले और बाद की हर तरह के जख्मों की फ्रेम की गयी बड़ी -बड़ी तस्वीरें लटकी थी। जो मशीन मेजर इस्तेमाल करता था उसके सामने उसके हाथों तीन तस्वीरें थी। जिन्हे पूरी तरह ठीक कर दिया गया था। कोई नहीं जनता डॉक्टर उन्हें कहाँ से लाया। मैं हमेशा समझता था मशीनो का इस्तेमाल करनेवाले हम ही पहले लोग थे। तस्वीरों से मेजर को कोई ज्यादा अंतर नहीं पड़ा क्योंकि वह केवल खिड़की से बाहर देखता रहता था

मैं आशा करता हूँ की आपको ये story आपको अच्छी लगी होगी। कृपया इसे अपने दोस्तों और रिश्तेदारों के साथ फेसबुक और व्हाट्स ऍप पर ज्यादा से ज्यादा शेयर करें। धन्यवाद्। ऐसी ही और कहानियों के लिए देसिकहानियाँ वेबसाइट पर घंटी का चिन्ह दबा कर सब्सक्राइब करें।

Tags-in the other country a new short motivational story by Ernest Hemingway,inspirational story in hindi,inspirational story in hindi for students, motivational stories in hindi for employees, best inspirational story in hindi, motivational stories in hindi language

80%
Awesome
  • Design
loading...
You might also like