ga('send', 'pageview');
Articles Hub

अक्लमंद कौन-Intelligent who a new short hindi language inspirational story of a king

अक्लमंद कौन?
Intelligent who a new short hindi language inspirational story of a king,inspirational story in hindi,inspirational story in hindi for students, motivational stories in hindi for employees, best inspirational story in hindi, motivational stories in hindi language
एक राजा था बड़ा ही न्यायप्रिय और प्रजापालक। उसने एक बार एक अनोखा महल बनाने का विचार किया। बड़े से तालाब के बीच एक संगमरमर का महल बनवाया। वह अपने राज्य में आये हर परदेशी से पूछता कि तुम्हारे राज्य में इतना सुन्दर महल है क्या ? नए महल में गृह -प्रवेश के वक़्त बड़े -बड़े पंडित बुलवाये। गरीबों को भोजन करवाया ,चारो तरफ राजा की जय -जयकार होने लगी। उसने खूबसूरत सजावट करने का हुक्म दिया। महल को अच्छी तरह से सजा दिया गया। संयोग की बात है कि कैलाश पर्वत से भागी हुयी भूतों की टोली महल के ऊपर से गुजारी। सुनसान जगह और उसपर इतना खूबसूरत महल ,भूतों के मुखिया को जगह पसंद आ गया। भूतों ने डेरा जमाया और खाने -पीने के अपार भण्डार देखके उन सबों को बड़ा आनंद आया। रात भर महल में धमा -चौकड़ी मचाते रहे सबेरे होते ही सा निस्तेज हो गए। उसी दिन राजा ,रानी और राजकुमारियां महल में रहने के लिए आये। भूतों को दिन भर के चहल -पहल से बड़ा गुस्सा आया पर दिन यानी उजाले में वे लोग कुछ तो कर नहीं सकते थे। रात हुई भूतों के मुखिया ने कहा राजा रानी ,नौकर सबको पलंग समेत तालाब में फ़ेंक दो। यहां केवल हमलोग ही रहेंगे। बड़ा शोर -शराबा हुआ। बचाओ -बचाओ की अव्वाजे आने लगी। किसी तरह राजा के परिवार को बचाया गया। सभी लोग भाग कर पुराने महल में लौट गए। राजा हैरान -परेशान बड़े -बड़े बाबा -बैरागी आये एक ने कहा – यह कैलाश से भागी हुई भूतों की मंडली है। इसे कोई निकाल नहीं सकता। दक्षिणा की लालच में कुछ पंडितों ने पूजा -पाठ की और महल के चारों तरफ अभी मन्त्रित कीलें गाड़ दी रात हुई। भूतों ने पंडितों को उठा -उठाकर तालाब में फेकना शुरू कर दिया। सभी हाय -हाय करते भाग खड़े हुए। राजा बहुत दुखी हुवे। राजा ने एलान किया कि जो भी कोई इन भूतों को महल से बाहर कर देगा उससे राजकुमारी की शादी होगी और आधा राज -पाट भी सौंप दिया जाएगा। एक बूढ़े मुंशी जी थे। वे तो मर गए उनकी एक ही औलाद थी। बूढी पत्नी थी। लड़का और उसकी माँ भूख से बिलबिलाने लगे। उन्होंने तय किया कि या तो वह भूतों को निकल देगा या फिर भूखों मर जाएगा। या भूत ही मार डालेगा। एक तरकीब उसने सोची। उसने अपने स्वर्गीय पिता का कमल दान लिया एक पट्टी ली एक टाट का बोरा ,एक पैना चाकू ,और लालटेन और माँ से बीड़ा ली। वह भूतों के महल में जा पहुंचा। उसने पहरा दे रहे सिपाहियों से कहा कि गेट खोल दो ,वह भूतों से लड़ने आया है। गेट खोल दिया गया । सभी उस लड़के की नादानी पर हंस रहे थे। महल में भूत शोर मचा रहे थे। लड़का बोला – भोले बाबा को तुम्हारे यहां रहने का पता चल गया है मैं मुंशी चित्रगुप्त की औलाद हूँ लड़के की बात सुनकर महल में सन्नाटा छा गया लड़का अपना सभी सामान लेकर सीढ़ियों पर चढ़ने लगा। बोला -जितने भूत भागे है ,सभी सामने आये। और अपना नाम लिखवाएं। अगर नहीं लिखवाये तो आधे पहर के भीतर बीरभद्र की टोली आकर सभी भूतों को जला डालेगी।
नदी के पार-Beyond the river a new short motivational story in hindi language
स्वप्नमयी-a new short hindi motivational by vishnu prabhakar of a mother
दुखवा मै कासे कहूं मोरी सजनी-a new short motivational story in hindi by acharya chatursen
Intelligent who a new short hindi language inspirational story of a king,inspirational story in hindi,inspirational story in hindi for students, motivational stories in hindi for employees, best inspirational story in hindi, motivational stories in hindi language
भूत बेचारे डरते आये। सभी का नाम पूछा गया। चाकू निकालकर लड़के ने कहा -सामने बैठो ,तुम्हारी नाक काटूंगा। सज़ा तो मिलेगी या तो नाक कटवाओ या आग में जलो। भूत गिड़गिड़ाने लगे। एक -एक कर भूत आते ,नाम लिखवाते और भाग जाते। उस लड़के ने सभी भूतों की नाकेँ एक बोरी में भरी और उसे सील दिया और उसी पर सर रखकर सो गया। सभी नक् काटते भूत डरकर भाग खड़े हो गए। सिपाहियों ने सुबह होने पर देखने आये की लड़का तो मर चुका होगा पर लड़का तो खर्राटे लेकर सो रहा था। राजा ने अपने वचन का पालन किया। उन्होंने पूछा कि आखिर किस मन्त्र से उसने भूतों को भगाया ? राजा को उसने बताया कि वह कायथ का बेटा है बुद्धि से काम लेता हूँ। इसलिए बुद्धू भूतों से जीत पाया। वह अपनी बूढी माँ के साथ महल में सुखी पूर्वक रहने लगा।

मैं आशा करता हूँ की आपको ये story आपको अच्छी लगी होगी। कृपया इसे अपने दोस्तों और रिश्तेदारों के साथ फेसबुक और व्हाट्स ऍप पर ज्यादा से ज्यादा शेयर करें। धन्यवाद्। ऐसी ही और कहानियों के लिए देसिकहानियाँ वेबसाइट पर घंटी का चिन्ह दबा कर सब्सक्राइब करें।

Tags-Intelligent who a new short hindi language inspirational story of a king,inspirational story in hindi,inspirational story in hindi for students, motivational stories in hindi for employees, best inspirational story in hindi, motivational stories in hindi language

80%
Awesome
  • Design
loading...
You might also like